Connect with us

Exclusive

एंटी -रोमियो अभियान में लगे पुलिस की हकीकत को तो जान लीजिए योगीजी!

Published

on

उत्तर प्रदेश में योगी राज है, माहौल ऐसा बन गया है जैसे कानून का राज लौट आया हो,  यूपी में अब चोरी, लूटपाट छेड़खानी जैसी घटनाएं बंद हो जाएंगी । इस सिलसिले में मेरी यूपी पुलिस के एक अधिकारी से बात हुई तो उन्होंने बिना किसी लाग -लपेट के साफ- साफ कह दिया चाहे कोई आ जाए जैसा चलता आया था वैसा ही चलता रहेगा ।

उस पुलिस अधिकारी ने साफ -साफ कहा कि किसी सरकार में इतनी हैसियत नहीं कि अव्यवस्था के इस गठजोड़ का खात्मा कर दे । अधिकतम अपराध नेता और पुलिस की सहमति से ही होते रहे हैं ।  हां! अगर सरकार चाहती है तो अधिकतम 8 से 10 प्रतिशत मामला सुधरा हुआ बाहर से लगेगा  लेकिन भीतर से जैसा था वैसा ही रहेगा ।

यूपी में क्यों नहीं सुधर सकता सिस्टम इस उत्सुकता में मेरी मुलाकात हाल ही में वहां के एक ऐसे कांस्टेबल से हुई जिसने पुलिस के आला -अधिकारियों की नाक में दम कर रखा हैं । उस शख्स की बातें सुनी तो लगा जैसे हाथी के नाक के चींटी घुस गई हो । उस शख्स से हुई पहली बातचीत का ब्यौरा मैं आपके सामने रख रहा हूं जिसे सुनकर आप भी कहेंगे ये कांस्टेबल तो किसी भी दिन मारा जाएगा । 

कांस्टेबल का नाम है सुशील कौशिक । इस वक्त ये कांस्टेबल क्षेत्राधिकारी औद्योगिक नोएडा में पदस्थ है । इसकी शिक्षा एमए और एलएलएम है । कौशिक की कहानी करवट लेती है 2005 से जब ये नोएडा 49 थाने में पदस्थ था । कौशिक ने देखा कि कैसे वहां के  पुलिसवाले बांग्लादेशी मजदूरों के उठा लाते हैं और उन्हें तब तक परेशान करते हैं जब तक इन्हें लानेवाला ठेकेदार पुलिस को एक निश्चित रकम नहीं दे देता । 

इस कांस्टेबल ने वहां चल रहे कबाड़ी और खाकी के गठजोड़ को भी उजागर किया । जिसमें कबाड़ी निर्माणाधीण बिल्डिंगों के बिल्डिंग मटेरियल को चुराते थे और उसमें पुलिस को एक निश्चत हिस्सा मिलता था । जब कौशिक ने इसके लिए  जिम्मेदार अधिकारियों की नामजद शिकायत दर्ज करवाई तो बजाय आरोपियों की जांच होने के कौशिक का ही ट्रांसफर नोएडा से सीधे झांसी कर दिया गया ।  

साल 2005 -06 में झांसी में रहते हुए सुशील कौशिक ने पाया कि कैसे चुनाव ड्यूटी में लगे पुलिस कर्मचारियों का पैसा आला अधिकारी डकार रहे हैं । इस बार कौशिक ने पूरी जानकारी आरटीआई से हासिल की और बाकायदा यूपी होम सेक्रेटरी और डीजीपी से की । धारा 156-3 के तहत मामले को लेकर कोर्ट में भी गये । आईजी को इस मामले में जांच करनी पड़ी और मामला आज भी एंटी करप्शन कोर्ट में चल रहा है । लेकिन कांस्टेबल कौशिक को झांसी के रीलीव करके बुलंदशहर भेज दिया गया ।

साल 2007 में कौशिक ने   बुलंदशहर में फिर आरटीआई लगाई कि कैसे चुनाव में लगे पुलिसवालों का पैसा अधिकारी डकार रहे हैं । मामले की जांच शुरु हुई लेकिन गाज गिरी कांस्टेबल पर । कौशिक का तबादला बुलंदशहर से बागपत हो गया । बागपत में कौशिक ने कुछ ऐसा किया कि पूरी यूपी पुलिस हिल गई । 

कौशिक ने देखा पुलिस कर्मचारियों के वेतन से बिना उनकी स्वीकृति के 50 रुपये कटता था और उसका इस्तेमाल होता था एसएसपी आवास में लगे जनरेटरों में तेल डालने के लिए । यहां उन्होंने पाया कि सालों से एक परंपरा बन गई थी कि पुलिस कर्मचारियों की सैलेरी से बिना उनकी स्वीकृति के पुलिस कल्याण, डिसट्रिक्ट एमीनिटी फंड, शिक्षा, खेलकूद और मनोरंजन के नाम पर 30 रुपये काट लिया जाता था । 

जब कौशिक ने इस बात पर आपत्ति की तो उनको लाइन हाजिर कर दिया गया  और अधिकारी ने उनकी गोपनीय रिपोर्ट तैयार कर उन्हें बागपत से फैजाबाद ट्रांसफर कर दिया । इस मामले को लेकर कांस्टेबल ने जब इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया तो राज्य के 5 आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज हो गया । 

ये कांस्टेबल जहां जाता वहीं के अधिकारियों की कलई खोलने में लग जाता था । साल 2010 में इसने फैजाबाद के एसपी के खिलाफ जब मोर्चा खोला तो हमेशा की तरह इनका ट्रांसफर फैजाबाद से नोएडा कर दिया गया । नोएडा आकर कांस्टेबल ने देखा कि मामूली सैलरी पाने वाले पुलिसवालों ने करोड़ों रुपये की बेनामी संपत्ति बना रखी है। कौशिक ने इसे उजागर करने के लिए आरटीआई लगा रखी है और जवाब का इंतजार कर रहे हैं ।

कांस्टेबल कौशिक ने अपने स्तर पर भी ,अपना पैसा खर्च करके उन पुलिसवालों की संपत्ति का ब्यौरा इकहट्टा कर रहे हैं जिनकी करोड़ों रुपयों की बेनामी संपत्ति है  और उन्हें इंतजार है अगले ट्रांसफर का । 

योगीराज में कौशिक का अगला ट्रांसफर ये तय करेगा कि प्रदेश में क्या में राज बदला है या फिर व्यवस्था भी बदली है ? योगी उस पुलिस से भ्रष्ट्राचार को साधने में ताकत लगा रहे है जो खुद उसका हिस्सा मालूम पड़ रहा है । कांस्टेबल कौशिक ने पुलिस के भीतर के कई ऐसे भन्नादेने वाले खुलासे किये जिसके सामने  पेशेवर अपराधी शरीफ लगता है । कांस्टेबल का कहना है कि जिस पुलिस के दम पर योगीजी एंटी रोमियो अभियान चला रहे हैं पहले उन पुलिसवालों की हकीकत तो पता कर लेते ।    

कुल जमा कहानी इतनी ही मालूम पड़ती है कि सरकारें आएंगी जाएंगी लेकिन अव्यवस्था का गठजोड़ अपने पूरी गुंजाइश के साथ फलता- फूलता रहेगा और सुशील कौशिक जैसे कांस्टेबलों का ट्रांसफर होता रहेगा ।     

 ( ये लेख कांस्टेबल सुशील कौशिक से बातचीत के आधार पर लिखा गया है )

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Crime

EXCLUSIVE VIDEO: चलती ट्रेन में स्कूली बच्चे कर रहे हैं जानलेवा स्टंट, देखिये का स्टंट एक दर्जन वीडियो

ये बच्चे डाकयार्ड रोड रेलवे स्टेशन पर रोज़ाना 12noon to 1.30pm के बीच स्टंट करते हैं और इसकी जानकारी रेलवे पुलिस को भी है. लेकिन कभी भी इन्हें रोकने या पकड़ने की कोशिश नहीं हुई.

Published

on

मुंबई में हर दूसरे दिन एक नया चलती ट्रेन में स्टंट का वीडियो वायरल होने लगता है. हर बार वीडियो वायरल होने के बाद कहा जाता है की कुछ असामाजिक तत्वा इस तरह की हरकत करते हैं और जान लेवा स्टंट करके उसे वायरल करते हैं. लेकिन पहली बार आप अपनी आँखों से देखेंगे की स्टंट करने वाले सिर्फ कुछ असामाजिक तत्व नहीं हैं. बल्कि मुंबई में इन दिनों स्कूल जाने वाले छोटे छोटे बच्चे भी अपनी ज़िंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं. स्टंट करने वाले ये सभी बच्ची स्कूलों में पढ़ाई करते हैं जिनकी उम्र 9 से 12 साल ही है. और रोज़ इसी तरह ये बच्चे स्कूल जाते समय और लौटते वक़्त को खुलेआम चुनौती देते हैं.

पहली बार हमने इन बच्चो को ट्रेन में इस तरह स्टंट करते हुए कैमरे में क़ैद किया है. हमने एक नहीं दो नहीं बल्कि आधे दर्जन बच्चों को इस तरह से स्टंट करते हुए देखा है. सभी बच्चों के कंधे पर स्कूल का बस्ता और सिर पर मंडरा रही मौत के स्टंट का वीडियो आपको भी हैरान कर देगा. इस वीडियो को मुंबई के डॉकयार्ड स्टेशन पर शूट किया गया है. जिसमे ये बच्चे इस तरह से स्टंट करते हुए दिखाई दे रहे हैं. रोज़ यात्रा करने वाले लोगों ने बताया की ये कोई एक दिन की बात नहीं है बल्कि हर रोज़ इसी तरह ये बच्चे डाकयार्ड रोड रेलवे स्टेशन पर रोज़ाना 12noon to 1.30pm के बीच स्टंट करते हैं और इसकी जानकारी रेलवे पुलिस को भी है. लेकिन कभी भी इन्हें रोकने या पकड़ने की कोशिश नहीं हुई.

दो दिन पहले भी लोकल ट्रेन में एक लड़के के जानलेवा स्टंट का वीडियो वायरल हुआ था. वीडियो हार्बर लाइन के सैंडहर्स्ट स्टेशन पर शूट किया गया था. मोबाइल से बनाए गए इस वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि ट्रेन प्लेटफॉर्म से रवाना हो रही है और ये लड़का अपनी जान को जोखिम में डालकर स्टंट कर रहा है. चलती ट्रेन के साथ इस लड़के ने एक हाथ और एक पैर बाहर प्लेटफॉर्म पर लटका रखा था. ट्रेन आगे बढ़ती रही और ये लड़का जानलेवा स्टंट करता रहा. जब प्लेटफॉर्म से ट्रेन निकली तब जाकर ये ट्रेन के अन्दर चढ़ा. हालांकि स्टंट के दौरान जरा सी चूक से इस लड़के की जान जा सकती थी. उस वक़्त एक दूसरा आदमी मोबाइल से वीडियो बनाता रहा हालांकि वो विडियो में कहीं भी दिखाई नहीं दिया. ये पूरी घटना मंगलवार दोपहर की बताई जा रही है. वीडियो के सामने आने के बाद GRP और RPF ने लड़के की तलाश तेज़ कर दी है.

Continue Reading

Bollywood/Fashion

EXCLUSIVE: साजिद के बाद #Housefull4 से नाना पाटेकर की विदाई, तनुश्री मामले को लेकर प्रोड्यूसर पर था दबाव

बताया जा रहा है इस बाबत नाना पाटेकर को जानकारी दे दी गयी है. नाना चाहते थे की उन्हें भी पानी बात रखने का मौका मिले लेकिन ऐसा संभव नहीं हुआ. फिल्म के पूरे स्टारकास्ट ने इसके लिए साजिद नाडियाडवाला पर ज़बरदस्त दबाव बनाया था.

Published

on

फिल्ममेकर साजिद नाडियाडवाला की कॉमेडी सीक्वल फिल्म हाउसफुल 4 अचानक से मुश्किलों में फंसती नजर आ रही है. जिस सुबह फ्रेंचाइजी के डायरेक्टर साजिद खान, जिनके खिलाफ #MeToo मूवमेंट के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप था उनके बाद एक और बड़े नाम की विदाई तय हो है.

सूत्र बताते हैं की फिल्म से नाना पाटेकर को भी बाहर कर दिया गया है. जिसकी बड़ी वजह तनुश्री दत्ता मामला है. फिल्म के एक बड़े लीड ने प्रोड्यूसर पर इसके लिए डब्बाव बनाया था. उन्होंने साफ़ कर दिया था की अगर फिल्म से ये लोग बाहर नहीं जाते हैं तो वो बाहर जाने को तैयार हैं. हालंकि प्रोड्यूसर थोड़ा समय चाहते थे, लेकिन इस बड़े स्टार ने साफ़ मना कर दिया था.

बताया जा रहा है इस बाबत नाना पाटेकर को जानकारी दे दी गयी है. नाना चाहते थे की उन्हें भी पानी बात रखने का मौका मिले लेकिन ऐसा संभव नहीं हुआ. फिल्म के पूरे स्टारकास्ट ने इसके लिए साजिद नाडियाडवाला पर ज़बरदस्त दबाव बनाया था.

सूत्रों की मानें तो इससे हाउसफुल के प्रोड्यूसर साजिद नाडियाडवाला को बेहद नुकसान पहुंचता नजर आ रहा है. सूत्रों के मुताबिक हाउसफुल 4 फिल्म की शूटिंग अपने 3 शेड्यूल में लगभग 60 प्रतिशत खत्म हो चुकी है. वहीं फिल्म के चौथे शेड्यूल की शूटिंग मुंबई में आज से लोखंडवाला में शुरू हो चुकी है. जिसकी लगभग कीमत 14 करोड़ है.

वहीँ तनुश्री दत्ता भी नाना पाटेकर को हर तरफ से घेर रहीं हैं. उन्होंने मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कराने के बाद सिंटा को भी एक लेटर लिखा है. तनुश्री ने सिंटा से पुछा है की आखिर वो नाना पाटेकर के खिलाफ क्या कार्यवाही कर रहे हैं. अब जब पुलिस में FIR हो गया है तो सिंटा ने एक्टर के खिलाफ कोई भी कार्यवाही शुरू क्यों नहीं की, साथ ही एक्ट्रेस ने ये भी पुछा है की उनकी उनकी पुरानी शिकायत पर एक्शन का क्या हुआ जो उन्होंने मार्च 2008 में नाना पाटेकर के खिलाफ सिंटा में शिकायत की थी.

Continue Reading

Bollywood/Fashion

Exclusive: पढ़िए तनुश्री दत्ता का नाना पाटेकर के खिलाफ दिया गया पूरा बयान

शाम ठीक सात बजे बॉलीवुड एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता अपने वकील के साथ ओशिवारा थाने पहुंच गयीं थी. जिसके बाद मुंबई पुलिस के दो बड़े अफसरों ने करीब पांच घंटे तक तनुश्री दत्ता का बयान दर्ज किया है. जिसके बाद उन्हें रात 12 बजे के करीब जाने की अनुमति मिली. इस दरम्यान एक्ट्रेस के वकील नितिन सातपुते भी उनके साथ रहे. जल्द ही इस मामले में पुलिस कुछ गवाहों का बयान भी दर्ज करेगी और कल इस मामले में आरोपी बनाए गए सभी आरोपियों को नोटिस भी भेजेगी.

Published

on

नाना पाटेकर पर यौन शोषण का आरोप लगाने और उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने के बाद बुधवार को ऐक्ट्रेस तनुश्री दत्ता मुंबई के ओशिवरा पुलिस स्टेशन में अपना बयान दर्ज करवाने पहुंचीं.

तनुश्री ने शिकायत में नाना के साथ ही कोरियॉग्राफर गणेश आचार्य का नाम भी दर्ज करवाया है.

शाम ठीक सात बजे बॉलीवुड एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता अपने वकील के साथ ओशिवारा थाने पहुंच गयीं थी. जिसके बाद मुंबई पुलिस के दो बड़े अफसरों ने करीब पांच घंटे तक तनुश्री दत्ता का बयान दर्ज किया है. जिसके बाद उन्हें रात 12 बजे के करीब जाने की अनुमति मिली. इस दरम्यान एक्ट्रेस के वकील नितिन सातपुते भी उनके साथ रहे. जल्द ही इस मामले में पुलिस कुछ गवाहों का बयान भी दर्ज करेगी और कल इस मामले में आरोपी बनाए गए सभी आरोपियों को नोटिस भी भेजेगी.

पुलिस इस मामले में आरोपी बनाए गए सभी आरोपियों का पहले बयान दर्ज करेगी, जिसके बाद इनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है.

क्या है पूरा मामला?
तनुश्री ने नाना पाटेकर पर शूटिंग के दौरान बदतमीजी और छेड़छाड़ का आरोप लगाया है. तनुश्री का आरोप है की साल 2008 में जब वो फिल्म ‘हॉर्न ओके’ प्लीज की शूटिंग कर रहीं थी तब नाना ने उनके साथ जोर जबरदस्ती की कोशिश की थी. लेकिन सेट पर मौजूद गाने के कोरियेाग्राफर गणेश आचार्य, डायरेक्‍टर राकेश सारंग और प्रोड्यूसर सामी सिद्दीकी किसी ने उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की.

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this:
Bitnami