0

बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए राहत सामग्री ले जा रहा हेलीकॉप्टर उत्तरकाशी में क्रैश हो गया है. हेलीकॉप्टर उत्तरकाशी जिले के मोरी से मोल्डी जा रहा था. हेलीकॉप्टर में तीन लोगों के सवार होने की खबर है. इनमें पायलट राजपाल, को-पायलट कप्ताल लाल और एक स्थानीय निवासी रमेश सवार हेलिकॉप्टर में थे. उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के आराकोट और आस-पास के इलाकों में बीते रविवार को बादल फटने और भूस्खलन से मची तबाही में 12 लोगों की मौत हो गई थी. बताया जा रहा है कि बादल फटने के कारण हुए हादसे के बाद राहत और बचाव अभियान चलाया जा रहा है. बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हेलिकॉप्टर को भी राहत और बचाव कार्य में लगाया गया था.

Related Post:  केरल में हाहाकार: बाढ़ से 14 लोगों की मौत, कोच्चि एयरपोर्ट पानी में डूबा, उड़ान सेवा 11 अगस्त तक बंद 

पिछले दो दिनों में हुई यहा भारी बारिश के चलते प्रदेश की छोटी-बड़ी सभी नदियां उफान पर हैं और हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान को पार कर गयी. उत्तरकाशी के जिला प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया था, “जिले के माकुडी गांव से सोमवार शाम को दो और शव बरामद हुए, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर अब 12 हो गयी है.” उन्होंने बताया था कि एक को छोड़कर बाकी सभी शवों की पहचान कर ली गयी है. बादल फटने और भूस्खलन की घटनाओं में आराकोट, माकुडी, मोल्डा, सनेल, टिकोची और द्विचाणु में कई मकान ढह गये थे.

Related Post:  महाराष्ट्र के कोल्हापुर में जल प्रलय, सांगली में बाढ़, सेना ने बचाई 50 हजार जानें, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

अधिकारी ने बताया था, “खराब मौसम के कारण रविवार को तलाश और राहत अभियान बाधित रहा, हालांकि सोमवार सुबह मौसम अपेक्षाकृत साफ होने के बाद में इसमें तेजी आयी और भारतीय वायु सेना के चार हेलीकॉप्टरों की सहायता से खाने के पैकेट, राशन और जरूरी दवाइयों समेत राहत सामग्री प्रभावित क्षेत्रों तक पहुंचायी गयी थी.”

abhi

जेम्स बॉन्ड सीरीज की 25वीं फिल्म का टाइटल है ‘नो टाइम टू डाई’, 3 अप्रैल को होगी रिलीज

Previous article

घाटी में आर्टिकल 370 हटाये जाने के बाद घाटी में पहला एनकाउंटर, SPO बिलाल शहीद

Next article

You may also like

More in Top Stories

Comments

Comments are closed.