0

गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रविवार को कहा कि देवरिया और फतेहपुर जिलों में अवैध बालू खनन के लिए उसने प्रजापति, पांच आईएएस अधिकारियों और कुछ अन्य पर धन शोधन का मामला दर्ज कराया है. ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दिल्ली में कहा, “एजेंसी ने प्रजापति, तत्कालीन मुख्य सचिव जीवेश नंदन, विशेष सचिव संतोष कुमार, तत्कालीन जिला अधिकारियों -अभय कुमार सिंह और विवेक और कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ धन शोधन का मामला दर्ज किया है.”

Related Post:  IMA Jewels Scam : आईएमए प्रमुख मंसूर खान का पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण की पेशकश, जारी किया वीडियो

ईडी ने कहा कि उसने पिछले महीने दर्ज सीबीआई की एफआईआर के आधार पर आपराधिक मामला दर्ज किया. ईडी ने 16 जुलाई को लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में तीन घंटों तक प्रजापति से पूछताछ की थी.
ईडी ने प्रजापति से फतेहपुर जिले में शिव सिंह और सुखराज को बालू खनन के तीन लाइसेंस देने में उनकी भूमिका के बारे में पूछताछ की. अधिकारी ने कहा कि एजेंसी को शक है कि शिव सिंह और सुखराज से मिले धन से लखनऊ, रायबरेली और अमेठी में संपत्ति खरीदी गई.
एजेंसी की योजना प्रजापति के बेटों -अनिल और अनुराग- से भी पूछताछ करने की है. सीबीआई ने पिछले महीने बुलंदशहर के जिला अधिकारी अभय कुमार सिंह और देवरिया के पूर्व जिला अधिकारी विवेक व अन्य के ठिकानों पर छापेमारी की थी. अभय कुमार सिंह पूर्व में फतेहपुर के जिला अधिकारी रह चुके हैं.

Related Post:  NEWS FLASH: आईसीआईसीआई-वीडियोकॉन कर्ज धोखाधड़ी मामले में चंदा कोचर ईडी में पेश
abhi

नवदीप सैनी के डेब्यू के बाद दो सीनियर क्रिकेटरों पर भड़के गंभीर, फिर बेदी ने उन्हें जवाब दिया

Previous article

गोदावरी में उफान के बाद आंध्रप्रदेश में 70 हजार से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित

Next article

You may also like

More in Top Stories

Comments

Comments are closed.