Connect with us

Mumbai

सालों से फरार आरोपियों की धरपकड़ शुरू

Published

on

मुंबई पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक मुंबई शहर के तमाम पुलिस स्टेशनों के पुलिस रिकॉर्ड में 1992 से लेकर 2011 तक फरार आरोपी की संख्या 4020 है। जब की पुलिस के मुताबिक अब ये संख्या बढ़ कर 4500 से ज्यादा पहुँच गई है और आपराधिक मामले 1600 से अधिक है। इनमें छिटपुट आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने से लेकर गंभीर अपराध तक शामिल हैं।

मुंबई पुलिस आयुक्तालय द्वारा अपराध और आपराधिक घटनाओं में कमी लाने के लिए हाल में सभी पुलिस स्टेशनों को आदेश जारी हुए हैं। आदेश ये हैं कि संबंधित पुलिस स्टेशन की जद से भागे हुए अपराधियों को जल्द से जल्द पकड़ा जाए और लंबित मामलों की शीघ्र सुनवाई हो। सूत्रों के अनुसार नैशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक, अपराध के मामले में मुंबई व महाराष्ट्र की स्थिति आपराधिक राजधानी बन चुकी दिल्ली से बेहतर नहीं है। यहां भी साल दर साल अपराध के ग्राफ में इजाफा हो रहा है। रोजाना औसतन 2 से 3 मामले दर्ज हो रहे हैं। जहां हजारों मामले लचर कानूनी प्रक्रिया के चलते लंबित हैं, वहीं पैसे या पैरवी के अभाव में आज भी कई आरोपी सलाखों के पीछे हैं। कुछ तो ऐसे भी हैं, जो गुनाह करके सालों से फरार हैं।

मुंबई पुलिस के अधिकारियों के अनुसार आयुक्त कार्यालय से आदेश मिलने के बाद पुलिस स्टेशनों में फरार आरोपियों की फाइलों को दोबारा खोलकर और पुलिस की खास टीम बनाकर उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार कर इनके संबंधित तमाम फाइलों को बंद करने में पुलिस वयस्त हो गई है। ज्ञात हो की जो आरोपी पिछले 28 साल से फरार थे, वह भी पुलिस की गिरफ्त में आ गया है और इसी तरहा बहुत से फरार अपराधी पुलिस के हत्थे चढ़ गए है। जिनको ये भी अभाव नहीं था की वह कभी पुलिस की पकड़ में आ सकते है। पुलिस के मुताबिक कुछ आरोपी तो फरार होने के बाद से वेटर,चालक,किसान और मोची जैसे पेशे को अपनाकर अपनी आपराधिक छवि को छुपाने में जुटे थे। लेकिन मुंबई पुलिस की मुस्तैदी और सतर्कता से आखिरकार वे भी पकड़े गए हैं।

देवनार और शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन से हुई शुरुआत।

आपराधिक गतिविधियों में लिप्त फरार आरोपियों को पकड़ने की शुरुआत देवनार और शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन से हुई है। देवनार पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दतात्रेय शिंदे के मार्गदर्शन में पुलिस उप निरीझक प्रदीप भीताड़े और सहायक पुलिस उप निरीक्षक गंगाराम मेघवाले, पुलिसकर्मी दगडू कदम, अनिल आवरे , सचिन जाधव और मधुकर वायदंडे की टीम ने वारदात को अंजाम देने के बाद वर्षों से अज्ञात जगह पर छिपे हुए आरोपियों को घात लगा कर गिरफ्तार किया है। बहुत सी जगह पर इस टीम ने हुलिया बदल कर छिपे हुए अपराधियों को पकड़ा है। जो की अपराध को अंजाम देकर 10 से लेकर 28 साल तक के फरार तक फरार थे।

देवनार पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दतात्रेय शिंदे के मुताबिक सालों से फरार चल रहे आरोपियों को गिरफ्तार करना कठिन काम है। इसके लिए मुंबई पुलिस खास अभियान चला रही है लेकिन पुलिस को सफलता भी प्राप्त हुई है। इन्होने बताया के पुलिस उप निरीझक प्रदीप भीताड़े और उनकी टीम ने भी 28 साल से फरार चल रहे आरोपी को गिरफ्तार कर उदाहरण पेश किया गया है और इस टीम ने २०१७ में १७२ अपराधिओं को गिरफ्तार किया है। इसी तरहा कई ऐसे अपराधी को गिरफ्तार किया है जो बरसो से फरार थे।

शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दीपक पगारे के अगुवाई में सहायक पुलिस निरीक्षक संतोष नारूटे और सहायक पुलिस निरीक्षक वैभव पनसारे और उनकी की टीम कांस्टेबल एस वाय कांबले , आर आनडे और एस बड़े ने 2017 में 90 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जो कई वर्षो से फरार थे। जिनमे हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती , मारपीट आदि शामिल है। सहायक पुलिस निरीक्षक संतोष नारूटे के अनुसार पुलिस अभी उन अपराधियों की तलाश कर रही है। जो की आपराधिक मामलों में शामिल है और पुलिस की पकड़ से दूर है।

सालों बाद हाथ आए आरोपी देवनार पुलिस के।

1) 27 साल पहले 1990 में जान से मारने की धमकी देने के मामले में देवनार पुलिस ने आरोपी नजीर जब्बार शेख (48) के खिलाफ मामला दर्ज किया था। पुलिस ने 27 साल बाद फरार शेख को रत्नागिरी से गिरफ्तार किया, जो वहां दर्जी बनकर काम कर रहा था।

2) 25 साल से फरार परशुराम सिंगलप्पा उर्फ़ परशा (38) को के चोरी के मामले में 1993 से फरार था और दाना बन्दर मस्जिद बन्दर में टेम्पो चालक बन कर काम कर रहा था।

3) विवेकानंद सरवदे (35) जो की शिवाजी नगर इलाके में रहता था 19 साल से फरार था और इस पर 1999 में घर में चोरी का मामला देवनार पुलिस स्टेशन में दर्ज हुआ था और तब से ये फरार था ,सोलापुर के लकी होटल में वेटर का काम कर रहा था।

4) मारुती पंहलकर (४३) के खिलाफ भी २००१ में देवनार पुलिस स्टेशन में चोरी का मामला दर्ज था और तब से फरार हो कर सतारा गांव नाम बदल कर में खेती का काम कर रहा था इसकी गिरफ्तारी १७ साल बाद हुई है।

5) देवनार पुलिस स्टेशन में 17 साल पहले 2000 में दर्ज चोरी के एक मामले में फरार चल रहे आरोपी संदीप मारुति पाटील (41) को पुलिस ने अलीबाग से गिरफ्तार किया। फरार होने के बाद से पाटील अलीबाग में खेती-किसानी का काम कर रहा था। और इसी तरह अनगिनत अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है जो बरसो से पुलिस की आँखों में धूल झोक कर फरार थे।

 

Bollywood Crime

कामसूत्र एक्ट्रेस सायरा खान की मौत, मौत से 48 घंटे पहले एक्ट्रेस ने डायरेक्टर को भेजा था वॉयस मैसेज

फिल्म ‘कामसूत्र 3D’ की एक्ट्रेस सायरा खान का शुक्रवार को निधन हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक सायरा का निधन कार्डियक अटैक की वजह से हुआ है।

Published

on

फिल्म ‘कामसूत्र 3D’ की एक्ट्रेस सायरा खान का शुक्रवार को निधन हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक सायरा का निधन कार्डियक अटैक की वजह से हुआ है। ‘कामसूत्र 3D’में सायरा ने चर्चित अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा की जगह ली थी। अब यह बात सामने आ रही है कि मौत से 48 घंटे पहले एक्ट्रेस ने ‘कामसूत्र 3D’ के डायरेक्टर रुपेश पॉल को वॉयस मैसेज भेजा था।

र‍िपोर्ट के मुताब‍िक सायरा वेब सीरीज में काम करने की प्लान‍िंग कर रही थी। लेकिन सीरीज के ल‍िए प्रोड्यूसर नहीं मिल पाने की वजह से मामला रुका हुआ था। इसी के बारे में सायरा ने अपनी फ‍िल्म के डायरेक्टर को वॉयस मैसेज द‍िया था। इस बारे में जब रुपेश पॉल से बातचीत की गई तो उनका कहना है कि हां ये सच है सायरा वेबसीरीज में लीड रोल करना चाहती थी। मैंने उसे यह साफ बता द‍िया था कि हमारे पास उसके अपोज‍िट कास्ट करने के लिए कोई बड़ा मेल स्टार नहीं है।

रुपेश पॉल ने बताया, इसके बाद सायरा ने कहा था कि उसका एक दोस्त वेब सीरीज प्रोड्यूस करने के लिए तैयार है। मैं इस प्रोजेक्ट के बारे में सोच ही रहा था कि तभी मुझे इस शॉकिंग न्यूज के बारे में पता चला। इस खबर से मैं सदमें में हूं। सायरा की प्लान‍िंग कोई और ही थी, ईश्वर को कोई और ही मंजूर था।

सायरा ने ‘कामसूत्र 3D’ में फिल्म में चर्चित अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा की जगह ली थी। इस फ‍िल्म पर जमकर विवाद भी हुआ था। सायरा की मौत पर रुपेश पॉल ने दुख जताते हुए बताया, शर्लिन की जगह लेने के बाद सायरा ने बहुत ही मुश्किलों का सामना किया। उन्होंने कहा कि सायरा के लिए ये किरदार बेहद ही चुनौतीपूर्ण था। वो एक मुस्लिम परिवार से थीं, जो बहुत ज्यादा रूढ़ीवाद परिवार था। इस वजह से सायरा को फिल्म में लेने में हमें सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा। लेकिन जब सायरा ने किरदार निभाया तो उन्होंने साबित भी कर दिया कि उनसे बेहतर ये किरदार कोई निभा भी नहीं सकता था।

Continue Reading

Bollywood Crime

नौकरानी ने एक्ट्रेस किम शर्मा के खिलाफ दर्ज कराया मामला, सैलरी ना देने और धमकाने के आरोप

इन दिनों बॉलीवुड एक्ट्रेस दो कारणों से खूब चर्चा में हैं। एक तो सड़क पर खुल्लम खुल्ला प्यार और खार थाने में उनके खिलाफ बार बार शिकायत।

Published

on

मुंबई: इन दिनों बॉलीवुड एक्ट्रेस दो कारणों से खूब चर्चा में हैं। एक तो सड़क पर खुल्लम खुल्ला प्यार और  खार थाने में उनके खिलाफ बार बार  शिकायत। पहले एक बिज़नेसमैन ने किम पर उनके कार की चोरी का आरोप लगाया तो अब उनकी ही नौकरानी ने उन पर उसकी सैलरी ना देने मारपीट करने और धमकाने का आरोप लगाया है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस किम की नौकरानी रही नम्रता सोलंकी नाम की महिला ने अपने केस में यह आरोप लगाये हैं कि किम ने उन्हें सैलरी नहीं दी और धमकी देकर उसके खिलाफ पुलिस में गलत शिकायत दर्ज करायी है। उसका आरोप है कि, एक्ट्रेस ने उसे जान से मरने की धमकी तक दी है।

घर का काम करने वाली नम्रता का आरोप है कि उसे पिछले एक महीने से सैलरी नहीं मिली और जब उसने किम शर्मा से सैलरी मांगी तो किम भड़क गेन और उसे धमकाने लगीं।यहाँ तक की किम ने मारने तक की कोशिश की, जिसके बाद नम्रता खार पुलिस थाने पहुंचीं और फिर किम के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी। अब इस मामले में मुंबई पुलिस एक्ट्रेस किम शर्मा से पूछताछ करेगी।

ये कोई पहली बार नहीं हैं जब किम पर इस तरह का आरोप लगा हो। इससे पहले 2018 में भी उनकी घर काम करने वाली 31 साल की एस्थर खेस ने किम पर सैलरी न देने और मारपीट करने का आरोप लगाया था।

ये घटना 21 मई कि है जब वो कपड़े धो रही थी तो वो लाईट और डार्क कलर के कपड़ों को अलग करना भूल गई। जिससे कुछ कपड़ों में हलके से रंग छूटने लगे और एक कपडे पर उसका दाग आ गया। जिससे एक्ट्रेस बेहद नाराज़ हो गईं। गुस्से में किम ने उसके साथ बुरी तरह मारपीट कि और घर से निकल जाने के लिए भी कहा। यही नहीं किम ने उसकी सैलरी तक नहीं गई। जब कभी भी वो अपनी सैलरी के लिए उनके पास गई किम ने उसके साथ बहुत बुरा बर्ताव किया ।

किम शर्मा के इन हरकतों से परेशान होकर काम करने वाली महिला ने 27 जून को उनके खिलाफ खार पुलिस में अभिनेत्री के खिलाफ नॉन-कॉग्निजेबल अपराध का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने एक्ट्रेस के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 और 504 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। वहीँ किम का आरोप है कि उन पर ये सब आरोप बेबुनियाद हैं।

Continue Reading

Crime

मुंबई पुलिस ने बढ़ाई उर्मिला मातोंडकर की सुरक्षा, कुछ लोगों ने रोड शो में घुसकर हंगामा किया था

उत्तर मुंबई से कांग्रेस की उम्मीदवार उर्मिला मातोंडकर की सुरक्षा मुंबई पुलिस ने बढ़ा दी है। पुलिस ने ये फैसला उर्मिला के रोड सभा में हंगामा के बाद लिया है

Published

on

उत्तर मुंबई से कांग्रेस की उम्मीदवार उर्मिला मातोंडकर की सुरक्षा मुंबई पुलिस ने बढ़ा दी है। पुलिस ने ये फैसला उर्मिला के रोड सभा में हंगामा के बाद लिया है। उर्मिला ने भी इस पूरे हंगामे के बाद बोरीवली थाने में लिखित शिकायत भी दर्ज कराई है। पुलिस ने भी हंगामा करने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सोमवार को मुंबई के बोरीवली रेलवे स्टेशन के पास उर्मिला मातोंडकर की रैली जा रही थी, उसी दरमियान कुछ लोग नारेबाजी करने लगे थे। जिसके बाद कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिस भी की, लेकिन वो नहीं मानें। जिसे लेकर दोनों गुटों में झड़प हो गई मौके पर पहुंची पुलिस ने माहौल को शांत किया।

इस मामले को लेकर उत्तर मुम्बई कांग्रेस उम्मीदवार उर्मिला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और बताया कि भाजपा ने अपने भाड़े के गुंडों द्वारा कांग्रेस की रैली में जानबूझकर हंगामा करवाया गया है।

जोन 11 के डीसीपी संग्राम सिंह निशानदार ने बताया कि, कांग्रेस पार्टी की बोरीवली रेलवे स्टेशन परिसर में सभा चल रही थी।उसी दौरान कुछ युवक से उनकी कहाँ सुनी हुई है जिसको लेकर उर्मिला ने बोरीवली को लिखित शिकायत दिया है। जिसके आधार पर हम जांच कर रहे है, फिलहाल कांग्रेस उम्मीदवार को महिला सुरक्षा दी गई है।

Continue Reading

Bitnami