Connect with us

Sports

अब नई ज़िम्मेदारी संभालेंगे चेतेश्वर पुजारा, ट्विटर पर ट्वीट कर पुजारा ने दी जानकारी

Published

on

टेस्ट में भारतीय टीम के बल्लेबाज़ चेतेश्वर पुजारा के घर नन्ही सी परी ने जन्म लिया है। गुरुवार को उनकी पत्नी पूजा ने बेटी को जन्म दिया है। डॉक्टर की माने, तो जच्चा बच्चा दोनों भी सुरक्षित है। चेतेश्वर पुजारा ने घर आई खुशियों का इजहार उन्होंने ने ट्विटर पर फोटो ट्वीट कर किया है।

 

पुजारा ने ट्वीटर पर अपनी बेटी के साथ फोटो शेयर किया है। फोटो में उनकी पत्नी पूजा डाबरी भी है। फोटो शेयर करते हुए पुजारा ने लिखा है कि ‘नन्ही बेटी का स्वागत है, जिन्दगी की नई भूमिका के लिए हम बहुत उत्साहित और खुश हूं। नई भूमिकाएं निभाने का मौका मिल रहा है। हमने जो चाहा था वह मिल गया है।’

 

बता दे पूजा ने जब बेटी को जन्म दिया तब पुजारा उस वक़्त उनके साथ मौजूद नहीं थे। उस समय चेतेश्वर पुजारा विजय हज़ारे ट्रॉफी में अपने टीम के लिए बड़ोदा के खिलाफ क्वार्टर फाइनल खेल रहे थे। इस मैच में पुजारा की टीम ने शानदार जीत हासिल की है।

Sports

अस्‍पताल में मौत से जूझ रहा टीम इंडिया का पूर्व खिलाड़ी, पत्‍नी के पास इलाज को पैसे नहीं, क्रिकेटर्स से मांगी मदद

अस्पताल का बिल 11 लाख रुपये के पार पहुंच गया है और मार्टिन को अभी और पैसों की जरूरत है। मार्टिन के परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है कि वह अकेले दम पर उनका इलाज करा पाए।

Published

on

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज जैकब मार्टिन पिछले महीने 28 दिसंबर को एक सड़क दुघर्टना में बुरी तरह घायल हो गए थे। इसके बाद से बडोदरा के अस्पताल में उनका इलाज किया जा रहा है और उन्हें लाइफ सपॉर्ट पर रखा गया है। मार्टिन के परिवार वाले उनके इलाज के लिए फंड जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। सड़क दुघर्टना में मार्टिन के फेफड़े और लीवर को काफी नुकसान पहुंचा है। अस्पताल का बिल 11 लाख रुपये के पार पहुंच गया है और मार्टिन को अभी और पैसों की जरूरत है।

मार्टिन के परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है कि वह अकेले दम पर उनका इलाज करा पाए। इस वजह से परिवार वालों ने उनके इलाज के लिए बीसीसीआई और दूसरे क्रिकेटर्स से मदद की गुहार लगाई। इसके बाद बीसीसीआई ने उनके इलाज के लिए पांच लाख रुपये की मदद की है, जबकि बड़ौदा क्रिकेट संघ ने उन्हें तीन लाख रुपये दिया है। बड़ौदा क्रिकेट संघ के एक अधिकारी के मुताबिक जब उन्हें इस घटना के बारे में पता चला तो वह उनकी मदद करने के लिए आगे आए।

मार्टिन को अस्पताल में पैसे नहीं होने की वजह से कुछ दिन पहले तक दवाइयां भी नहीं मिल पा रही थी। हालांकि, बाद में बीसीसीआई और बड़ौदा क्रिकेट संघ की मदद से अस्पताल को पैसा दिया गया। इसके बावजूद भी अभी इलाज के लिए पैसों की जरूरत पड़ सकती है, जिस वजह से परिवार के सदस्य परेशान घूम रहे हैं। बता दें कि जैकब मार्टिन रणजी में साल 2001 में बडौदा की टीम का नेतृत्व कर चुके हैं। वह बडौदा के लिए 100 से अधिक मैचों में हिस्सा ले चुके हैं।

वहीं मार्टिन ने 90 के दशक में भारतीय क्रिकेट टीम के लिए भी वनडे मैच खेलने का काम किया था। मार्टिन ने अपने वनडे करियर के 10 मैचों में 158 रन बनाए थे। उन्होंने अपना पहला मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ साल 1999 में खेला था। वहीं 2001 में केन्या के खिलाफ वह आखिरी बार भारतीय टीम की जर्सी में नजर आए थे। भारतीय टीम से बाहर चल रहे ऑलराउंडर खिलाड़ी युसूफ पठान भी कुछ दिन पहले मार्टिन से मिलने अस्पताल पहुंचे थे।

Continue Reading

Social Per Hit

कृषि विज्ञान केंद्र की कप्तान विराट कोहली को सलाह सिर्फ कड़कनाथ मुर्गा ही खाएं, BCCI को लिखी चिट्ठी

कड़कनाथ मुर्गे की बात करें तो ये काले रंग का चिकन आम चिकन की तुलना में तीन गुना ज्‍यादा मंहगा होता है और साथ ही काफी फायेदमंद भी होता है। मध्य प्रदेश के झाबुआ समेत कुछ अन्य जिलों में मुर्गा की खास नस्ल पाई जाती है।

Published

on

Say no to grilled chicken, try 'Kadaknath': Krishi Vigyan Kendra tells Kohli

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी के मैदान में 4 टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला 3 जनवरी से खेला जा रहा है। इस मैच में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया और टीम में दो बदलाव किए। केएल राहुल को रोहित शर्मा की जगह टीम में शामिल किया गया था तो वहीं इशांत की जगह टीम में इस टेस्ट सीरीज में पहली बार कुलदीप यादव को शामिल किया गया है। यह मैच ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर इतिहास रचने के लिहाज से बेहद अहम है। वहीं दूसरी तरफ मध्यप्रदेश के झाबुआ स्थित कृषि विज्ञान केंद्र ने भी टीम इंडिया को एक अहम सलाह देते हुए बीसीसीआई को पत्र लिखा है और कप्तान कोहली समेत टीम इंडिया के बाकी खिलाड़ियों को कड़कनाथ मुर्गा खाने की सलाह दी है, और इसके फायदे भी बताए हैं।

खेल जगत में खिलाड़ी अपनी फिटनेस को लेकर काफी सजग रहते हैं। साथ ही कई खिलाड़ी तो सिर्फ इसलिए चिकन नहीं खाते हैं कि इसमें फैट होता है। इस बाबत अपने पत्र में कृषि केंद्र ने लिखा कि कड़कनाथ मुर्गा पौष्टिकता से भरा होता है और इसमें काफी मात्रा में प्रोटीन होता है और इसमें फैट भी नहीं होता है। उन्होंने लिखा कि इसे टीम इंडिया को अपनी प्रापर डाइट में शामिल करना चाहिए।

कड़कनाथ मुर्गे की बात करें तो ये काले रंग का चिकन आम चिकन की तुलना में तीन गुना ज्‍यादा मंहगा होता है और साथ ही काफी फायेदमंद भी होता है। मध्य प्रदेश के झाबुआ समेत कुछ अन्य जिलों में मुर्गा की खास नस्ल पाई जाती है, जिसे कड़कनाथ के नाम से पहचाना जाता है। वहीं अगर इस सीरीज की बात करें तो इस सीरीज में भारत अभी 2-1 से आगे है, ये आखिरी मुकाबला अगर टीम इंडिया जीतती है तो ऑस्ट्रेलियाई धरती पर भारत की यह पहली टेस्ट सीरीज जीत होगी।

Continue Reading

Mumbai

दुखद: नहीं रहे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के कोच रमाकांत आचरेकर, 87 साल की उम्र में निधन

आचरेकर सचिन तेंडुलकर के अलावा  विनोद कांबली, अजित अगरकर, चंद्रकांत पंडित और प्रवीण आमरे समेत कई दिग्गज क्रिकेटरों के कोच रहे हैं। 

Published

on

Legendary coach Ramakant Achrekar passed away

पद्मश्री और द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित सचिन तेंदुलकर के बचपन के कोच रमाकांत आचरेकर का बुधवार को मुंबई में निधन हो गया। 87 वर्षीय आचरेकर ने शिवाजी पार्क के पास दादर स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली।

रमाकांत आचरेकर सचिन तेंडुलकर के अलावा  विनोद कांबली, अजित अगरकर, चंद्रकांत पंडित और प्रवीण आमरे समेत कई दिग्गज क्रिकेटरों के कोच रहे हैं।

 

आचरेकर के पुरस्कार और सम्मान

  • 1990 में, उन्हें क्रिकेट कोचिंग के लिए द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 2010 में उन्हें तत्कालीन भारतीय राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पदमश्री से सम्मानित किया गया।
  • 12 फरवरी 2010 को उन्हें भारतीय क्रिकेट टीम के तत्कालीन कोच गैरी कर्स्टन द्वारा ‘लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड’ से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार स्पोर्ट्स इलस्ट्रेटेड द्वारा खेल में विभिन्न श्रेणियों के लिए दिए गए पुरस्कारों का हिस्सा था।

Continue Reading

Latest

%d bloggers like this:
Bitnami