Connect with us

Maharashtra/Goa

किसान आंदोलन: अमरावती में कांग्रेस के 2 विधायकों ने की आत्मदाह की कोशिश

Published

on

महाराष्ट्र के अमरावती में किसानों के मुद्दे पर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के 2 विधायकों ने सोमवार को आत्मदाह की कोशिश की. जिला कलेक्ट्रेट के करीब दोनों विधायकों ने अपने केरोसिन डालकर आग लगाने की कोशिश की लेकिन पुलिस की तत्तपरता से उन्हें रोक लिया गया.

पुलिस उपायुक्त चिन्मय पंडित ने बताया कि धमनगांव रेलवे और तेओसा निर्वाचन क्षेत्रों के विधायकों वीरेंद्र जगताप और यशोमती ठाकुर को खुद के ऊपर मिट्टी का तेल छिड़कने और आग लगाने से पहले ही हिरासत में ले लिया गया. कांग्रेस विधायक जगताप ने एजेंसी को बताया कि स्थानीय कांग्रेस इकाई ने हाल में जिला प्रशासन से कहा था कि वह कृषि उत्पाद बाजार समिति को निर्देश दे कि वह अरहर और चना दाल की खरीद शुरू करे.

कांग्रेस विधायक वीरेंद्र जगताप ने कहा कि पार्टी ने यह मांग भी की थी कि किसानों को पहले ही खरीदी जा चुकी फसलों का तीन महीने का बकाया दिया जाए. जगताप ने कहा, ‘क्योंकि कोई जवाब नहीं मिला, इसलिए हमने जिला कलेक्ट्रेट तक मार्च निकालकर प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया.’ दोनों विधायकों ने कलेक्ट्रेट के सामने आत्मदाह करने की धमकी भी दी थी. जगताप ने बीजेपी पर किसानों के प्रति उदासीन होने का आरोप लगाया.

जगताप ने कहा, ‘किसानों की स्थिति दयनीय है, उनके पास खरीफ के सत्र में खेती करने के लिए पैसे नहीं हैं. सरकार की किस्मत अच्छी है कि किसान सत्तारूढ़ पार्टी के मंत्रियों और विधायकों को आजाद घूमने दे रहे हैं.’ जगताप ने चेतावनी दी कि अगर स्थिति नहीं सुधरती है तो किसान मंत्रियों और विधायकों को स्वतंत्र रूप से नहीं घूमने देंगे.

Bollywood/Fashion

राहुल को मिली भाभी जी का साथ, कांग्रेस में शामिल होंगी एक्ट्रेस शिल्पा शिंदे

शिल्पा शिंदे का जन्म 28 अगस्त 1977 को महाराष्ट्र के एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता डॉ. सत्यदेव शिंदे हाई कोर्ट में जज थे, जबकि उनकी मां गीता सत्यदेव शिंदे एक गृहिणी हैं। शिल्पा की दो बड़ी बहनें और एक छोटा भाई है।

Published

on

Shilpa Shinde to join congress

मुंबई: बिगबॉस सीज़न 11 विनर और भाभी जी घर पर हैं सीरयल से देशभर की चाहती बनी शिल्पा शिंदे ने औपचारिक तौर पर अब कांग्रेस का हाथ थाम लिया है, विश्वस्त सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक शिल्पा शिंदे को मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने पार्टी की सदस्य्ता दिलाई है और जल्द ही मुंबई से उनके चुनाव लड़ने का भी एलान किया जा सकता है.

आपको बता दें कि राजनीतिक पार्टियों में टीवी कलाकार और सिने जगत से जुड़े कलाकारों को ना सिर्फ चुनावी प्रचार में मतदाताओं का मन जितने के लिए जोड़ा जाता है बल्कि वक्त वक्त पर इन कलाकारों को राजनीतिक एंट्री भी मिलती रही है केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी इसका सबसे बड़ा उदहारण बनी हुई है.

वैसे बात अगर शिल्पा शिंदे की की जाए तो मुंबई सहित देशभर में शिल्पा शिंदे की बड़ी फैन फॉलोविंग है और यकीनन कांग्रेस ने इसी फैन फॉलोविंग को ध्यान में रखकर शिल्पा शिंदे को अपनी पार्टी में जगह दी है और आने वाले दिनों में शिल्पा शिंदे को मुंबई या फिर महाराष्ट्र की किसी अन्य सीट से लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का उम्मीदवार भी घोषित किया जा सकता है.

महाराष्ट्र कि रहने वाली शिल्पा शिंदे ने अपना टेलीविजन करियर साल 1999 में किया था। उन्होंने भाभी जी घर पर है ! में अंगूरी भाभी का किरदार निभाने के लिए जाना जाता है। उन्होंने 2016 की शुरुआत में शो छोड़ दिया था। अक्टूबर 2017 में शिंदे ने रियलिटी टीवी शो बिग बॉस 11 में भाग लिया, जिसे उन्होंने अंततः 14 जनवरी 2018 को जीता।

शिल्पा शिंदे का जन्म 28 अगस्त 1977 को महाराष्ट्र के एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता डॉ. सत्यदेव शिंदे हाई कोर्ट में जज थे, जबकि उनकी मां गीता सत्यदेव शिंदे एक गृहिणी हैं। शिल्पा की दो बड़ी बहनें और एक छोटा भाई है। वो केसी कॉलेज, मुंबई की मनोविज्ञान की छात्र थीं, लेकिन स्नातक की डिग्री प्राप्त करने में असफल रहीं। उसके पिता चाहते थे कि वह कानून की पढ़ाई करे, लेकिन उसमें उनकी कोई दिलचस्पी नहीं थी।

Continue Reading

Maharashtra/Goa

नाशिक में तेंदुए के हमले में नेता पत्रकार घायल, अस्पताल में भर्ती कराया गया

पुलिस और वन विभाग की टीम ने पूरे चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए को पकड़ा. अब इस पूरे ऑपरेशन का वीडियो भी सामने आया है. जिसमे तेंदुआ लोगों पर हमला करता दिखाई दे रहा है.

Published

on

महाराष्ट्र के नाशिक में एक रिहाइशी इलाके में घुसकर तेंदुए ने तीन लोगों को घायल कर दिया. तेंदुआ पास की पहड़ियों से होते हुए इंसानी बस्ती में घुस आया था. जैसे ही तेंदुआ के वहां होने की खबर लोगों को लगी वहां काफी भीड़ जमा हो गई थी. वन विभाग का फ़ौरन खबर दी गई लेकिन इससे पहले की वन अधिकारी तेंदुआ पर काबू पाते उसने तीन लोगों को गंभीर रूप से घायल कर दिया था. घायलों में एक पूर्व नगरसेवकी के इलावा दो पत्रकार भी हैं.

आखिरकार पुलिस और वन विभाग की टीम ने पूरे चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए को पकड़ा. अब इस पूरे ऑपरेशन का वीडियो भी सामने आया है. जिसमे तेंदुआ लोगों पर हमला करता दिखाई दे रहा है.

पुलिस के मुताबिक तेंदुआ सुबह करीब आठ बजे ही इंसानी बस्ती सावरकर नगर में घुसा था. उसे वन विभाग के कर्मी करीब पौने 11 बजे पकड़ पाए. घायलों में स्थानीय शिव सेना के पार्षद संतोष गायकवाड़, एक टेलीविजन चैनल के कैमरामैन तबरेज शेख और कपिल भास्कर शामिल हैं. इन सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Continue Reading

Bollywood Crime

‘ठाकरे’ vs ‘मणिकर्णिका’आमने सामने, सिनेमाघरों में शिवसेना ने रोका शो कंगना के घर के बाहर हंगामा

‘मणिकर्णिका’ को लेकर कंगना के घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे करणी सेना के 6 सदस्य गिरफ्तार.

Published

on

Protest against Manikarnika

मुंबई: आज बॉलीवुड की दो बड़ी फिल्में रिलीज़ हो रहीं हैं।बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ तो दूसरी है झांसी की रानी लक्ष्मीबाई पर बनी फिल्म ‘मणिकर्णिका’। फिल्म की रिलीज़ के साथ विवाद भी शुरू हो गया है।एक तरफ करनी सेना ने विरोध शुरू कर दिया है तो दूसरी तरफ शिवसेना थेयटर में फिल्म चलने नहीं दे रही है। महारष्ट्र के कई सिनेमाघरों में फिल्म मणिकर्णिका रोक दी गई है। मुंबई पुलिस ने कंगना के घर के बाहर से करनी सेना के कई कार्यकर्ताओं को अपनी हिरासत में लिया है।

फिल्म ‘मणिकर्णिका’ रिलीज होते ही वाशी के आईनॉक्स सिनेमा हॉल के बाहर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया है। शिवसेना कार्यकर्ताओं ने मणिकर्णिका देखने आए लोगों के साथ मारपीट की और उन्हें सिनेमाघरों से भगा दिया। उनका आरोप था कि, जानबूझकर सिनेमा मालिक मणिकर्णिका को ज़्यादा जगह दे रहे हैं। यह हंगामा फिल्म ‘ठाकरे’ के पोस्टर न लगाएं जाने को लेकर किया गया। कार्यकर्ताओं ने हंगामा करते हुए सुबह के शो को रोक दिया। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि बाकी फिल्मों के पोस्टर लगाए गए हैं तो ठाकरे के क्यों नहीं लगाए?

वहीँ शिवसेना कि तरफ से महाराष्ट्र के कई हिस्सों में बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ का फ्री शो दिखाया जा रहा है। वसई में भी शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने सुबह 8 बजे फिल्म का फ्री शो दिखाने के लिए सिनेमा हॉल के बाहर प्रदर्शन किया और मणिकर्णिका के पोस्टर पहाड़ डाले। कई सिनेमा घरों के बाहर शिवसेना कार्यकर्ता डोल नगाड़ों के साथ कार्यकर्ता बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ को देखने पहुंचे।

Continue Reading

Latest

%d bloggers like this:
Bitnami