Connect with us

Bollywood/Fashion

अब नहीं बनेगी फिल्म ‘सुपर 30 ‘ आनंद कुमार से वापस लेंगे प्रोड्यूसर, बदल जाएगी कहानी

फिल्म प्रोड्यूसर आनंद कुमार से सम्पर्क करने की कोशिश कर रहे हैं. उनके मुताबिक उनके बीच जो करार हुआ था उसे प्रोफेसर की तरफ से ब्रीच किया गया है. ऐसे में उन्हें इतनी बड़ी राशि देने की ज़रुरत नहीं है, जब फिल्म शुरू हुई तो लोगों के दिमाग में उन्हें लेकर कई तरह की धारणायें थी लेकिब अब उन पर गंभी आरोप लग रहे हैं जो बेहद गंभीर हैं. फिल्म सुपर 30 ने इस पूरे कॉन्ट्रोवर्सी की सच्चाई जानने के लिए अपनी एक टीम को पटना भेजा था. उन्होंने भी जो फीडबैक दिया है उसके अनुसार भी आनंद कुमार की छवि बुरी तरह प्रभावित हुई है. ऐसे में दो ही रास्ते हैं या तो इस फिल्म को तब तक के लिए डब्बे में डाल दिया जाए, जब तक प्रोफेसर इससे निकल नहीं जाते. या फिर सब बदलना ही सही रहेगा .

फिल्म से जुड़े लीगल सेल ने भी सारे कागज़ात को खंगाले हैं. और उनकी रिपोर्ट भी पूरी तरह से प्रोफेसर आनंद के खिलाफ है. फिल्म से जुड़े एक सूत्र ने हमें बताया है कि, आनंद कुमार से जुड़े लोगों ने उन्हें अँधेरे में रखा है. लगातार टीम आनंद से बात करने कि कोशिश करती रही. मगर वो सामने नहीं आये. उनके भाई ने भी हमें गुमराह किया है.

Published

on

बिहार के प्रोफेसर आनंद कुमार पर बनने वाली फिल्म पूरी से अटकती दिखाई दे रही. सूत्र बताते हैं की अब ह्रितिक भी इस फिल्म को नहीं करना चाहते हैं. लेकिन प्रोड्यूसर उनपर दबाव बना रहे हैं की फिल्म पर काफी पैसे लग चुके हैं और अब पीछे हटना बहुत मुश्किल है. अगर सूत्रों की मानें तो फिल्म प्रोड्यूसर और विकास बहल स्क्रिप्ट पर फिर से काम कर रहे हैं. बताया जा रहा है की फिल्म आधे से ज़्यादा हिस्सा बदल दिया जाएगा. इसके लिए एक नहीं बल्कि तीन-तीन राइटरों को लगाया गया है. जो फिल्माए गए सीन के आस पास से ही कहानी में ट्विस्ट लाने की कोशिश करेंगे. इसके इलावा फिल्म का टाइटल भी बदलना तय माना जा रहा है.

Team super 30

वहीँ फिल्म प्रोड्यूसर आनंद कुमार से सम्पर्क करने की कोशिश कर रहे हैं. उनके मुताबिक उनके बीच जो करार हुआ था उसे प्रोफेसर की तरफ से ब्रीच किया गया है. ऐसे में उन्हें इतनी बड़ी राशि देने की ज़रुरत नहीं है, जब फिल्म शुरू हुई तो लोगों के दिमाग में उन्हें लेकर कई तरह की धारणायें थी लेकिब अब उन पर गंभी आरोप लग रहे हैं जो बेहद गंभीर हैं. फिल्म सुपर 30 ने इस पूरे कॉन्ट्रोवर्सी की सच्चाई जानने के लिए अपनी एक टीम को पटना भेजा था. उन्होंने भी जो फीडबैक दिया है उसके अनुसार भी आनंद कुमार की छवि बुरी तरह प्रभावित हुई है. ऐसे में दो ही रास्ते हैं या तो इस फिल्म को तब तक के लिए डब्बे में डाल दिया जाए, जब तक प्रोफेसर इससे निकल नहीं जाते. या फिर सब बदलना ही सही रहेगा .

फिल्म से जुड़े लीगल सेल ने भी सारे कागज़ात को खंगाले हैं. और उनकी रिपोर्ट भी पूरी तरह से प्रोफेसर आनंद के खिलाफ है. फिल्म से जुड़े एक सूत्र ने हमें बताया है कि, आनंद कुमार से जुड़े लोगों ने उन्हें अँधेरे में रखा है. लगातार टीम आनंद से बात करने कि कोशिश करती रही. मगर वो सामने नहीं आये. उनके भाई ने भी हमें गुमराह किया है.

Hrithik and Anand Kumar Hrithik and Anand Kumar

आधार में लटकी ऋतिक कि ‘सुपर 30’

प्रोफेसर आनंद पर फर्ज़ीवाड़े का आरोप लगे हैं ये बेहद गंभीर आरोप हैं. कई बच्चे अब तक सामने आ चुके हैं जिन्होंने ये दावा किया है कि प्रोफेसर आनंद का ये दावा झूठा है कि वो बच्चों से पैसे नहीं लेते बल्कि फ्री में उन्हें शिक्षा देते हैं. आरोप के मुताबिक ये सब महज़ अफवाह है जो मीडिया में फैलाया गया है. सुपर 30 में पढ़ने वाला हर बच्चा अपनीफीस भरता है. ये सब इस तरीके से ऑपरेट होता है कि किसी को पता तक नहीं चलता. और तो और प्रोफेसर आनंद का ये दावा भी अब तक गलत पायागया है कि हर साल उनके यहां से 30 बच्चे निकलते हैं. कई बच्चे ऐसे भी सामने आये हैं जिन्होंने पढ़ाई कहीं और से कि और दावा आनंद कुमार ने किया.

Hrithik and Anand Kumar

आनंद ने फिल्म में काम दिलाने का देते थे आश्वासन

कई बच्चों ने ये दावा किया है कि, आनंद कुमार क्लास में कहते थे कि सुपर-30 से जुड़े रहने पर फिल्म में भी काम करने का मौका मिलेगा. इस लिए सब अपना काम ख़ामोशी से करें.

पड़ताल में आनंद कुमार के कई दावे झूठे साबित हुए हैं

आनंद कुमार पर तब बड़ा सवाल खड़ा हुआ जब उनके खिलाफ पटना के एक थाने में ब्लैक मनी व्हाइट करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करा दी गयी. पड़ताल की तो एक और बड़ा खेल सामने आया. 2015 में आईआईटी रिजल्ट आने के बाद आनंद ने 25 स्टूडेंट्स की लिस्ट सार्वजनिक की थी. जब इस लिस्ट में दिए गए नामों की पड़ताल की गई तो सामने आया सुपर फ्रॉड. पूरी दुनिया में गरीबों का मसीहा माने जाने वाले आनंद गरीबी के नाम पर धोखा दे रहे हैं. सुपर 30 का दावा गरीब बच्चों को फ्री में कोचिंग कराने का है, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है.

Bollywood/Fashion

भंसाली और राजामौली के साथ काम करने पर बोलीं आलिया, सोचा नहीं था कभी करूंगी इनकी फिल्म

आलिया भट्ट ने कहा है कि उन्हें कभी यकीन नहीं था कि वे प्रख्यात फिल्मकारों संजय लीला भंसाली और एस एस राजामौली की फिल्मों का हिस्सा बनेंगी. आलिया, भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” और राजामौली द्वारा निर्देशित “आरआरआर” को लेकर बेहद उत्साहित हैं.

Published

on

आलिया भट्ट ने कहा है कि उन्हें कभी यकीन नहीं था कि वे प्रख्यात फिल्मकारों संजय लीला भंसाली और एस एस राजामौली की फिल्मों का हिस्सा बनेंगी. आलिया, भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” और राजामौली द्वारा निर्देशित “आरआरआर” को लेकर बेहद उत्साहित हैं. उन्होंने कहा कि निर्देशन के मामले में दोनों एक समान हैं.

आलिया ने कहा, “मेरे लिये इन दोनों निर्देशकों के साथ काम करना बहुत बड़ी बात है. इन दोनों में एक समानता है कि वह अपनी फिल्मों के प्रति जुनूनी हैं.”

View this post on Instagram

Aaj Se Kalank ♥️

A post shared by Alia 🌸 (@aliaabhatt) on

उन्होंने कहा, “वे अपने काम को लेकर बिल्कुल स्पष्ट दृष्टिकोण रखते हैं. वह बहुत रचनात्मक हैं. यही कलात्मकता है. मुझे कभी यकीन नहीं था कि मैं उनकी किसी भी फिल्म का हिस्सा बनूंगी.गौरतलब है कि आलिया ने इससे पहले नौ वर्ष की आयु में 2005 में भंसाली की फिल्म ‘ब्लैक’ के लिये ऑडिशन दिया था, लेकिन उन्हें नकार दिया गया था. भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” में वह पहली बार सलमान खान के साथ नजर आएंगी. फिल्म की शूटिंग अगस्त में शुरू होने की उम्मीद है.

इसके अलावा वे पहली बार तेलुगु फिल्म ‘आरआरआर’ में अभिनय करेंगी, जिसके लिये उन्होंने तेलुगु भाषा सीखनी शुरू कर दी है. फिल्म 30 जुलाई, 2020 तक पर्दे पर आने की संभावना है.

Continue Reading

Bollywood/Fashion

आम चुनावों के बीच निर्देशक प्रकाश झा का निशाना, कहा- चुनाव में शिक्षा पर नहीं दिया जाता ध्यान

फिल्म निर्माता प्रकाश झा की अगली फिल्म का शीर्षक ‘परीक्षा’ है. इसके बारे में बात करते हुए वह कहते हैं कि दुर्भाग्यवश भारत में चुनाव के दौरान शिक्षा पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जाता है.

Published

on

फिल्म निर्माता प्रकाश झा की अगली फिल्म का शीर्षक ‘परीक्षा’ है. इसके बारे में बात करते हुए वह कहते हैं कि दुर्भाग्यवश भारत में चुनाव के दौरान शिक्षा पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जाता है.

‘परीक्षा’ की कहानी एक रिक्शा चालक के इर्द-गिर्द घूमती है. वह हर रोज अमीर परिवारों के बच्चों को घर से एक प्राइवेट स्कूल तक ले जाने का काम करता है. वह यह सपना देखता है कि काश वह भी अपने बच्चों का दाखिला किसी ऐसे स्कूल में करवा पाता. अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए वह एक खतरनाक रास्ते को चुनता है. इसकी कहानी शहर-गांव के बीच के अंतर को दर्शाएगा.

प्रकाश झा कहते है, “शहर और गांव के बीच के अंतर से भी ज्यादा यह इस बात को बयां करेगा कि जिनके पास कोई सुविधा नहीं है उनके पास शिक्षा का महत्व किस हद तक है. वे अच्छी शिक्षा की कीमत को समझते हैं जो उन्हें अवसर प्रदान करने के काम आता है और गरीबी की इस जिंदगी से उन्हें छुटकारा दिलाता है.”

वह कहते हैं, “सपनों और महात्वाकांक्षाओं की कहानी है ‘परीक्षा’. किस तरह से एक पिता अपने बच्चों की खातिर जोखिम से भरे एक रास्ते का चुनाव करता है, एक ऐसा रास्ता जो सबकुछ खत्म कर सकती है.”

झा ने कहा कि फिल्म बुच्छी नाम के एक पात्र के बारे में है, जो रोज सुबह अमीर घरों के बच्चों को महंगे अंग्रेजी विद्यालयों में छोड़ता है और उसका सपना अपने बच्चों को भी ऐसी ही शिक्षा देने का है.

फिल्म का निर्देशन प्रकाश झा ने किया है. इसमें आदिल हुसैन, प्रियंका बोस, संजय सूरी और शुभम झा अभिनय करते नजर आएंगे. फिल्म का निर्माण प्रकाश झा प्रोडक्शन्स ने किया है.

Continue Reading

Bollywood/Fashion

श्रीलंकन एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडिस ने की श्रीलंका बम धमाकों की निंदा, की ये मांग

Published

on

Jacqueline Fernandez

मुंबई: श्रीलंकाई बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नाडीज ने ईस्टर संडे के दिन अपने देश में हुए सिलसिलेवार आत्मघाती हमले को अत्यन्त दुखद बताया.जैकलीन के पिता श्रीलंकाई और मां मलेशिया की हैं.जैकलीन ने ट्वीट कर कहा, “श्रीलंका में बम धमाकों की खबर अत्यन्त दुखद है.यह वाकई में दुर्भाग्यपूर्ण है कि कोई यह देख पाने में असमर्थ है कि हिंसा एक चेन रिएक्शन की तरह है. इस पर रोक लगाए जाने की आवश्यकता है.”

जैकलीन मुंबई में रहती हैं.साल 2009 में फिल्म ‘अलादीन’ के जरिए उन्होंने बॉलीवुड में अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की और अब तक करीब 15 फिल्मों में काम कर चुकी हैं.जैकलीन के साथ साथ अनुष्का शर्मा, शेखर कपूर, अर्जुन कपूर, हुमा कुरैशी और विवेक आनंद ओबेरॉय ने दुख जाताया है.

बता दें कि ईस्टर की खुशी आज मातम में तब्दील हो गई. भारत के पड़ोसी और मित्र देश श्रीलंका में एक के बाद एक आठ विस्फोटों में मरने वालों की संख्या करीब 207 पहुंच चुकी है और 450 के करीब घायल हैं. मरने वालों में काफी संख्या में विदेशी नागरिक भी हैं. हमले के बाद हर तरफ मातम पसरा है.

पहला हमला सुबह करीब 9 बजे हुआ था और आखिरी करीब तीन बजे. आगे हमलों की आशंका को देखते हुए कर्फ्यू लगा दिया गया है. सोशल मीडिया पर पाबंदी लगा दी गई है. हमले की जिम्मेदारी अब तक किसी संगठन ने नहीं ली है. पुलिस ने अब तक सात लोगों को गिरफ्तार किया है.

Continue Reading

Bitnami