Connect with us

Social Per Hit

देखें VIDEO: ये योगी जी के सुसाशन का वीडियो है पीट-पीटकर रिटायर्ड दारोगा की हत्या, खूब शेयर कीजिए ताकि सरकार जागे

डेढ़ मिनट के सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि जिस वक्त दरोगा की पिटाई हो रही थी उस वक्त बगल से एक दर्जन लोग गुजरे। दो बाइक सवार भी बगल से निकल गए, लेकिन किसी ने हिम्मत करके हमलावरों को रोका नहीं। पांच बेटियों और दो बेटों से भरा पूरा परिवार बिलखते हुए रोड पर आ गया तब जाकर तमाशबीन पास जुटे। यदि बगल से गुजर रहे लोगों ने हस्तक्षेप करने का प्रयास किया होता तो दारोगा अब्दुल समद की जान बच सकती थी। पुलिस ने बेटी की रिपोर्ट पर हिस्ट्रीशीटर जुनैद कमाल एवं उसके परिवार के दस लोगों के विरूद्ध FIR दर्ज कर ली है।

Published

on

कल दिन दहाड़े इलाहाबाद के थाना शिवकुटी के तहत शिलाखाना मोहल्ले में यूपी पुलिस के रिटार्यड दरोगा की पीट पीटकर उसके पड़ोसियों ने बीच सड़क पर हत्या कर दी। हत्या की वजह ज़मीन विवाद बताया जा रहा है। अब इस पूरी घटना का वीडियो सामने आया है जो रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद खान की हत्या का सबसे शर्मनाक पहलु है। जब सड़क पर दिनदहाड़े एक लाठी-डंडे बरसाकर इस हत्या को अंजाम दे रहा था तो वहां से आते-जाते कई लोग दिखाई दे रहे हैं। लेकिन किसी ने दारोगा को बचाने की कोशिश नहीं की।

डेढ़ मिनट के सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि जिस वक्त दरोगा की पिटाई हो रही थी उस वक्त बगल से एक दर्जन लोग गुजरे। दो बाइक सवार भी बगल से निकल गए, लेकिन किसी ने हिम्मत करके हमलावरों को रोका नहीं। पांच बेटियों और दो बेटों से भरा पूरा परिवार बिलखते हुए रोड पर आ गया तब जाकर तमाशबीन पास जुटे। यदि बगल से गुजर रहे लोगों ने हस्तक्षेप करने का प्रयास किया होता तो दारोगा अब्दुल समद की जान बच सकती थी। पुलिस ने बेटी की रिपोर्ट पर हिस्ट्रीशीटर जुनैद कमाल एवं उसके परिवार के दस लोगों के विरूद्ध FIR दर्ज कर ली है।

मंगलवार सुबह जब समद सब्जी लेने निकले तो जुनैद ने 2 लोगों के साथ मिलकर उन पर लाठी डंडे से हमला कर दिया था। इस हमले से जमीन पर गिरे बुजुर्ग समद तड़पने लगे। जुनैद के दोनों साथियों ने भी रिटायर्ड दारोगा पर डंडे बरसाना शुरू कर दिए। घटनास्थल से कई लोग गुजरे, लेकिन रिटायर्ड दारोगा की मदद को कोई भी आगे नहीं आया। इलाज के दौरान मंगलवार को उनकी मौत हो गई।

मामले की जांच कर रही पुलिस जुनैद और उसके दो साथियों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की है और आरोपियों की तलाश में जुट गई है। हालांकि अभी एक भी आरोपी पुलिस की पकड़ में नहीं आया है।

Bollywood/Fashion

Exclusive: फिल्म ‘सूर्यवंशी’ में एक बार फिर साथ धमाल मचाएंगी कैटरीना-अक्षय कुमार की जोड़ी

बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक रोहित शेट्टी और करण जौहर को उनकी आने वाली फिल्म के लिए अभिनेत्री मिल गयी है, ये बिग बजट मूवी ‘सूर्यवंशी’ होने वाली है और इसमें अभिनेत्री के तौर पर कटरीना कैफ नज़र आने वालीं हैं, इस फिल्म में मुख्य किरदार एसीपी वीर सूर्यवंशी का बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार निभाते हुए नज़र आने वाले हैं.

Published

on

बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक रोहित शेट्टी और करण जौहर को उनकी आने वाली फिल्म के लिए अभिनेत्री मिल गयी है, ये बिग बजट मूवी ‘सूर्यवंशी’ होने वाली है और इसमें अभिनेत्री के तौर पर कटरीना कैफ नज़र आने वालीं हैं, इस फिल्म में मुख्य किरदार एसीपी वीर सूर्यवंशी का बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार निभाते हुए नज़र आने वाले हैं.

आपको बता दें कि पूरे 9 साल बाद कटरीना कैफ अक्षय कुमार के साथ बड़े पर्दे पर वापसी करने वाली हैं.  इस फिल्म से अक्षय कुमार और कटरीना कैफ एक बार फिर से बड़े पर्दे नज़र आएंगे, बता दें कि अक्षय और कटरीना की जोड़ी ने बड़े पर्दे कई शानदार फ़िल्में दी हैं, काफी समय से इनके फैंस चाह भी रहे थे कि ये दोनों फिर से किसी फिल्म में साथ में नज़र आयें, अब फिल्म ‘सूर्यवंशी’ से उनकी ये ख्वाइश पूरी होती हुई नज़र आ रही है.

इसके साथ ही आपको अवगत करा दें कि पहले एक अन कन्फर्म सोर्स ने ये बताया था कि अक्षय कुमार का ही सुझाव था कि अभिनेत्री कटरीना कैफ को इस फिल्म में कास्ट किया जाए, ये सुझाव उन्होंने फिल्म ‘सूर्यवंशी’ में अपने एक्शन पैक्ड किरदार को देखते हुए दिया था, क्यूंकि इसके पहले कटरीना ने कई शानदार एक्शन पैक्ड फिल्मों में काम किया है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स  के अनुसार कटरीना कैफ का इस फिल्म में एक्शन किरदार नहीं है बल्कि परफॉरमेंस बेस्ड किरदार होगा.

अक्षय कुमार और कटरीना कैफ की जोड़ी कई बड़ी फिल्मों में साथ में नज़र आ चुकी है जैसे कि नमस्ते लंदन,वेलकम, सिंह इज किंग, दे दना दन, तीस मार खां, कुछ समय पहले कटरीना ने मीडिया से कहा था कि ‘मेरी इस फ़िल्मी सफ़र में अक्षय कुमार का बहुत बड़ा योगदान रहा है, फिल्म नमस्ते लंदन के समय उन्होंने मुझ पर बहुत भरोसा जताया था, जो मेरे करियर का टर्निंग पॉइंट भी साबित हुआ था. अब इन दोनों की जोड़ी को फिर से एक साथ देखने का इंतज़ार दर्शकों को भी काफी रहेगा.

Continue Reading

Bollywood Crime

PM मोदी की बॉयोपिक बनाने वाले निर्माता पर है नाबालिक लड़के के यौन शोषण का आरोप 

मुंबई के फिल्म प्रोडूसर संदीप विनोद कुमार सिंह का नाम इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बन रही फिल्म को लेकर सुर्ख़ियों में हैं। एक साल पहले भी संदीप सिंह का नाम एक नाबालिग लडके के साथ यौन उत्पीड़न को लेकर सुर्ख़ियों में था। हालाकि फिल्म निर्माता ने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज किया था और ये सफाई दी थी कि वह लड़का उनके ATM से पैसे चुरा रहा था और चोरी पकड़ी जाने पर अब मुझे बदनाम कर रहा है।

Published

on

मुंबई के फिल्म प्रोडूसर संदीप विनोद कुमार सिंह का नाम इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बन रही फिल्म को लेकर सुर्ख़ियों में हैं। एक साल पहले भी संदीप सिंह का नाम एक नाबालिग लडके के साथ यौन उत्पीड़न को लेकर सुर्ख़ियों में था। हालाकि फिल्म निर्माता ने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज किया था और ये सफाई दी थी कि वह लड़का उनके ATM से पैसे चुरा रहा था और चोरी पकड़ी जाने पर अब मुझे बदनाम कर रहा है। PM मोदी की बॉयोपिक बनाने वाले निर्माता पर गंभीर आरोप संदीप विनोद कुमार सिंह पर नाबालिग़ लड़के का यौन शोषण करने का आरोप लगा है। संदीप सिंह फ़िल्म भूमि के प्रोडूसर है, जिन पर नाबालिक लड़के से यौन शोषण करने का आरोप लगा है। घटना 29  मार्च कि बताई जा रही है। पीड़ित लड़का स्विट्ज़रलैंड का रहने वाला है। जानकारी के मुताबिक पीड़ित लड़का अपने परिजनों के साथ छुट्टी मनाने के लिए मॉरिशस गया हुआ था। जहां पर वो मॉरिशस के एक होटल में ठहरा हुआ था। आरोपी प्रोडूसर भी फिल्म के सिलसिले में मरिशस गए थे। दोनों एक ही होटल में ठहरे हुए थे। जहां पर दोनों कि मुलाक़ात हुई। 

 दोनों की ये मुलाक़ात दोस्ती में बदल गयी। आरोपी प्रोडूसर और पीड़ित होटल के बीच पर गए और वहां दोनों के बीच फिल्म और म्यूजिक को लेकर बातचित हुई। आरोप है कि, उसके बाद संदीप ने लड़के को अपने होटल के कमरे में  ले गए। आरोप है की लड़के को अकेला पाकर प्रोडूसर ने उसके साथ जोर जबरदस्ती की कोशिश की। किसी तरह लड़का होटल कमरे से भागने में कामयाब हुआ और जाकर प्रोडूसर की करतूत अपने पिता को बताई। जिसके बाद पीड़ित के पिता ने इसकी शिकायत होटल सिक्योरिटी स्टाफ से की। जिसके बाद प्रोड्यूसर को होटल छोड़कर भागना पड़ा। 

 वहीं अपने ऊपर लगे इन आरोपों पर प्रोडूसर संदीप का कहना है कि, जो कहानी सामने आयी है वो सही नहीं है, जो आदमी ये सब आरोप लगा रहा है वो अफ़वाह फैला रहा है। जो ख़ुद को विक्टिम बता रहा है उसने मेरे ATM से पैसे निकालने की कोशिश की थी। उसने मेरा पास्पोर्ट समंदर में फेंक दिया था। और उसकी हर हरकत CCTV में क़ैद हुआ है। अब जब वो पकड़ा गया तो उसने ये सब अफ़वाह फैलाया है। इस पूरे मामले के बारे में मरिशस पुलिस को भी इसकी जानकरी दे दी थी।

Continue Reading

Bollywood/Fashion

कौन है लक्ष्मी और कैसे लक्ष्मी से प्रभावित हुईं दीपिका पादुकोण ? पूरी कहानी

सोमवार की सुबह जब बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने अपनी फिल्म छपाक का फर्स्ट लुक शेयर किया तो पूरी दुनिया भर में इसके चर्चे होने लगे। फिल्म एक एसिड पीड़ित लड़की की है। जिसे महज़ 15 साल की उम्र में तेज़ाब से जला डाला गया था। दीपिका पादुकोण उसी लक्ष्मी के किरदार में हैं और मेघना गुलजार इसका निर्देशन कर रहीं हैं।

Published

on

मुंबई: सोमवार की सुबह जब बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने अपनी फिल्म छपाक का फर्स्ट लुक शेयर किया तो पूरी दुनिया भर में इसके चर्चे होने लगे। फिल्म एक एसिड पीड़ित लड़की की है। जिसे महज़ 15 साल की उम्र में तेज़ाब से जला डाला गया था। दीपिका पादुकोण उसी लक्ष्मी के किरदार में हैं और मेघना गुलजार इसका निर्देशन कर रहीं हैं।

लक्ष्मी का रिश्ता अलोक से टूट गया तो वो पैसे पैसे के लिए मजबूर हो गईं थी। कई कई दिनों तक उन्हें भूका रहना पड़ा और अपनी बच्ची के लिए भी दूसरों के आगे भीख माँगना पड़ा। एक दिन उन्हें मेघन गुलज़ार ढूंढ़ते हुए दिल्ली आईं। फिर उन्होंने उनके घर का भाड़ा दिया और राशन भरवाया। तब उन्होंने बताया की वो उनकी ज़िन्दगी फिल्म बनाना चाहती हैं।

दीपिका फूट फूटकर रोईं
मुंबई में पहली बार उन्होंने दीपिका पादुकोण से मुलाक़ात की। लक्ष्मी फिलाहल इस पूरे मामले में ज़्यादा कुछ नहीं बताना चाहती हैं लेकिन उन्होंने इतना ज़रूर बताया की जब लक्ष्मी ने उन्हें अपनी कहानी बताई थी दीपिका फुट फूटकर रोने लगीं। उन्होंने फ़ौरन पीहू को उनकी गॉड से उठाकर अपने सीने से लगा लिया। जब मैं वहां से निकलने लगी तो कई बार दीपिका ने मुझे गले लगाया और भरोसा दिलाया की छपाक में उनके दर्द को वो पूरी दुनिया के सामने रखेंगी।

कौन है लक्ष्मी ?
लक्ष्मी ने भी फिल्म का पोस्टर देखा और बेहद भावुक भी हो गईं। लक्ष्मी कहतीं हैं की जब उनके साथ ये सब हुआ था तब उन्हें लगा भी नहीं था की कोई उन्हें अपनाएगा। लेकिन उन्हें बहुत प्यार मिला और आज वो अपने बच्चे के साथ बेहद खुश भी हैं। अपने साथ हादसे को लेकर पहली बार लक्ष्मी ने हमसे खुलकर बात की अपना दर्द बांटा।

लक्ष्मी ने बताया की वो 15 साल की थी और बड़ी होकर एक कामयाब सिंगर बनना चाहती थी। मगर सिर्फ एक इंकार ने उसके सारे सपनों को जला कर रख दिया और उसकी जिंदगी बदल गई। उनके ऊपर एसिड अटैक हुआ। वो भी ऐसा-वैसा हमला नहीं बल्कि वो हमला जो शरीर के साथ-साथ आत्‍मा को भी जला देता है। इस हमले के जख्‍म से रिसने वाले मवाद तो एक समय के बाद बंद हो जाते हैं मगर इसका दर्द पूरी जिंदगी रिसता रहता है।

आप ज़िंदा रहकर भी समाज के लिए अछूती हो जातें हैं। कोई आपके करीब तक नहीं आना चाहता। लोग किसी की ज़िन्दगी की दुआ करते हैं मगर एसिड विक्टिम के लिए मौत से बेहतर कोई दवा नहीं है। आपके अपने आपका दर्द देख कर आपकी मौत की दुआ मांगते हैं। अगर आप फिर भी बच गए तो आपकी ज़िन्दगी मौत से बद्तर हो जाती है।

इस हमले में हो सकता है कि शिकार होने वाले की जान चली जाए। लेकिन वो बच गया तो समाज उसे दोयम दर्जे का नागरिक बना देता है।
जिंदगी बेहद दर्दनाक हो जाती है और वो तिल-तिल कर जीने को मजबूर हो जाता है। हम बात कर रहे हैं एसिड अटैक (तेजाबी हमले) की। अगर हमारे चेहरे पर कोई दाग लग जाता है तो हम उसे जल्‍द से जल्‍द साफ करने के लिये दौ़ड़ते है। और तबतक बेचैन रहते हैं जबतक चेहरा पहले जैसा ना हो जाये।

लड़ाई लड़ो जब तक लड़ सकते हो

लेकिन लक्ष्मी ने हर हालत से लड़ाई की और जीती भी। आज लक्समी कहती हैं की एक वक़्त उन्हें ऐसा लगा था की अब मौत के सिवा उनके पास कोई दसूरा रास्ता नहीं है। कई बार उन्होंने ख़ुदकुशी की कोशिश भी की लेकिन कामयाब नहीं हो पाई। तब उन्हें लगा की मौत भी उन्हें आसानी से नहीं मिलेगी, उसके लिए भी लड़ना पड़ेगा। आज लक्ष्मी देश में एसिड अटैक की शिकार लड़कियों के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं।

2005 में हुआ था हमला

लक्ष्मी का जन्म 1990 के एक बेहद मध्यम परिवार में हुआ था। लक्ष्मी भी दूसरी लड़कियों की तरह खूबसूरत, शांत, और खुशनुमा स्वाभाव की थी। मगर उसने कभी सपने में भी नही सोचा होगा कि 15 साल की उम्र में उस से दुगनी उम्र का कोई सरफिरा आदमी अपने तीन दोस्तों के साथ मिलकर एक ऐसे गुनाह को अंजाम देगा जो उसकी पूरी जिन्दगी को हमेशा के लिए बदल देगा। ये बात 2005 की है है उस समय वो अपने स्कूल से लौट रही थी कि एक 32 साल के शख्स ने उसका पीछा करना शुरू कर दिया था। वो बार बार लक्ष्मी को शादी का प्रस्ताव देता और हर बार वो इंकार कर देती। उस दिन भी जब वो अपने स्कूल से लौट रही थी तब उस सनकी शख्स ने उसे रोका और अपने दोस्तों के साथ मिलकर दिन दिहाड़े और भरे बाजार उस पर एसिड अटैक  कर दिया।

इस हमले में लक्ष्मी का चेहरा बुरी तरह जल गया था। लक्ष्मी के चहेरे के साथ-साथ शारीर का एक बड़ा हिस्सा पूरी तरह झुलस गया था। उसके परिवार ने पूरे जीवन भर की कमाई का पाई-पाई बेटी के इलाज पर खर्च कर दिया। इस भयानक घटना के बाद लक्ष्मी तो जिन्दा बच गयी मगर उनकी सूरत और शरीर पर गहरे घाव छोड़ दिए। इन घावों की वजह से होने वाली शारीरिक तकलीफ से कहीं ज्यादा वो तकलीफ थी जो ज़माने के बदले हुए रवैये से उसे हुई। एक लड़की ही ये ज्यादा अच्छी तरह समझ सकती है कि उस के लिए चेहरे का खुबसूरत होना कितना मायने रखता है। जब भी लक्ष्मी कहीं जाती तो लोग उसे अजीब तरीके से देखते थे। ये बात उसे बहुत दुःख पहुंचाती थी। लक्ष्मी का परिवार इस बात से खुश तो था की उसकी जिन्दगी खतरे से बाहर है मगर उतना ही लक्ष्मी के भविष्य को लेकर चिंतित भी रहता था।

खुद आरोपियों को दिलाई सजा

लक्ष्मी ने लेकिन हार नहीं मानी और डट कर जमाने के सामना किया। न सिर्फ उस ने ज़माने के नजरिये को डिफेंड किया बल्कि 2006 में लक्ष्मी ने इन तीनो आरोपियों के खिलाफ Delhi High Court में एक PIL दाखिल की और तीनो आरोपियों को जेल की हवा भी खिलाई। लक्ष्मी ने अपनी PIL में न सिर्फ आरोपियों को सजा बढ़ाने, मुआवजा दिलवाने की बात की बल्कि सरकार को मजबूर किया कि वो मौजूदा कानून में संशोधन करे और साथ ही साथ acid की open बिक्री पर भी बंदिश लगाये। ये लड़ाई कर सालों तक चली। जिंदगी की इसी लड़ाई के दौरान 2012 में उसके पिता की भी मृत्यु हो गयी। वो घर मे इकलौते कमाने वाले थे।

उसका बड़ा भाई भी dysfunctional lungs नाम की बीमारी से ग्रस्त हो गया। माँ का सारा समय भाई का ध्यान रखने में चला जाता था। लक्ष्मी ने परिवार चलाने के लिए सिलाई तथा beautician का काम सीखा और थोड़ा बहुत पैसे कमाने लग गई। एक लड़की जिस का खुद का face अब पहले जैसा खूबसूरत न रह गया हो वो अब दूसरों के पहनावे और face को सजाती थी। लोग उस से सहानुभूति तो रखते थे मगर आम लोगों जैसा व्यवहार नही करते थे। लक्ष्मी की मेहनत ने आखिरकार रंग लाया। कानून में संशोधन होने में अगले 7 साल लग गए और 2013 में ये संशोधन भी हो गया।

जब लक्ष्मी अपनी जिंदगी के सब से बुरे दिनों को संभालने में झूझ रही थी तो उसकी मुलाकात आलोक दीक्षित नाम के आदमी से हुई जो कि journalist तथा social activist भी थे। इस पुरे सफ़र में उन्होंने laxmi का भरपूर साथ दिया। आलोक ने बहुत गहराई से जाना कि अगर एक लड़की के पास बाहरी खूबसूरती न रह जाये तो उसे कितना ही कठिन जीवन जीना पड़ता है। 2014 में उन्होंने एक दूसरे के साथ बिना विवाह के साथ रहने का निर्णय भी लिया।

लक्ष्मी ने बताया कि, मेरे चेहरे की 7 बड़ी surgery होने के बाद मैंने कभी नही सोचा था कि मुझे कभी कोई soulmate मिलेगा। soulmate तो दूर की बात मैं तो सोचती थी कि मुझे तो कोई अपनाने को भी तैयार नही होगा। दोनों कई सालों तक लिव इन में रहे फि Nov 2015 में लक्ष्मी और आलोक एक नन्ही परी के माता पिता बन गए। उस नन्ही परी का नाम पीहू है। लेकिन अलोक से भी उनके रिश्ते टूट गए आज लक्ष्मी को अपने घर का किराया देने तक के लिए पैसे नहीं हैं।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this:
Bitnami