Connect with us

Maharashtra/Goa

मुंबई से रहस्मई तरीके से लापता है अटॉमिक रिसर्च के एक सीनियर साइंटिस्ट का बेटा

12वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र नमन दत्त को आखिरी बार 23 सितंबर को अपनी बिल्डिंग से निकलते देखा गया था। यही नहीं इसके बाद इस छात्र ने सीएसएमटी बाउंड ट्रेन पकड़ी इसकी जानकारी भी जुटा ली गई, लेकिन इसके बाद से उसका कोई सुराग नहीं है। पुलिस नमन नाम के किशोर का मोबाइल कॉल डेटा जुटाने में लगी है।

Published

on

देश के जाने माने भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बीएआरसी) में काम कर रहे एक वैज्ञानिक के बेटे को ढूंढने में मुंबई पुलिस नाकाम नजर आ रही है। दरअसल वैज्ञानिका 17 वर्षीय बेटा पांच दिन पहले गायब हो गया था। इसकी जानकारी उसके माता पिता ने पुलिस को दी। बेटे को गायब हुए पूरे पांच दिन हो गए हैं, लेकिन मुंबई पुलिस अब तक उसका कोई सुराग नहीं लगा पाई है।

मोबाइल कॉल डेटा जुटाने में लगी पुलिस
आपको बता दें कि 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र नमन दत्त को आखिरी बार 23 सितंबर को अपनी बिल्डिंग से निकलते देखा गया था। यही नहीं इसके बाद इस छात्र ने सीएसएमटी बाउंड ट्रेन पकड़ी इसकी जानकारी भी जुटा ली गई, लेकिन इसके बाद से उसका कोई सुराग नहीं है। पुलिस नमन नाम के किशोर का मोबाइल कॉल डेटा जुटाने में लगी है।

 

मानसिक अवसाद का शिकार है नमन
गायब हुए नमन दत्त की मां चंद्र मूर्ति एक मनोचिकित्सक भी हैं। मूर्ति ने बताया कि नमन पिछले कुछ समय से डिप्रेशन (मानसिक अवसाद) का शिकार है, औऱ धीरे-धीरे से इससे उबर रहा था। पिछले हफ्ते परिवार में हुए एक मौत के चलते नमन काफी प्रभावित हुआ था। मूर्ति ने कहा कि पुलिस हमारा साथ जरूर दे रही है, लेकिन अभी तक किसी भी तरह की सफलता नहीं मिली है।

हालांकि मामले के एक अन्य संदिग्ध पहलू भी है वो ये कि अब तक भाभा एटोमिक रिसर्च सेंटर कि कई वैज्ञानिक गायब हुए हैं और संदिग्ध हालातों में मृत पाए गए हैं। साल 2010 में भाभा के ही वैज्ञानिक एम पद्मनाभन की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई थी। वहीं साल 2009 में कर्नाटक स्थित कैगा परमाणु रिएक्टर से जुड़े एक सीनियर इंजीनियर लोकनाथन महालिंगम की लाश काली नदी में मिली थी। ऐसे में नमन का लापता होने से किसी साजिश का संदेह भी होता है क्योंकि उसके पिता भी एटोमिक रिसर्च सेंटर में ही वैज्ञानिक थे।

Crime

VIDEO : 100 फ़ीट नीचे कुएं में उतरने पर मिल रहा है सिर्फ एक मटका पानी, पताल से पानी निकालने की जद्दोजहत

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है

Published

on

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है। अप्रैल महीने में ही गर्मी के सितम बढ़ने के साथ ही नहर, नाले और कुएं तक साथ छोड़ने लगे हैं। इसका असर अब ग्रामीण क्षेत्रों में नजर भी आने लगा है। महाराष्ट्र के नासिक जिले का बर्डेवाड़ी गांव दो भागों में बंटा है, इस गांव में करीब 500 आदिवासी परिवार के घर हैं। गर्मी और सूरज की तपीश से जमीन में दरार पड़ गई है। बस्ती के सामने 10 फीट गहरा एक कुआं है। लेकिन पानी का एक बून्द मैयस्सर नहीं, पानी के आस में लोगों ने उस कुएं को खोद खोद कर 100 फ़ीट गहरा कर दिया है।

हालत इतनी बुरी हो गई है परिवार का प्यास बुझाने के लिए महिलाएं और बच्चियां अपनी ज़िन्दगी दाव पर लगाकर हर रोज़ कुएं में उतरती हैं लेकिन मिलता है सिर्फ एक ग्लास से गंदा पानी । हर रोज़ एक मटका पानी भरने में करीब 2 से 3 घंटा लगता है। बस्ती के हर घर की यही कहानी है। यह क्रम पूरे दिन चलता रहता है।

गर्मी शुरू हो चुकी है। ऐसे में पानी की कहानी के कई किस्से आपको पढऩे को मिल जाएंगे। पर, आज हम एक ऐसे गांव की कहानी आपको बता रहे हैं, जहां प्यास बुझाने के लिए हर रोज कई जिंदगियां मौत से लड़ती हैं। 3286 लोगों की आबादी वाला ये गांव नाशिक के बर्डेवाड़ी गांव की कहानी है।

पाताल में पानी होता तो वहां से भी निकाल लाते
पूरे इलाके में पानी का भीषण संकट है। गाँव के आस पास के पांच किलोमीटर के दायरे में सिर्फ दो कुएं हैं जिनमें से दोनों सूख चुके हैं। पीने के पानी का दूसरा स्रोत गांव से 14 किलोमीटर दूर एक कुआं हैं, जहां से पानी निकालना मौत को दावत देने जैसा है। पर, जिंदा रहने के लिए यहां के ग्रामीण इतने कठोर हो चुके हैं कि यदि पाताल में भी पानी होता तो वे वहां से भी निकाल लाते हैं।

जानलेवा है ये कुआं
जो कुआं इस पूरी ग्राम पंचायत की प्यास बुझाता है, उसमें पानी जमीन से करीब 100 फीट नीचे है। पानी दूषित है, फिर भी गांव वाले कुएं में नीचे उतरकर पानी लाते हैं और पीते हैं। महिला और बच्चों को पानी भरने के लिए खुद कुएं में उतरना पड़ता है। इस कुएं पर घाट नहीं है, ऐसे में कुएं में झांकने पर भी इसमें गिरने का डर बना रहता है

Continue Reading

Bollywood Crime

कामसूत्र एक्ट्रेस सायरा खान की मौत, मौत से 48 घंटे पहले एक्ट्रेस ने डायरेक्टर को भेजा था वॉयस मैसेज

फिल्म ‘कामसूत्र 3D’ की एक्ट्रेस सायरा खान का शुक्रवार को निधन हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक सायरा का निधन कार्डियक अटैक की वजह से हुआ है।

Published

on

फिल्म ‘कामसूत्र 3D’ की एक्ट्रेस सायरा खान का शुक्रवार को निधन हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक सायरा का निधन कार्डियक अटैक की वजह से हुआ है। ‘कामसूत्र 3D’में सायरा ने चर्चित अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा की जगह ली थी। अब यह बात सामने आ रही है कि मौत से 48 घंटे पहले एक्ट्रेस ने ‘कामसूत्र 3D’ के डायरेक्टर रुपेश पॉल को वॉयस मैसेज भेजा था।

र‍िपोर्ट के मुताब‍िक सायरा वेब सीरीज में काम करने की प्लान‍िंग कर रही थी। लेकिन सीरीज के ल‍िए प्रोड्यूसर नहीं मिल पाने की वजह से मामला रुका हुआ था। इसी के बारे में सायरा ने अपनी फ‍िल्म के डायरेक्टर को वॉयस मैसेज द‍िया था। इस बारे में जब रुपेश पॉल से बातचीत की गई तो उनका कहना है कि हां ये सच है सायरा वेबसीरीज में लीड रोल करना चाहती थी। मैंने उसे यह साफ बता द‍िया था कि हमारे पास उसके अपोज‍िट कास्ट करने के लिए कोई बड़ा मेल स्टार नहीं है।

रुपेश पॉल ने बताया, इसके बाद सायरा ने कहा था कि उसका एक दोस्त वेब सीरीज प्रोड्यूस करने के लिए तैयार है। मैं इस प्रोजेक्ट के बारे में सोच ही रहा था कि तभी मुझे इस शॉकिंग न्यूज के बारे में पता चला। इस खबर से मैं सदमें में हूं। सायरा की प्लान‍िंग कोई और ही थी, ईश्वर को कोई और ही मंजूर था।

सायरा ने ‘कामसूत्र 3D’ में फिल्म में चर्चित अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा की जगह ली थी। इस फ‍िल्म पर जमकर विवाद भी हुआ था। सायरा की मौत पर रुपेश पॉल ने दुख जताते हुए बताया, शर्लिन की जगह लेने के बाद सायरा ने बहुत ही मुश्किलों का सामना किया। उन्होंने कहा कि सायरा के लिए ये किरदार बेहद ही चुनौतीपूर्ण था। वो एक मुस्लिम परिवार से थीं, जो बहुत ज्यादा रूढ़ीवाद परिवार था। इस वजह से सायरा को फिल्म में लेने में हमें सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा। लेकिन जब सायरा ने किरदार निभाया तो उन्होंने साबित भी कर दिया कि उनसे बेहतर ये किरदार कोई निभा भी नहीं सकता था।

Continue Reading

Crime

प्रेमी युगल पर परिवार का जुल्म, दोनों की सड़क पर सरेआम पिटाई, देखें वीडियो

महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले से एक दिल दहला देने वाली तस्वीर सामने आई है जहां एक प्रेमी युगल की सरेआम सड़क पर जमकर पिटाई की गई.

Published

on

बुलढाणा: महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले से एक दिल दहला देने वाली तस्वीर सामने आई है जहां एक प्रेमी युगल की सरेआम सड़क पर जमकर पिटाई की गई. सोशल मीडिया पर यह वीडियो खूब तेजी से वायरल हुआ देखते ही देखते यह वीडियो पूरे राज्य भर में फैल गया.

वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि प्रेमी युगल नंदूरा बस स्थानक पर मौजूद है जहां उनकी पिटाई की जा रही है. स्थानीय पुलिस के अनुसार यह प्रेमी युगल घर से भागकर शादी करने जा रहा था इस दौरान घर वालों ने उन्हें पकड़ लिया और बीच सड़क उनकी पिटाई शुरू कर दी. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच की जा रही है.

हालांकि प्रेमी युगल नाबालिक हैं या फिर वयस्क इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं है क्योंकि पुलिस ने साफ कहा है कि मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच की जा रही है. लेकिन पुलिस ने भी यह मामला वीडियो वायरल होने के बाद ही दर्ज किया है.

Continue Reading

Bitnami