Connect with us

Maharashtra/Goa

भीमा कोरेगांव हिंसा के आरोपी संभा जी भिड़े पर मेहरबान फडणवीस सरकार , भीड़े के खिलाफ 6 केस वापस

शकील शेख ने आरटीआई में यह जवाब माँगा था की साल 2008 से कुल कितने राजनेताओं या कार्यकर्ताओ के खिलाफ केस वापस लिए गए हैं. सरकार की तरफ से जो जवाब में दिया गया उसमें कहा गया की जून 2017 में संभाजी भिडे और उनके साथियों के खिलाफ दर्ज 3 केस वापस लिए गए जबकि इसके अलावा भिडे और उनके साथियों के खिलाफ 3 और केस वापस लिए गए हैं.

Published

on

भीमा कोरेगांव से सुर्खियों में आये संभा जी भिड़े पर महाराष्ट्र सरकार ने बड़ी मेहरबानी दिखाई है. डेवेबदृ फडणवीस ने भिड़े के खिलाफ दर्ज केसों में से 6 केस सरकार वापस ले चुकी है. ये खुलासा आरटीआई से हुआ है, जिसमे सामने आया है की महाराष्ट्र की देवेंद्र फडणवीस भिड़े की अगुवाई वाले शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान संगठन के सैकड़ों कार्यकर्ताओं को दंगे के मामले में क्लीन चिट दे दी है. जबकि दर्जनों मामलों में दंगे की धाराओं को हटा दिया गया है. इन मामलों में बीजेपी और शिवसेना के नेता व समर्थक शामिल रहे हैं.

हालांकि पुलिस ने दावा किया है संभाजी भिड़े और अन्य के खिलाफ कोरेगांव भीमा हिंसा के मामले में कोई चार्ज हटाया नहीं गया है. पुणे के एसपी संदीप पाटील के मुताबिक, ”हमारी जांच अभी भी जारी है”. दूसरी तरफ, फिल्म जोधा अकबर की रिलीज के दौरान हुई हिंसा के मामले में भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सदस्यों के खिलाफ छह में से तीन मामलों को वापस ले लिया गया है. ये तामाम खुलासे आरटीआई कार्यकर्ता शकील शेख के सवालों के जवाब में आया है.

शकील शेख ने आरटीआई में यह जवाब माँगा था की साल 2008 से कुल कितने राजनेताओं या कार्यकर्ताओ के खिलाफ केस वापस लिए गए हैं. सरकार की तरफ से जो जवाब में दिया गया उसमें कहा गया की जून 2017 में संभाजी भिडे और उनके साथियों के खिलाफ दर्ज 3 केस वापस लिए गए जबकि इसके अलावा भिडे और उनके साथियों के खिलाफ 3 और केस वापस लिए गए हैं.

गौरतलब है कि 2008 से 2014 तक कांग्रेस और एनसीपी की सरकार में कोई भी केस वापस नहीं लिया गया था जबकि 2014 में बीजेपी सरकार आने के बाद जून 2017 से 14 सितंबर 2018 तक 8 शासन फैसले जारी कर कुल 41 केसों में हजारों आरोपियों का केस वापस लिया गया है. RTI से मिली जानकारी के मुताबिक़, महाराष्ट्र सरकार ने बीजेपी और शिवसेना के विधायक और कार्यकर्ताओं या उनके समर्थकों के खिलाफ केस भी वापस लिया. फडणवीस सरकार ने जितने भी 41 केसों को वापस लिया है वो सभी केस दंगा फैलाने, सरकारी काम में बाधा डालने, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और सरकारी कर्मचारी पर हमला करने जैसे संगीन अपराध में दर्ज थे.

किन किन नेताओ पर दर्ज थे मामले और लिए गए वापस

1) राजू शेट्टी और अन्य (सांसद शेतकरी पक्ष) 2 केस

2) अनिल राठौड़ (शिवसेना नेता) 2 केस

3) नीलम गोहे (शिवसेना विधायक) और मिलिंद नार्वेकर (उद्धव ठाकरे)

4) संजय (बाला) भेड्गे (बीजेपी नेता)

5)आशीष देशमुख (बीजेपी विधायक)

6) विकास मठकरी (बीजेपी विधायक)

7)संजय घाटगे (पूर्व बीजेपी और शिवसेना नेता)

8) किरन पावसकर (एमएलसी एनसीपी)

9) अभय छाजेड (कांग्रेस नेता)

10) डॉ. दिलीप येलगावकर (बीजेपी विधायक)

11) प्रशांत ठाकुर ( बीजेपी आमदार और सिड्को अध्यक्ष)

12) अजय चौधरी (शिवसेना विधायक)

Bollywood/Fashion

राहुल को मिली भाभी जी का साथ, कांग्रेस में शामिल होंगी एक्ट्रेस शिल्पा शिंदे

शिल्पा शिंदे का जन्म 28 अगस्त 1977 को महाराष्ट्र के एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता डॉ. सत्यदेव शिंदे हाई कोर्ट में जज थे, जबकि उनकी मां गीता सत्यदेव शिंदे एक गृहिणी हैं। शिल्पा की दो बड़ी बहनें और एक छोटा भाई है।

Published

on

Shilpa Shinde to join congress

मुंबई: बिगबॉस सीज़न 11 विनर और भाभी जी घर पर हैं सीरयल से देशभर की चाहती बनी शिल्पा शिंदे ने औपचारिक तौर पर अब कांग्रेस का हाथ थाम लिया है, विश्वस्त सूत्रों के हवाले से मिली खबर के मुताबिक शिल्पा शिंदे को मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने पार्टी की सदस्य्ता दिलाई है और जल्द ही मुंबई से उनके चुनाव लड़ने का भी एलान किया जा सकता है.

आपको बता दें कि राजनीतिक पार्टियों में टीवी कलाकार और सिने जगत से जुड़े कलाकारों को ना सिर्फ चुनावी प्रचार में मतदाताओं का मन जितने के लिए जोड़ा जाता है बल्कि वक्त वक्त पर इन कलाकारों को राजनीतिक एंट्री भी मिलती रही है केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी इसका सबसे बड़ा उदहारण बनी हुई है.

वैसे बात अगर शिल्पा शिंदे की की जाए तो मुंबई सहित देशभर में शिल्पा शिंदे की बड़ी फैन फॉलोविंग है और यकीनन कांग्रेस ने इसी फैन फॉलोविंग को ध्यान में रखकर शिल्पा शिंदे को अपनी पार्टी में जगह दी है और आने वाले दिनों में शिल्पा शिंदे को मुंबई या फिर महाराष्ट्र की किसी अन्य सीट से लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का उम्मीदवार भी घोषित किया जा सकता है.

महाराष्ट्र कि रहने वाली शिल्पा शिंदे ने अपना टेलीविजन करियर साल 1999 में किया था। उन्होंने भाभी जी घर पर है ! में अंगूरी भाभी का किरदार निभाने के लिए जाना जाता है। उन्होंने 2016 की शुरुआत में शो छोड़ दिया था। अक्टूबर 2017 में शिंदे ने रियलिटी टीवी शो बिग बॉस 11 में भाग लिया, जिसे उन्होंने अंततः 14 जनवरी 2018 को जीता।

शिल्पा शिंदे का जन्म 28 अगस्त 1977 को महाराष्ट्र के एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता डॉ. सत्यदेव शिंदे हाई कोर्ट में जज थे, जबकि उनकी मां गीता सत्यदेव शिंदे एक गृहिणी हैं। शिल्पा की दो बड़ी बहनें और एक छोटा भाई है। वो केसी कॉलेज, मुंबई की मनोविज्ञान की छात्र थीं, लेकिन स्नातक की डिग्री प्राप्त करने में असफल रहीं। उसके पिता चाहते थे कि वह कानून की पढ़ाई करे, लेकिन उसमें उनकी कोई दिलचस्पी नहीं थी।

Continue Reading

Maharashtra/Goa

नाशिक में तेंदुए के हमले में नेता पत्रकार घायल, अस्पताल में भर्ती कराया गया

पुलिस और वन विभाग की टीम ने पूरे चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए को पकड़ा. अब इस पूरे ऑपरेशन का वीडियो भी सामने आया है. जिसमे तेंदुआ लोगों पर हमला करता दिखाई दे रहा है.

Published

on

महाराष्ट्र के नाशिक में एक रिहाइशी इलाके में घुसकर तेंदुए ने तीन लोगों को घायल कर दिया. तेंदुआ पास की पहड़ियों से होते हुए इंसानी बस्ती में घुस आया था. जैसे ही तेंदुआ के वहां होने की खबर लोगों को लगी वहां काफी भीड़ जमा हो गई थी. वन विभाग का फ़ौरन खबर दी गई लेकिन इससे पहले की वन अधिकारी तेंदुआ पर काबू पाते उसने तीन लोगों को गंभीर रूप से घायल कर दिया था. घायलों में एक पूर्व नगरसेवकी के इलावा दो पत्रकार भी हैं.

आखिरकार पुलिस और वन विभाग की टीम ने पूरे चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए को पकड़ा. अब इस पूरे ऑपरेशन का वीडियो भी सामने आया है. जिसमे तेंदुआ लोगों पर हमला करता दिखाई दे रहा है.

पुलिस के मुताबिक तेंदुआ सुबह करीब आठ बजे ही इंसानी बस्ती सावरकर नगर में घुसा था. उसे वन विभाग के कर्मी करीब पौने 11 बजे पकड़ पाए. घायलों में स्थानीय शिव सेना के पार्षद संतोष गायकवाड़, एक टेलीविजन चैनल के कैमरामैन तबरेज शेख और कपिल भास्कर शामिल हैं. इन सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Continue Reading

Bollywood Crime

‘ठाकरे’ vs ‘मणिकर्णिका’आमने सामने, सिनेमाघरों में शिवसेना ने रोका शो कंगना के घर के बाहर हंगामा

‘मणिकर्णिका’ को लेकर कंगना के घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे करणी सेना के 6 सदस्य गिरफ्तार.

Published

on

Protest against Manikarnika

मुंबई: आज बॉलीवुड की दो बड़ी फिल्में रिलीज़ हो रहीं हैं।बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ तो दूसरी है झांसी की रानी लक्ष्मीबाई पर बनी फिल्म ‘मणिकर्णिका’। फिल्म की रिलीज़ के साथ विवाद भी शुरू हो गया है।एक तरफ करनी सेना ने विरोध शुरू कर दिया है तो दूसरी तरफ शिवसेना थेयटर में फिल्म चलने नहीं दे रही है। महारष्ट्र के कई सिनेमाघरों में फिल्म मणिकर्णिका रोक दी गई है। मुंबई पुलिस ने कंगना के घर के बाहर से करनी सेना के कई कार्यकर्ताओं को अपनी हिरासत में लिया है।

फिल्म ‘मणिकर्णिका’ रिलीज होते ही वाशी के आईनॉक्स सिनेमा हॉल के बाहर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया है। शिवसेना कार्यकर्ताओं ने मणिकर्णिका देखने आए लोगों के साथ मारपीट की और उन्हें सिनेमाघरों से भगा दिया। उनका आरोप था कि, जानबूझकर सिनेमा मालिक मणिकर्णिका को ज़्यादा जगह दे रहे हैं। यह हंगामा फिल्म ‘ठाकरे’ के पोस्टर न लगाएं जाने को लेकर किया गया। कार्यकर्ताओं ने हंगामा करते हुए सुबह के शो को रोक दिया। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि बाकी फिल्मों के पोस्टर लगाए गए हैं तो ठाकरे के क्यों नहीं लगाए?

वहीँ शिवसेना कि तरफ से महाराष्ट्र के कई हिस्सों में बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ का फ्री शो दिखाया जा रहा है। वसई में भी शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने सुबह 8 बजे फिल्म का फ्री शो दिखाने के लिए सिनेमा हॉल के बाहर प्रदर्शन किया और मणिकर्णिका के पोस्टर पहाड़ डाले। कई सिनेमा घरों के बाहर शिवसेना कार्यकर्ता डोल नगाड़ों के साथ कार्यकर्ता बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ को देखने पहुंचे।

Continue Reading

Latest

%d bloggers like this:
Bitnami