Connect with us

Social Per Hit

गोलियों के बीच फंसे पत्रकार का वो आखिरी संदेश, नक्सली हमले में शहीद हुआ है पत्रकार

वीडियो में मोर मुकुट ने क्या कहा-
‘आतंकवादी हमला हो गया है.. हम दंतेवाड़ा में हैं.. हम लोग चुनाव के कवरेज के लिए आए थे. एक रास्ते से जा रहे थे. आर्मी हमारे साथ थी. अचानक नक्सलियों ने घेर लिया.. मम्मी अगर मैं जीवित बचा.. मम्मी मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं.. ‘

Published

on

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए पुलिस और नक्सलियों के बीच चल रहे मुठभेड़ के दौरान डीडी न्यूज का एक पत्रकार समेत दो जवान शहीद हो गए थे. घने जंगलों में अचानक 100-150 की संख्या में माओवादियों ने CRPF पार्टी पर हमला बोल दिया था. उनके साथ दूरदर्शन की टीम भी थी जो इसकी चपेट में आ गए थे. अब इस हमले के करीब 24 घंटे बाद एक वीडियो सामने आया है. जिसे दूरदर्शन के असिस्टेंट कैमरामेन ने शूट किया था. मोर मुकुट नाम के इस कैमरामेन के इस वीडियो में लगतार गोलियों की आवाज़ सुनी जा सकती है और ज़मीन पर लेटे मोर मौजूदा हालत को बयान कर रहे हैं.

मोर मुकुट ने खुद के बचने की उम्मीद भी छोड़ दी थी और अपनी माँ के नाम एक भावुक संदेश भी रिकॉर्ड किया था. वो इस वीडियो में बेहद डरे हुए और भावुक नज़र आ रहे हैं. वीडियो बनाते वक़्त वो खुद इस बात को कह रहे हैं की इस भीषण गोलीबार में अब उनका बचना काफी मुश्किल है. आपको बता दें, माओवादियों के द्वारा ये हमला तब हुआ था जब पुलिस सर्च ऑपरेशन पर निकली थी.

वीडियो में मोर मुकुट ने क्या कहा-
‘आतंकवादी हमला हो गया है.. हम दंतेवाड़ा में हैं.. हम लोग चुनाव के कवरेज के लिए आए थे. एक रास्ते से जा रहे थे. आर्मी हमारे साथ थी. अचानक नक्सलियों ने घेर लिया.. मम्मी अगर मैं जीवित बचा.. मम्मी मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं.. ‘

उन्होंने आगे कहा, ”हो सकता है मैं इस हमले में मारा जाऊं.. परिस्थिति सही नहीं है.. पता नहीं क्यों मौत को सामने देखते हुए डर नहीं लग रहा है.. बचना मुश्किल लग रहा है यहां पर 6-7 जवान हैं हमारे साथ में चारों तरफ से घेर लिया गया है.. फिर भी मैं यहीं कहूंगा..”

मंगलवार को छत्तीसगढ़ माओवादियों के द्वारा ये हमला निलवाया गांव के जंगलों के पास किया गया था. मंगलवार सुबह माओवादी और पुलिस के बीच एनकाउंटर हुआ था. ये पूरा हमला जिला प्रशासनिक कार्यालय से लगभग 30 किमी दूर हुआ था. वहीं दंतेवाड़ा के DIG ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि, ‘दो पुलिस के अधिकारी के साथ-साथ दूरदर्शन के एक कैमरामैन अच्युतानंद शहीद हो गए है.’

इसके साथ ही उन्होंने कहा था, ‘ये घटना चुनाव से संबंधी है या नहीं ये जांच के बाद ही पता चलेगा. वो लोग अपनी उपस्थिति दर्ज करने के लिए हमला कर रहे हैं. हमारे पास स्पेशल टीम भी है हम कार्यवाई करेंगे. इन क्षोत्रों में हम सुरक्षा को लेकर पहले से भी सर्तक थे.. 2018 में हमने उनके खिलाफ काफी आक्रामक तरीके से कार्रवाई की थी..घटना की जांच करने के बाद ही पूरा मामला पता चलेगा.’

Crime

VIDEO : 100 फ़ीट नीचे कुएं में उतरने पर मिल रहा है सिर्फ एक मटका पानी, पताल से पानी निकालने की जद्दोजहत

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है

Published

on

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है। अप्रैल महीने में ही गर्मी के सितम बढ़ने के साथ ही नहर, नाले और कुएं तक साथ छोड़ने लगे हैं। इसका असर अब ग्रामीण क्षेत्रों में नजर भी आने लगा है। महाराष्ट्र के नासिक जिले का बर्डेवाड़ी गांव दो भागों में बंटा है, इस गांव में करीब 500 आदिवासी परिवार के घर हैं। गर्मी और सूरज की तपीश से जमीन में दरार पड़ गई है। बस्ती के सामने 10 फीट गहरा एक कुआं है। लेकिन पानी का एक बून्द मैयस्सर नहीं, पानी के आस में लोगों ने उस कुएं को खोद खोद कर 100 फ़ीट गहरा कर दिया है।

हालत इतनी बुरी हो गई है परिवार का प्यास बुझाने के लिए महिलाएं और बच्चियां अपनी ज़िन्दगी दाव पर लगाकर हर रोज़ कुएं में उतरती हैं लेकिन मिलता है सिर्फ एक ग्लास से गंदा पानी । हर रोज़ एक मटका पानी भरने में करीब 2 से 3 घंटा लगता है। बस्ती के हर घर की यही कहानी है। यह क्रम पूरे दिन चलता रहता है।

गर्मी शुरू हो चुकी है। ऐसे में पानी की कहानी के कई किस्से आपको पढऩे को मिल जाएंगे। पर, आज हम एक ऐसे गांव की कहानी आपको बता रहे हैं, जहां प्यास बुझाने के लिए हर रोज कई जिंदगियां मौत से लड़ती हैं। 3286 लोगों की आबादी वाला ये गांव नाशिक के बर्डेवाड़ी गांव की कहानी है।

पाताल में पानी होता तो वहां से भी निकाल लाते
पूरे इलाके में पानी का भीषण संकट है। गाँव के आस पास के पांच किलोमीटर के दायरे में सिर्फ दो कुएं हैं जिनमें से दोनों सूख चुके हैं। पीने के पानी का दूसरा स्रोत गांव से 14 किलोमीटर दूर एक कुआं हैं, जहां से पानी निकालना मौत को दावत देने जैसा है। पर, जिंदा रहने के लिए यहां के ग्रामीण इतने कठोर हो चुके हैं कि यदि पाताल में भी पानी होता तो वे वहां से भी निकाल लाते हैं।

जानलेवा है ये कुआं
जो कुआं इस पूरी ग्राम पंचायत की प्यास बुझाता है, उसमें पानी जमीन से करीब 100 फीट नीचे है। पानी दूषित है, फिर भी गांव वाले कुएं में नीचे उतरकर पानी लाते हैं और पीते हैं। महिला और बच्चों को पानी भरने के लिए खुद कुएं में उतरना पड़ता है। इस कुएं पर घाट नहीं है, ऐसे में कुएं में झांकने पर भी इसमें गिरने का डर बना रहता है

Continue Reading

Bollywood/Fashion

पीएम नरेंद्र मोदी के लिए अक्षय कुमार बने पत्रकार, लिया इंटरव्यू

बॉलीवुड के खिलाडी यानी अक्षय कुमार उन स्टार्स में से हैं, जो देश से अपना जुड़ाव दिल से महसूस करते हैं.

Published

on

बॉलीवुड के खिलाडी यानी अक्षय कुमार उन स्टार्स में से हैं, जो देश से अपना जुड़ाव दिल से महसूस करते हैं. ऐसे में अक्षय एक एक्टर होने के अलावा अब एक पत्रकार की भूमिका में भी नजर आ रहे हैं. जी हां, दरअसल अक्षय ने और कोई नहीं बल्कि भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू लिया है, जो कि अपने आप में खास है.

नीचे देखें अक्षय कुमार और नरेंद्र मोदी के बीच हुई बातचीत का खास वीडियो:

Continue Reading

Crime

श्रीलंका में हमला : न्यूजीलैंड की मस्जिदों पर हुई गोलीबारी का बदला, सामने आया हमलावर का वीडियो

श्रीलंका सीरियल बम ब्लास्ट का सीसीटीवी ( CCTV) फुटेज सामने आया है। जिसमें फिदाइन हमलावर जिसका फुटेज साफ तो नज़र नहीं आ रहा है।

Published

on

श्रीलंका सीरियल बम ब्लास्ट का सीसीटीवी ( CCTV) फुटेज सामने आया है। जिसमें फिदाइन हमलावर जिसका फुटेज साफ तो नज़र नहीं आ रहा है। लेकिन उसके कंधे पर एक भारी बैग दिखाई दे रहा है। शक है की इसी फिदायीन ने चर्च में विस्फोटक प्लांट किया था। और उसके कंधे पर जो बैग उसी में विस्फोटक लाया गया था।

28 सेकंड का ये वीडियो कोलंबो के संत सेबेस्टियन चर्च का है। संदिग्ध हमलावर नीली शर्ट में चर्च में दाखिल होते हुए दिखाई दे रहा है। जिसके महज़ कुछ ही मिनट के बाद ज़ोरदार धमाका हुआ था।

देखिए VIDEO

वहीं श्रीलंका के एक वरिष्ठ मंत्री ने मंगलवार को कहा कि देश में गत रविवार को ईस्टर के मौके पर गिरजाघरों और होटलों को निशाना बनाकर किए गए हमले न्यूजीलैंड में मस्जिदों पर की गई गोलीबारी का बदला थे। श्रीलंका के रक्षा मंत्री रुवन विजयवर्द्धने ने संसद को संबोधित करते हुए बताया कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि घातक धमाके क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी का बदला हैं, जिसमें 50 लोगों की जान चली गई थी। विजयवर्द्धने ने साथ ही बताया कि हमले में घायल 500 में से 375 का इलाज अब भी अस्पताल में जारी है।

श्रीलंका सरकार ने कहा है कि ईस्टर के मौके पर रविवार को देश में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों की वजह से हुई विनाश की घटना कल्पना से परे थी और खुफिया जानकारी पहले मिल जाने के बावजूद देश में बड़ी संख्या में मौजूद गिरजाघरों को सुरक्षा प्रदान करना तकरीबन ‘असंभव था। इन हमलों में 10 भारतीयों समेत 310 लोगों की मौत हो गई है।

देश के रक्षा मंत्री हेमासिरी फर्नांडो ने मंगलवार को स्थानीय मीडिया से यह बात कही। माना जा रहा है कि सात आत्मघाती हमलावरों ने इन हमलों को अंजाम दिया। इनका संबंध स्थानीय कट्टर इस्लामिक संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) से माना जा रहा है। हालांकि किसी समूह ने सीधे इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है।

फर्नांडो ने कहा कि, ”इन हमलों की जानकारी पहले मिल जाने के बाद भी गत रविवार को इतनी अधिक संख्या में मौजूद चर्चों को सुरक्षा प्रदान करना असंभव था। उन्होंने संडे टाइम्स से कहा कि सरकार ने कल्पना नहीं की थी कि इतने बड़े पैमाने पर हमले को अंजाम दिया जायेगा।

फर्नांडो ने कहा कि देश की खुफिया एजेंसियों ने सरकार को पहले ही सूचित कर दिया था कि देश में एक छोटा लेकिन ताकतवर आपराधिक समूह सक्रिय है। इससे पहले इन हमलों में मारे गए लोगों की याद में देश में तीन मिनट का मौन रखा गया। इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज झुका दिये गए। यह रस्मी शोक सुबह साढ़े आठ बजे शुरू हुआ।

गौरतलब है कि श्रीलंका में रविवार को गिरजाघरों तथा पांच सितारा होटलों को निशाना बनाकर किये गए सिलसिलेवार धमाकों में 321 लोगों की जान चली गई है और अन्य 500 लोग घायल हुए हैं।

Continue Reading

Bitnami