Connect with us

Crime

अहमदनगर के आर्मी कैन्‍टॉनमेंट इलाके से तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया गया, पूछताछ जारी

शुक्रवार की सुबह ख़ुफ़िया एजेंसी की एक टीम अहमदनगर के आर्मी कैन्‍टॉनमेंट इलाके से तीन संदिग्धों को हिरासत में लेकर आयी थी. हिरासत में लिए तीनों लोग आर्मी की यूनिफॉर्म पहनकर इलाके में घूम रहे थे. उनके कपडे सेना के जैसे थे और वो बार बार कैंप के पिछले हिस्से में आना जाना कर रहे थे.

Published

on

Attired in military uniform, youth held in Cantt area

महाराष्ट्र के अहमदनगर के भारतीय एजेंसियों ने तीन संदिग्धों को आर्मी के कपड़ों में हिरासत में लिया है. तीनों संदिग्ध आर्मी कैन्‍टॉनमेंट इलाके संदेहास्पद तरीके घूम रहे थे. जिन तीन लोगों से पूछताछ की जा रही है उनमे से दो लोग यूपी के रहने वाले हैं जबकि एक अहमदनगर का रहने वाला है. पूछताछ में इन तीनों ने जो खुलासा किया है उसे सुनकर खुद तफ्तीशकर्ता भी दंग हैं. ये तीनों ठगी है और लोगों से ठगी के मकसद से आर्मी के भेष में घूम रहे थे. आरोपियों ने बताया कि, उन लोगों ने यूपी के रहने वाले दोनों युवकों को आर्मी में नौकरी दिलाने का झांसा दिया था. जब दोनों पैसे लेकर आए तो ये लोग ये दिखाने के लिए आर्मी के भेष में घूम रहे थे की वो भी सेवा में हैं और उनके वेशभूषा से लड़कों को शक न हो. लेकिन इससे पहले की तीनों लड़कों से पैसे ले पाते ख़ुफ़िया एजेंसी उन्हें उठा ले गयी.

पुलिस के मुताबिक, शुक्रवार की सुबह ख़ुफ़िया एजेंसी की एक टीम अहमदनगर के आर्मी कैन्‍टॉनमेंट इलाके से तीन संदिग्धों को हिरासत में लेकर आयी थी. हिरासत में लिए तीनों लोग आर्मी की यूनिफॉर्म पहनकर इलाके में घूम रहे थे. उनके कपडे सेना के जैसे थे और वो बार बार कैंप के पिछले हिस्से में आना जाना कर रहे थे. जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया था. अब तक महाराष्‍ट्र पुलिस के इलावा तीनों से एटीएस और अखुफिया एजेंसियों ने तीनों संदिग्धों से पूछताछ की है.जांच में तीनों ने ठगी की जानकारी दी है जिसे वेरिफाई करने की कोशिश की जा रही है. हालाँकि पुलिस फिलहाल उनके पहचान बताने को तैयार नहीं है.

ख़ुफ़िया एजेंसी लगातार सेना के ठिकानों को लेकर इनपुट देती आ रहा है. ये पहले भी खुलासा हो चूका है की कुछ पाकिस्तानी आतंकी संघठन देश के अहम ठिकानों को निशाना बनाने के फ़िराक में है. इसके लिए लगातार उनके स्लीपर सेल ग्राउंड पर काम भी कर रहे हैं. ऐसे में इन तीनों का इस तरह से सेना के कैम्प के पास देखा जाना एजेंसियों के लिए होश उड़ाने वाला था. सूत्र बताते हैं की अब तक की पूछताछ से एजेंसियों को नहीं लगता है की तीनों किसी बड़ी साज़िश के फ़िराक में थे, फिर भी उनके द्वारा दी गयी सारी जानकारी को क्रॉस वेरिफाई किया जा रहा है.

Crime

पत्रकार हत्याकांड में बड़ा खुलासा, महिला इंटर्न का आरोप दो साल से कर रहा था उत्पीड़न

पत्रकार हत्याकांड ठाणे पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है। पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में पत्रिका की इंटर्न और मैगजीन का प्रिंटर है। मुंबई की एक मासिक समाचार पत्रिका इंडिया अनबाउंड के संपादक की हत्या कर लाश जंगल में मिली थी। वह 15 मार्च से लापता थे। तभी उनके लापता होने की शिकायत संबंधित थाने में दर्ज कराई गई थी।

Published

on

ठाणे: पत्रकार हत्याकांड ठाणे पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है। पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में पत्रिका की इंटर्न और मैगजीन का प्रिंटर है। मुंबई की एक मासिक समाचार पत्रिका इंडिया अनबाउंड के संपादक की हत्या कर लाश जंगल में मिली थी। वह 15 मार्च से लापता थे। तभी उनके लापता होने की शिकायत संबंधित थाने में दर्ज कराई गई थी।

ठाणे ग्रामीण पुलिस का दावा है की इस मामले को पूरी तरह से सुलझा लिया गया है और आरोपियों ने भी अपना गुनाह क़ुबूल कर लिया है। पुलिस के मुताबिक हत्या के आरोप में गिरफ्तार इंटर्न पत्रकार अंकिता मिश्रा ने पहले उन्हें गुमराह करने की कोशिश की थी। लेकिन जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो पूरा मामला खुलकर सामने आ गया।

यौन उत्पीड़न कर रहा था संपादक
महिला पत्रकार ने पुलिस की पूछताछ में खुलासा किया है कि, संपादक नित्यानंद पांडेय पिछले दो सालों से उसका यौन उत्पीड़न कर रहा था। उसने उसका वीडियो बना लिया था जिसे दिखकर वो अक्सर उसे ब्लैकमेल करता था। बस इसी सब से परेशान होकर उसने संपादक कि हत्या कि साज़िश रची। अपने इस प्लान में उसने मैगजीन के प्रिंटर सतीश मिश्रा को भी शामिल कर लिया था।

फ़्लैट पर अकेले बुलाया था
प्लान के मुताबिक, अंकिता ने अपने संपादक नित्यानंद को एक फ़्लैट में बुलाया। फिर एक एनर्जी ड्रिंक में नींद कि गोली मिलाकर उसे पीला दिया। नित्यानंद पांडे उसे पीने का बाद पांडे बेहोश हो गए। तब अंकिता और मैगजीन के प्रिंटर सतीश ने गला घोंटकर उनकी हत्या कर दी। फिर दोनों उनकी लाश को एक कार में भरकर भिवंडी ले गए और जंगल में एक सुनसान इलाके में फेंक कर फरार हो गए।

मामले की तफ्तीश कर रही पुलिस ने जब जांच शुरू की तो सबसे पहला शक अंकिता पर ही आया था। जब उससे पूछताछ की तो उसने किसी तरह की भी संलिप्तता से साफ़ इंकार कर दिया था। लेकिन मोबाइल लोकेशन और सीसीटीवी की जांच के बाद उससे सख्ती से पूछताछ की गई तो वो टूट गई और सारा मामला सामने आ गया।

Continue Reading

Crime

औरंगाबाद में बीच सड़क पर एक शख्स पर तलवार से हमला, सामने आया वीडियो

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में अपराधियों के हौसले इतने बुलंद है कि वह बीच सड़क पर तलवारों से बाइक पर बैठे व्यक्ति पर हमला कर फरार हो गए। अपराधियों ने इस वारदात को सरेआम सड़क पर अंजाम दिया है। अब इस पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है, जिसमे अपराधी बाइक पर बैठे पीड़ित पर तलवार से हमला करते हुए दिखाई दे रहे हैं

Published

on

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में अपराधियों के हौसले इतने बुलंद है कि वह बीच सड़क पर तलवारों से बाइक पर बैठे व्यक्ति पर हमला कर फरार हो गए। अपराधियों ने इस वारदात को सरेआम सड़क पर अंजाम दिया है। अब इस पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है, जिसमे अपराधी बाइक पर बैठे पीड़ित पर तलवार से हमला करते हुए दिखाई दे रहे हैं। घटना को 48 घंटे से ज़्यादा का वक़्त बीत गया है लेकिन अब तक पुलिस के हाथ आरोपियों तक नहीं पहुँच पाए हैं।

इस हमले में घायल हैदर अली ने बताया कि, वह अपने बेटे को टयूशन क्लास से लाने के लिए शाहबाजार गया था। बच्चे के इंतजार में वो अपनी मोटरसाइकिल पर बैठा हुए थे, तभी किसी ने काम के बहाने फोन कर उनसे मिलने की बात कही। जैसे ही हैदर ने उन्हें अपना मौजूदा पता बताया, फोन रखने के तुरंत बाद दो लोगों ने उस पर तलवार से हमला कर दिया। जिसके बाद वहां मुजूद लोगों ने उसे अस्पताल पहुँचाया।

हमले में घायल व्यक्ति हैदर अली का कहना है कि, उसकी चार बेटियां हैं और बड़ी बेटी की शादी 2013 में हुई थी। लेकिन शादी के बाद से ही उसके सुसराल वाले परेशान कर रहे थे। हैदर अली की बेटी ने अपने ससुराल वालों के खिलाफ 2018 को अदालत में मामला दर्ज करवाया जिसके बाद से उसके ससुराल वाले हैदर अली को धमकियां दे रहे थे। कई बार हैदर अली ने औरंगाबाद के जिन्सी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई लेकिन वहां पर उससे शिकायत नहीं सुनी गई।

फिलहाल औरंगाबाद के सिटी चौक पुलिस थाने में हैदर अली पर तलवार से हमला करने वाले दो अज्ञात लोगों के खिलाफ IPC की धारा 324 और आर्म्स एक्ट के तेहत मामला दर्ज किया है और पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।

Continue Reading

Bollywood Crime

बस एक कॉल में लूट लिया इंडियल आइडल की कंटेस्टेंट के लाखों रूपये

इंडियल आइडल की कंटेस्टेंट अवंती पटेल और उनकी बहन के बैंक अकाउंट से लाखों रुपये उड़ाने वाले तीन लोगों को मुंबई और झारखंड पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन में धर दबोचा है। अवंती पटेल खाते से ये चोरी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के जरिए की गई थी। मुंबई ने देवघर पुलिस की मदद से देवघर के सोनारायठाड़ी तीन साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया।

Published

on

इंडियल आइडल की कंटेस्टेंट अवंती पटेल और उनकी बहन के बैंक अकाउंट से लाखों रुपये उड़ाने वाले तीन लोगों को मुंबई और झारखंड पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन में धर दबोचा है। अवंती पटेल खाते से ये चोरी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के जरिए की गई थी। मुंबई ने देवघर पुलिस की मदद से देवघर के सोनारायठाड़ी तीन साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया।

इंडियन आइडल 10 की कंटेस्टेंट अवंती पटेल ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके और उनकी बहन के खाते से 1 लाख 70 हजार रुपये गायब हो गए हैं। उन्होंने ने नए डेबिट कार्ड के लिए आवेदन किया था जिसे बैंक द्वारा अभी तक एक्टिवेट नहीं किया गया था। इसी बीच उनके नंबर पर पंकज शर्मा नाम के एक शख्स ने कॉल किया और खुद को बैंक का कर्मचारी बताया।

कॉल करने वाले शख्स ने उनसे उनके बैंक से जुडी कुछ जनकारी मानगी और अवंती ने उसे अपने बैंक अकाउंट के बारे में पूरी जानकारी दे दी। उन्होंने उसे अपने पुराने डेबिट कार्ड के सीवीवी नंबर समेत सभी जानकारी दे दी। इसके बाद उनके नंबर पर फिर से कॉल आया और ओटीपी बताने के लिए कहा गया और यहीं से खेल शुरू हुआ।

ओटीपी बताने के साथ ही उनके नंबर पर दूसरा मैसेज आया जिसे देखकर उनका होश उड़ गया। मैसेज में अकाउंट से 50 हजार रुपये कटने की जानकारी थी। इसके बाद तीन बार में कुल 1.50 लाख रुपये उनके अकाउंट से गायब हो गए। गौर करने वाली बात यह है कि उस व्यक्ति ने अवंती को फिर से फोन किया।

पंकज ने अवंती को फिर से फोन किया और कहा कि चिंता करने की कोई बात नहीं है। पूरे पैसे उनके अकाउंट में फिर से आ जाएंगे। इसके बाद पंकज ने अवंती से गारंटर के तौर पर उनकी बहन के बैंक अकाउंट की पूरी जानकारी मांगी और बहन के अकाउंट से भी 50,000 रुपये उड़ा लिए। पंकज ने अवंती को फिर से फोन किया और कहा कि चिंता करने की कोई बात नहीं है।

पूरे पैसे उनके अकाउंट में फिर से आ जाएंगे। इसके बाद पंकज ने अवंती से गारंटर के तौर पर उनकी बहन के बैंक अकाउंट की पूरी जानकारी मांगी और बहन के अकाउंट से भी 50,000 रुपये उड़ा लिए।

इस पूरी धोखाधड़ी कि शिकायत अवंति पटेल ने सायन थाने में कराई थी। जिसकी छानबीन में साइबर अपराधियों का लोकेशन देवघर में डिटेक्ट हुआ। उसी आधार पर मुंबई पुलिस की एक टीम देवघर पहुंची। फिर देवघर पुलिस की मदद से छापेमारी कर तीनों अपराधियों को सोनारायठाड़ी थाना क्षेत्र में अलग- अलग जगहों से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार अपराधियों के पास से पुलिस ने 15 मोबाइल, 4 पासबुक और एक एटीएम कार्ड जब्त किये गये।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this:
Bitnami