Connect with us

Home

200 फीट गहरे बोरवेल में फंसे 6 साल के बच्चे ने जीती मौत से जंग- NDRF की टीम बनी मसीहा 

महाराष्ट्र के पुणे से 6 साल के एक मासूम के 200 फुट गहरे बोरवेल में गिरने की दुखद खबर बुधवार शाम सामने आई थी, एनडीआरएफ की टीम तुरंत मौके पर पहुंची और उसके बाद राहत और बचाव का काम शुरू किया गया.

Published

on

महाराष्ट्र के पुणे से 6 साल के एक मासूम के 200 फुट गहरे बोरवेल में गिरने की दुखद खबर बुधवार शाम सामने आई थी, जिसके बाद इसकी सूचना एनडीआरएफ (NDRF) की टीम को दी गई, एनडीआरएफ की टीम तुरंत मौके पर पहुंची और उसके बाद राहत और बचाव का काम शुरू किया गया.

एनडीआरएफ की टीम को कुल 15 घंटे लगे और 15 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद टीम ने आखिरकार बच्चे को जीवित बाहर निकाल लिया है. प्रत्यक्षदर्शियों ने बच्चे के बाहर निकलते ही NDRF की टीम का ताली बजाकर अभिवादन किया। करुणामई ये दृश्य आप भी वीडियो में देख सकते हैं. बुधवार शाम करीब 4:30 या 5:00 बजे के आसपास यह घटना घटी थी तब से यह बच्चा बोरवेल के अंदर ही फंसा हुआ था 15 घंटे बाद यानी गुरुवार को करीब सुबह 8:00 बजे बच्चे को बाहर निकालने में एनडीआरएफ की टीम को सफलता मिली.

बोरवेल में फंसे 6 वर्षीय बच्चे का नाम रवि बताया गया है, आपको बता दें कि रवि की जिंदगी और मौत के बीच जो संघर्ष 15 घंटे तक चला इस संघर्ष में एनडीआरएफ की टीम को बड़ी कामयाबी मिली है. मौके पर मौजूद सभी प्रत्यक्षदर्शी लगातार बच्चे के जीवित बाहर निकलने की कामना कर रहे थे, इसके साथ ही एनडीआरएफ की टीम लगातार बच्चे से संपर्क बनाए हुए थी आपको यह भी बता दें कि बोरवेल 200 फीट गहरा था लेकिन बच्चा 10 फुट के अंतराल पर ही फंसा था. लेकिन फिर भी पथरीली जमीन होने के कारण एनडीआरएफ की टीम को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी.

जिसके बाद आखिरकार( 6 साल के ) बोरवेल में फंसे रवि को निकालने में एनडीआरएफ की टीम को कामयाबी मिली. खबर के साथ दिए गए वीडियो में आप देख सकते हैं कि किस बहादुरी से एनडीआरएफ की टीम उस बच्चे को अपनी गोद में लेकर बोरवेल से बाहर निकल रही है, हालांकि बच्चा रो रहा है बच्चा दहशत में है, लेकिन जब वह बच्चा अंदर था तो एनडीआरएफ की टीम ने उसका 1 मिनट के लिए भी हौसला कम नहीं होने दिया.

बच्चे से लगातार संपर्क किया जा रहा था उसे बताया जा रहा था कि एनडीआरएफ की टीम आप को बचाने का कार्य कर रही है. बोरवेल से बाहर निकलने के बाद वीडियो में दिख रहे मासूम बच्चे की भावनाएं बता रही है कि उसने इस 15 घंटे में क्या-क्या झेला है, लेकिन खुशी की बात यह है कि उसके इस रोने के पीछे परिवार से दोबारा मिलने की भी एक खुशी झलक रही है.

जिस तरह से एनडीआरएफ की टीम ने रवि की जान बचाई है उसके लिए एनडीआरएफ के जज्बे को चौथी दुनिया की तरफ से हम सलाम करते हैं, क्योंकि आपदा के वक्त यही एनडीआरएफ की टीम भगवान बनकर लोगों के पास पहुंचती है और लोगों की जान बचाती है.

Crime

मॉडल की ड्रग्स ओवरडोज कराकर की गई हत्या,हॉस्पिटल के बाहर फेंकर भाग गए आरोपी !

मॉडल इकरा सईद की ड्रग्स ओवरडोज के जरिए संदिग्ध हालात में मौत हो गई। कराची की रहने वाली 22 वर्षीय इकरा मॉडलिंग के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए लाहौर में रह रही थीं।

Published

on

मॉडल इकरा सईद की ड्रग्स ओवरडोज के जरिए संदिग्ध हालात में मौत हो गई। कराची की रहने वाली 22 वर्षीय इकरा मॉडलिंग के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए लाहौर में रह रही थीं।

आरोप है कि तीन आरोपियों ने इकरा को लाहौर के गवर्नमेंट टीचिंग हॉस्पिटल शाहदरा तक पहुंचाया और फिर वहां से भाग गए। शुरुआती जांच में पता चला है कि हॉस्पिटल की तरफ से एक फोन कॉल आया था जिसमें इकरा के हॉस्पिटल में होने की जानकारी मिली थी।

डॉक्टरों ने बताया कि इकरा की मौत ड्रग्स की ओवरडोज की वजह से हुई है। वह अपने माता-पिता की इच्छा के विरुद्ध जाकर मॉडलिंग के क्षेत्र में आई थीं। सईद की पहचान उनके सेल फोन के जरिए की गई।

जांच में यह भी पता चला है कि इकरा मॉडलिंग के क्षेत्र में काम की तलाश कर रही थीं। काम न मिल पाने से परेशान इकरा गलत लोगों की संगति में फंस गईं। आरोपियों ने इकरा को जबरन अधिक मात्रा में ड्रग्स दिया। बता दें कि पुलिस ने इकरा को हॉस्पिटल तक पहुंचाने वाले उन तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है और मामले की जांच चल रही है। और आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद ही मामले का पूरा खुलासा होने की बात कही है।

Continue Reading

Exclusive

Loksabha Election 2019 : अगर आपके पास वोटर ID कार्ड नहीं है तो इन पहचान पत्रों से भी दे सकते हैं वोट, जानें कैसे ?

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण की वोटिंग गुरुवार, 11 अप्रैल को होने जा रही है। इस बार का लोकसभा चुनाव 7 चरणों में होगा

Published

on

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण की वोटिंग गुरुवार, 11 अप्रैल को होने जा रही है। इस बार का लोकसभा चुनाव 7 चरणों में होगा। सातवें चरण की वोटिंग 19 मई को होगी और चुनाव का परिणाम 23 मई को आएगा। चुनाव में वोट डालने के लिए आपको वोटर आईडी कार्ड की जरूरत होती है, लेकिन किसी कारणवश आपके पास अपना वोटर आईडी कार्ड नहीं है, तो घबराएं नहीं। आप दूसरे कई पहचान पत्रों की मदद से भी मतदान कर सकते हैं।

आप इन चीजों की मदद से भी दे सकते हैं वोट

मतदान करने के लिए आपके पास 11 फोटो पहचान पत्रों में से कोई भी एक होना जरूरी है। जिसे आपको अपने पोलिंग बूथ पर लेकर जाना होगा। आप ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, राज्य सरकार या केंद्र सरकार के द्वारा जारी सर्विस आईडेंटिटी कार्ड, पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक या पोस्ट ऑफिस द्वारा दिया गया पासबुक, मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रालय द्वारा जारी स्वास्थ्य बीमा कार्ड, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के दस्तावेज, पेंशन संबंधी दस्तावेज, वोटर आईकार्ड और प्रमाणित फोटो वोटर स्लिप का भी उपयोग कर सकते हैं।

Continue Reading

Bollywood/Fashion

सुप्रीम कोर्ट ने पीएम मोदी की बायोपिक पर रोक संबंधित याचिका पर सुनवाई टाली

पीएम नरेंद्र मोदी की बायोपिक इस 11 अप्रैल को रिलीज होने के लिए तैयार है.

Published

on

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बायोपिक के रिलीज पर रोक लगाने की याचिका को ख़ारिज कर दिया है. अब इस मामले पर आगे मंगलवार को सुनवाई होने वाली है. ऐसे में कोर्ट ने इस बात से भी इंकार कर दिया कि फिल्म के डायरेक्टर किसी को भी फिल्म का कोई प्रिंट देंगे.

अदालत ने सोमवार को आदेश पारित नहीं किया और कहा कि वह मंगलवार को याचिका पर सुनवाई करेगी और इस बीच, याचिकाकर्ता यह बता सकता है कि फिल्म में क्या आपत्तिजनक है. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने एक कांग्रेस कार्यकर्ता की याचिका पर कमेंट कर कहा, “हमें यह क्यों निर्देशित करना चाहिए कि किसी व्यक्ति को फिल्म की कॉपी दी जाए.”

पीठ ने याचिकाकर्ता के वकील से कहा: “हम यह देखने में विफल हैं कि इस तरह की दिशा कैसे जारी की जा सकती है … हम यह समझने में विफल हैं कि ऐसी दिशा क्यों दी जाए.” वकील ने कहा कि प्रोड्यूसर ने बयान दिया था कि बायोपिक 11 अप्रैल को रिलीज़ होगी.

पीठ ने कहा कि फिल्म की रिलीज की तारीख पर बयान देना असामान्य बात नहीं है, क्योंकि प्रोड्यूसर ने मान लिया होगा कि इसे सेंसर बोर्ड से प्रमाणन मिल जाएगा. पीठ ने कहा कि उस समय रिलीज को चुनौती देने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं थे, खासकर फिल्म का कंटेंट.

Continue Reading

Bitnami