Connect with us

Exclusive

Video: प्रकाश अंबेडकर के विवादित बोल- सत्ता में आये तो चुनाव आयोग को भेजेंगे जेल

प्रकाश अंबेडकर के विवादित बोल- सत्ता में आये तो चुनाव आयोग को भेजेंगे जेल

Published

on

यवतमाल: प्रकाश अंबेडकर ने यवतमाल में विवादित बयान दिया है, उन्होंने कहा मोदी सरकार राजनीति के लिये सेना की भी बली दे रही है और इलेक्शन कमिशन कहता है पुलवामा पर आप मत बोलो, अरे हम बोलेंगे, हमें बोलने का अधिकार संविधान ने दिया है, हमारी सत्ता आने दो उस इलेक्शन कमीशन को दो दिन जेल मे डाले बगैर नही रहेंगे।

लोकसभा चुनाव से पहले नेताओं के विवादित बोल अपने चरम पर पहुंच गए हैं मुद्दा चाहे जो भी हो जमकर भुनाया जा रहा है। महाराष्ट्र के दलित नेता प्रकाश आंबेडकर ने भी इस सूची में अपना नाम दर्ज करा लिया है। मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए प्रकाश आंबेडकर ने महाराष्ट्र के यवतमाल की एक रैली में कहा कि मोदी सरकार राजनीति के लिए सेना की बलि ले रही है।

जिस पर इलेक्शन कमीशन भी मोदी सरकार का साथ दे रहा है,  इलेक्शन कमिशन दूसरों को कहता है कि पुलवामा हमले और भारतीय एयर स्ट्राइक की बातें राजनीति के मंच पर ना करें। वहीं दूसरी तरफ मोदी सरकार जमकर इस मुद्दे को भुना रही है। ऐसे में हमारी पार्टी पुलवामा पर बोलेगी क्योंकि बोलने का अधिकार हमें संविधान ने दिया है।

आपको बता दें कि प्रकाश अंबेडकर भारत के संविधान निर्माता बाबासाहेब आंबेडकर के वंशज हैं। बस इतने पर ही प्रकाश आंबेडकर नहीं रुके उन्होंने कहा कि अगर हमारी सत्ता आई तो इलेक्शन कमीशन पर उनका प्रहार भी होगा।

इलेक्शन कमिशन के लोगों को 2 दिन के भीतर ही वह जेल में डाल देंगे। उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव से पहले जनता नेताओं के इस तरह की बदजुबानी और विवादित बोल का मतलब समझेगी और सोच समझ कर अपने मताधिकार का प्रयोग करेगी।

Bollywood/Fashion

भंसाली और राजामौली के साथ काम करने पर बोलीं आलिया, सोचा नहीं था कभी करूंगी इनकी फिल्म

आलिया भट्ट ने कहा है कि उन्हें कभी यकीन नहीं था कि वे प्रख्यात फिल्मकारों संजय लीला भंसाली और एस एस राजामौली की फिल्मों का हिस्सा बनेंगी. आलिया, भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” और राजामौली द्वारा निर्देशित “आरआरआर” को लेकर बेहद उत्साहित हैं.

Published

on

आलिया भट्ट ने कहा है कि उन्हें कभी यकीन नहीं था कि वे प्रख्यात फिल्मकारों संजय लीला भंसाली और एस एस राजामौली की फिल्मों का हिस्सा बनेंगी. आलिया, भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” और राजामौली द्वारा निर्देशित “आरआरआर” को लेकर बेहद उत्साहित हैं. उन्होंने कहा कि निर्देशन के मामले में दोनों एक समान हैं.

आलिया ने कहा, “मेरे लिये इन दोनों निर्देशकों के साथ काम करना बहुत बड़ी बात है. इन दोनों में एक समानता है कि वह अपनी फिल्मों के प्रति जुनूनी हैं.”

View this post on Instagram

Aaj Se Kalank ♥️

A post shared by Alia 🌸 (@aliaabhatt) on

उन्होंने कहा, “वे अपने काम को लेकर बिल्कुल स्पष्ट दृष्टिकोण रखते हैं. वह बहुत रचनात्मक हैं. यही कलात्मकता है. मुझे कभी यकीन नहीं था कि मैं उनकी किसी भी फिल्म का हिस्सा बनूंगी.गौरतलब है कि आलिया ने इससे पहले नौ वर्ष की आयु में 2005 में भंसाली की फिल्म ‘ब्लैक’ के लिये ऑडिशन दिया था, लेकिन उन्हें नकार दिया गया था. भंसाली की फिल्म “इंशाल्लाह” में वह पहली बार सलमान खान के साथ नजर आएंगी. फिल्म की शूटिंग अगस्त में शुरू होने की उम्मीद है.

इसके अलावा वे पहली बार तेलुगु फिल्म ‘आरआरआर’ में अभिनय करेंगी, जिसके लिये उन्होंने तेलुगु भाषा सीखनी शुरू कर दी है. फिल्म 30 जुलाई, 2020 तक पर्दे पर आने की संभावना है.

Continue Reading

Bollywood Crime

नौकरानी ने एक्ट्रेस किम शर्मा के खिलाफ दर्ज कराया मामला, सैलरी ना देने और धमकाने के आरोप

इन दिनों बॉलीवुड एक्ट्रेस दो कारणों से खूब चर्चा में हैं। एक तो सड़क पर खुल्लम खुल्ला प्यार और खार थाने में उनके खिलाफ बार बार शिकायत।

Published

on

मुंबई: इन दिनों बॉलीवुड एक्ट्रेस दो कारणों से खूब चर्चा में हैं। एक तो सड़क पर खुल्लम खुल्ला प्यार और  खार थाने में उनके खिलाफ बार बार  शिकायत। पहले एक बिज़नेसमैन ने किम पर उनके कार की चोरी का आरोप लगाया तो अब उनकी ही नौकरानी ने उन पर उसकी सैलरी ना देने मारपीट करने और धमकाने का आरोप लगाया है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस किम की नौकरानी रही नम्रता सोलंकी नाम की महिला ने अपने केस में यह आरोप लगाये हैं कि किम ने उन्हें सैलरी नहीं दी और धमकी देकर उसके खिलाफ पुलिस में गलत शिकायत दर्ज करायी है। उसका आरोप है कि, एक्ट्रेस ने उसे जान से मरने की धमकी तक दी है।

घर का काम करने वाली नम्रता का आरोप है कि उसे पिछले एक महीने से सैलरी नहीं मिली और जब उसने किम शर्मा से सैलरी मांगी तो किम भड़क गेन और उसे धमकाने लगीं।यहाँ तक की किम ने मारने तक की कोशिश की, जिसके बाद नम्रता खार पुलिस थाने पहुंचीं और फिर किम के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी। अब इस मामले में मुंबई पुलिस एक्ट्रेस किम शर्मा से पूछताछ करेगी।

ये कोई पहली बार नहीं हैं जब किम पर इस तरह का आरोप लगा हो। इससे पहले 2018 में भी उनकी घर काम करने वाली 31 साल की एस्थर खेस ने किम पर सैलरी न देने और मारपीट करने का आरोप लगाया था।

ये घटना 21 मई कि है जब वो कपड़े धो रही थी तो वो लाईट और डार्क कलर के कपड़ों को अलग करना भूल गई। जिससे कुछ कपड़ों में हलके से रंग छूटने लगे और एक कपडे पर उसका दाग आ गया। जिससे एक्ट्रेस बेहद नाराज़ हो गईं। गुस्से में किम ने उसके साथ बुरी तरह मारपीट कि और घर से निकल जाने के लिए भी कहा। यही नहीं किम ने उसकी सैलरी तक नहीं गई। जब कभी भी वो अपनी सैलरी के लिए उनके पास गई किम ने उसके साथ बहुत बुरा बर्ताव किया ।

किम शर्मा के इन हरकतों से परेशान होकर काम करने वाली महिला ने 27 जून को उनके खिलाफ खार पुलिस में अभिनेत्री के खिलाफ नॉन-कॉग्निजेबल अपराध का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने एक्ट्रेस के खिलाफ आईपीसी की धारा 323 और 504 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। वहीँ किम का आरोप है कि उन पर ये सब आरोप बेबुनियाद हैं।

Continue Reading

Bollywood/Fashion

‘पीएम नरेंद्र मोदी’ बॉयोपिक पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से रिपोर्ट मांगी

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को चुनाव आयोग (ईसी) को ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ फिल्म देखकर इस पर इस सप्ताह के अंत तक बंद लिफाफे में रिपोर्ट पेश करने

Published

on

दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को चुनाव आयोग (ईसी) को ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ फिल्म देखकर इस पर इस सप्ताह के अंत तक बंद लिफाफे में रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस दीपक गुप्ता तथा न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने फिल्म के निर्माता संदीप सिंह की याचिका पर सुनवाई के लिए 22 अप्रैल की तारीख तय की है.

जब अदालत ने ईसी के वकील से पूछा कि क्या ईसी ने फिल्म देखी है, तो फिल्म निर्माता के वकील मुकुल रोहतगी ने अदालत से कहा कि ईसी ने फिल्म को देखे बिना इसकी रिलीज को टाल दिया है. इसके बाद पीठ ने ईसी से फिल्म देखने और इस पर रिपोर्ट अदालत को देने को कहा.

फिल्म निर्माताओं ने फिल्म की रिलीज को टाले जाने के खिलाफ शीर्ष अदालत में याचिका दाखिल की है. उन्होंने कहा है कि ईसी का आदेश संविधान प्रदत्त अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का उल्लंघन है. बीते हफ्ते ईसी ने चुनाव के दौरान राजनैतिक फिल्मों की स्क्रीनिंग पर रोक लगाने का आदेश जारी किया था.

‘पीएम नरेंद्र मोदी’ को आम चुनाव के पहले चरण के मतदान के दिन, 11 अप्रैल को रिलीज होना था. ईसी ने कहा था कि किसी भी बॉयोपिक को सिनेमाघर या इलेक्ट्रानिक मीडिया में नहीं दिखाया जाए क्योंकि इसे दिखाए जाने से चुनाव के सभी पक्षों को एक समान अवसर उपलब्ध कराने के सिद्धांत का उल्लंघन होता है.

इससे पहले 9 अप्रैल को शीर्ष अदालत ने कांग्रेस नेता अमन पवार द्वारा फिल्म की रिलीज को रोकने की मांग करने वाली याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि मामले में ईसी को फैसला करने देना चाहिए.

Continue Reading

Bitnami