Connect with us

Crime

VIDEO : 100 फ़ीट नीचे कुएं में उतरने पर मिल रहा है सिर्फ एक मटका पानी, पताल से पानी निकालने की जद्दोजहत

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है

Published

on

गर्मी ने ठीक से अपनी तपिश भी नहीं दिखाई है और महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में पानी सैंकड़ों फ़ीट नीचे पाताल में नहीं मिल रहा है। अप्रैल महीने में ही गर्मी के सितम बढ़ने के साथ ही नहर, नाले और कुएं तक साथ छोड़ने लगे हैं। इसका असर अब ग्रामीण क्षेत्रों में नजर भी आने लगा है। महाराष्ट्र के नासिक जिले का बर्डेवाड़ी गांव दो भागों में बंटा है, इस गांव में करीब 500 आदिवासी परिवार के घर हैं। गर्मी और सूरज की तपीश से जमीन में दरार पड़ गई है। बस्ती के सामने 10 फीट गहरा एक कुआं है। लेकिन पानी का एक बून्द मैयस्सर नहीं, पानी के आस में लोगों ने उस कुएं को खोद खोद कर 100 फ़ीट गहरा कर दिया है।

हालत इतनी बुरी हो गई है परिवार का प्यास बुझाने के लिए महिलाएं और बच्चियां अपनी ज़िन्दगी दाव पर लगाकर हर रोज़ कुएं में उतरती हैं लेकिन मिलता है सिर्फ एक ग्लास से गंदा पानी । हर रोज़ एक मटका पानी भरने में करीब 2 से 3 घंटा लगता है। बस्ती के हर घर की यही कहानी है। यह क्रम पूरे दिन चलता रहता है।

गर्मी शुरू हो चुकी है। ऐसे में पानी की कहानी के कई किस्से आपको पढऩे को मिल जाएंगे। पर, आज हम एक ऐसे गांव की कहानी आपको बता रहे हैं, जहां प्यास बुझाने के लिए हर रोज कई जिंदगियां मौत से लड़ती हैं। 3286 लोगों की आबादी वाला ये गांव नाशिक के बर्डेवाड़ी गांव की कहानी है।

पाताल में पानी होता तो वहां से भी निकाल लाते
पूरे इलाके में पानी का भीषण संकट है। गाँव के आस पास के पांच किलोमीटर के दायरे में सिर्फ दो कुएं हैं जिनमें से दोनों सूख चुके हैं। पीने के पानी का दूसरा स्रोत गांव से 14 किलोमीटर दूर एक कुआं हैं, जहां से पानी निकालना मौत को दावत देने जैसा है। पर, जिंदा रहने के लिए यहां के ग्रामीण इतने कठोर हो चुके हैं कि यदि पाताल में भी पानी होता तो वे वहां से भी निकाल लाते हैं।

जानलेवा है ये कुआं
जो कुआं इस पूरी ग्राम पंचायत की प्यास बुझाता है, उसमें पानी जमीन से करीब 100 फीट नीचे है। पानी दूषित है, फिर भी गांव वाले कुएं में नीचे उतरकर पानी लाते हैं और पीते हैं। महिला और बच्चों को पानी भरने के लिए खुद कुएं में उतरना पड़ता है। इस कुएं पर घाट नहीं है, ऐसे में कुएं में झांकने पर भी इसमें गिरने का डर बना रहता है

Crime

मुंबई के दादर इलाक़े में लगी भीषण आग, 15 साल की बच्ची की हुई मौत

मुंबई के दादर इलाक़े में आग लगने का मामला सामने आया है. जिसमें एक 15 साल की बच्ची की मृत्यु होने की बात कही जा रही है.

Published

on

मुंबई के दादर इलाक़े में आग लगने का मामला सामने आया है. जिसमें एक 15 साल की बच्ची की मृत्यु होने की बात कही जा रही है.

मिली जानकारी के मुताबिक आग दादर पुलिस स्टेशन के परिसर में स्थित एक रहिवासी इमारत में लगी है. आग की सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने मौके पर पहुंचकर राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया.

फायर ब्रिगेड के अधिकारीयों के मुताबिक आग इमारत की तीसरी मंजिल पर एक मक़ान में लगी है. हालांकि आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है. लेकिन इसके पीछे सिलेंडर फटने की आशंका जताई जा रही है.

सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि आग लगने के वक्त 15 साल की श्रावणी चव्हाण घर में ही मौजूद थी. हालांकि पुलिस की तरफ से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं हुआ है. मामले की जांच की जा रही है.

Continue Reading

Crime

पुलिस कस्टडी में वैन में टिक टॉक वीडियो बना रहा है नागपुर का कुख्यात गैंगस्टर, वीडियो वायरल होने के बाद जांच शुरू

सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। वीडियो टिक टॉक एप के लिए बनाया गया है। ये वीडियो ख़ास है, इसलिए खास है क्योंकि वीडियो पुलिस वैन में बनाया गया है। वीडियो में दिखने वाला शख्स नागपुर शहर का कुख्यात गैंगस्टर है

Published

on

नागपुर: सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। वीडियो टिक टॉक एप के लिए बनाया गया है। ये वीडियो ख़ास है, इसलिए खास है क्योंकि वीडियो पुलिस वैन में बनाया गया है। वीडियो में दिखने वाला शख्स नागपुर शहर का कुख्यात गैंगस्टर है। जिसने पुलिस कस्टडी में रहते हुए ये वीडियो बनाया है।

वो भी तब जब उसे पेशी के लिए ले जाया जा रहा था। इस वीडियो को बनाने के बाद आरोपी ने खुद इसे सोशल मीडिया में वायरल कर दिया है। लेकिन जो बात हैरान करती है, वो यह है कि, यह वीडियो कोराडी थाने के बिलकुल सामने खड़ी सीआर मोबाइल वाहन नंबर एमएच-31 एजी 9826 में बनाया गया है।

भाई का टिक टॉक वीडियो

वीडियो शहर के गैंगस्टर सय्यद मोबिन अहमद ने खुद बनाया है। जिसमे कभी वो बिना हंथकडी के पुलिस वैन से घूमते हुए दिखाई देता है, तो कभी पेट्रोलिंग कार से ऐसे निकलता है मानो कार उसकी जागीर है। उसके आस पास कोई पुलिस वाला भी दिखाई नहीं देता। नागपुर का हिस्टीशीटर वीडियो में मोबिन खुद को ‘मोंस्टर’ बता रहा है। इसमें बैकग्राउंड में कोलार गोल्ड फिल्ड (केजीएफ ) फिल्म के प्रसिद्ध डायलॉग ‘ गैंग लेकर आनेवाले होते है गैंगस्टर, वह अकेला आता है मोंस्टर‘ सुनाई देता है।

कुख्यात है मोबिन !

पुलिस रिकॉर्ड में वीडियो में दिखने वाले सय्यद मुबीन पर पहले से कई मामले दर्ज हैं और कुख्यात चामा गैंग का प्रमुख है। उसके खिलाफ वरोरा, वणी और गिट्टी खदान में हत्या के प्रयास के मामले दर्ज है। और तो और उस पर पुलिसवालों पर  हमले का भी आरोप है। फिलहाल वह एक मामले में गिरफ्तार है।

Continue Reading

Bollywood Crime

करण ओबेरॉय को नहीं मिली ज़मानत, अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजा

रविवार को रेप और ब्लैकमेल के आरोपों में गिरफ्तार किए गए टीवी एक्टर करण ओबेरॉय को अदलात ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है

Published

on

रविवार को रेप और ब्लैकमेल के आरोपों में गिरफ्तार किए गए टीवी एक्टर करण ओबेरॉय को अदलात ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। करण के वकीलों ने इस मामले को झूठा बताकर अदालत से राहत की गुहार लगाईं थी। लेकिन कोर्ट ने उनकी एक न सुनी और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। करण को अब आज की रात मुंबई के आर्थर रोड जेल में गुज़ारना होगा और कल उनके वकील ज़मानत के लिए अर्ज़ी लगाएंगे।

वहीं करण के सपोर्ट में उनके सभी दोस्त आज अदालत में पहुंचे थे। एक्ट्रेस पूजा बेदी ने ये तक भी आरोप लगाया कि करण को फंसाया जा रहा है। जिस महिला ने रेप का मामला दर्ज कराया उसके खिलाफ करण ने पहले ही मामला दर्ज कराया था। अब वो जान बूझकर करण से बदला लेने के लिए ये सब कर रही है। कुछ लोग अपने महिला होने का फायदा उठाना चाहती हैं और पैसों के लिए इस तरह से झूठे मुक़दमे दर्ज करा रहीं हैं।

ऐक्ट्रेस पूजा बेदी ने कहा, ‘हम सभी करण को जानते हैं और इस बात की जमानत दे सकते हैं कि वह बेहद शरीफ आदमी हैं। उन पर लगाए गए आरोप काफी गंभीर हैं। अभी तक जो सार्वजनिक तौर पर सामने आया है उसके मुताबिक, यह लड़की करण से साल 2016 के अंत में एक डेटिंग ऐप के जरिए मिली थी। यह घटना संभवतः 2017 की है और तब इसकी कोई खबर सामने नहीं आई थी। अक्टूबर 2018 में करण ने इस महिला के खिलाफ शोषण की शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि 2018 में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वह और करण रिलेशनशिप में थे और उन्होंने करण को कई सामानों के साथ ही गिफ्ट्स भी दिए थे। साल 2019 में उन्होंने करण के खिलाफ मामला दर्ज कराया और उन्होंने कथित तौर पर जनवरी 2017 की घटी घटना की शिकायता समय भी ऐसा चुना जबकि अदालतों की छुट्टियां हो जाती हैं। 2018 में दिए गए इंटरव्यू में उनके बयान 2019 में दर्ज कराई गई उनकी एफआईआर से बिल्कुल भी मेल नहीं खाते हैं।

एक्टर करण के खिलाफ एक फैशन डिजाइनर ने रेप के आरोप लगाए हैं। जिसके बाद मुंबई पुलिस ने ‘स्वाभिमान’ और ‘जस्सी जैसी कोई नहीं’ से पॉपुलर होने वाले एक्टर करण सिंह ओबेरॉय को एक महिला से शादी का झांसा देकर रेप करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है ।

Continue Reading

Bitnami