0

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में दो साल की मासूम बच्‍ची की नृशंस हत्या के बाद पूरा देश गुस्‍से में है। हर कोई यही कह रहा है कि किसी मासूम के साथ कोई इतनी हैवानियत कैसे कर सकता है। सामने आई पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्ची का शरीर इस लायक ही नहीं बचा था कि बलात्कार जैसे अपराध की जांच की जा सके। बच्ची की किडनी तक दरिंदों ने निकाल ली थी।

अपनी दो साल की मासूम के साथ हुई इस बर्बरता के बाद परिजनों ने सरकार से आरोपियों के लिए मौत की सजा की मांग की है। वहीं, बच्ची की मां ने केंद्र की मोदी सरकार और योगी सरकार से मांग की है कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। परिजनों का कहना है कि अगर दोषियों को केवल 7 साल की सजा दी जाती है तो जेल से निकलकर वे और अपराध कर सकते हैं।

सह-आरोपी असलम अपनी ही 4 साल की बेटी के साथ कर चुका है
रेप मृतक बच्ची की मां ने ये भी आरोप लगाया कि सह-आरोपी असलम अपनी ही चार साल की बेटी के साथ रेप कर चुका है, जिसके बाद उसी दिन आरोपी की पत्नी अपनी बेटी को लेकर घर से चली गई थी। बता दें कि अलीगढ़ हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। इस मामले में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

दोनों आरोपी गिरफ्तार अलीगढ़ में हुई दिल दहला देने वाली इस वारदात के बाद प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं। बच्ची की हत्या के बाद इलाके के लोगों में गुस्सा है और लोग दोषियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। चार दिन से लापता मासूम बच्ची का शव कूड़े के ढेर में पड़ा मिला था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आई हैवानियत जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, मौत का कारण दम घुटना, लेफ्ट चेस्ट पर पिटाई, सारी पसलियां टूटी हुई, बायें पैर में फ्रैक्चर, आंखों पर जख्म, सिर में चोट, सीधा हाथ कंधे की तरफ से कटा हुआ है, बहुत ज़्यादा पीटा गया है। इसके साथ ही बॉडी में कीड़े पड़ गए थे, जिससे हड्डी तक एक्सपोज़ हो रही है। मासूम को दरिंदों ने इस कदर मारा कि उसकी नेजल ब्रिज (नाक व माथे को जोड़ने वाली हड्डी) तक फ्रेक्चर हो गया।

किडनी व यूरिन ब्लेडर भी नहीं पाया गया रिपोर्ट में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि बच्ची की किडनी व यूरिन ब्लेडर नहीं पाया गया। बच्ची का सीधा हाथ धड़ से अलग था। जिसकी वजह से उस जगह पर कीड़े पड़ चुके थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों ने हत्या तीन से चार दिन पूर्व होने की आशंका जताई है। यानि बच्ची की हत्या 30 मई को लापता होने के बाद ही कर दी गई थी। इस वजह से शव सड़ चुका था।

जैश का एक और आतंकी ‘इकबाल अहमद’ ढेर, जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग मुठभेड़ में मिली कामयाबी

Previous article

Maharashtra SSC Result 2019: महाराष्ट्र बोर्ड दसवीं के नतीजे घोषित, 20 स्टूडेंट्स के 100 फीसदी अंक

Next article

You may also like

More in Crime

Comments

Comments are closed.