Crime

अपनी बीवी और बेटी का क़त्ल करने वाले प्रोफेसर को मिली उम्र क़ैद

0

पति और बेटी के क़ातिल प्रोफेसर को ठाणे की अदालत ने उम्र क़ैद की सजा सुनाई है। पत्नी से शारीरक संबंध बनाने के दौरान हुए विवाद को लेकर आरोपी प्रोफेसर ने उनकी हत्या कर दी थी। हत्या के वक़्त उनके दोनों बच्चे भी घर में थे, आरोपी पत्नी की हत्या करने के बाद नौ साल की बेटी अथर्व को भी मार डाला था जबकि बेटे ने पड़ोसियों के घर भाग कर अपनी जान बचाई थी। इन हत्याओं के बाद प्रोफेसर ने ख़ुदकुशी की कोशिश की थी,  मगर वो बच गए थे। इस मामले में आरोपी फ्रोफेसर पति को ठाणे जिला व सत्र न्यायालय आजीवन कारावास की सजा सुनायी है।

उल्लेखनीय है कि, प्रोफेसर संजय उंबरकर (51) अपनी पत्नी स्वाती (40), बेटी अथर्व  (9) तथा ऋग्वेद (15) के साथ ठाणे में रहता था। दो जुलाई 2012 की रात आरोपी संजय पत्नी स्वाती के साथ शारीरक संबंध स्थापित कर रहा था। उसी समय घर के बाहर किसी का झगड़ा शुरू हो गया था। लोगों की आवाज सुनकर पत्नी स्वाती घर के बाहर आने लगी, जबकि पति संजय उसे रोकता रहा। बावजूद इसके वो झगडा देखने बाहर आ चली गईं। इसके बाद वह स्वाती को कई बार बुलाया, लेकिन वह नहीं आई। इससे नाराज संजय ने जैसे ही पत्नी बेडरूम में आई और उसी समय उसने कोयते से प्रहार कर हत्या कर दी थी। माँ स्वाती की आवाज सुनकर बेटी अथर्व भी बेडरूम में आ गई थी। आरोप है की निर्दयी पिता संजय ने उसपर भी वार कर हत्या कर दिया था। घर में हुए इस दोहरे हत्याकांड को बेटा ऋग्वेद देख रहा था।

इसके बाद स्थानीय कापूरबावड़ी पुलिस ने दोहरे हत्या कांड का मामला दर्ज करते हुए आरोपी संजय को गिरफ्तार कर लिया था। करीब पांच वर्षों तक चली सुनवाई के दौरान पुलिस द्वारा कई सबूतों को पेश किये गए। जबकि ठाणे जिला व सत्र न्यायालय में शुरू अंतिम सुनवाई के दौरान पुलिस द्वारा पेश किये गए साक्ष्यों, बेटे ऋग्वेद और पड़ोसियों की गवाहों तथा सरकारी अधिवक्ता की दलीलें सुनने के बाद न्यायाधीश पीआर कदम ने आरोपी संजय को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साथ ही पांच हजार रुपये आर्थिक दंड भरने का भी आदेश दिया है। इस मामले में बेटे ऋग्वेद के बयान को अहम माना गया।

जब मोस्ट वांटेड आरोपी को पकड़ने के लिए पुलिस ने पहना धोती

Previous article

वंदेमातरम को लेकर भीड़े शिवसेना-बीजेपी और एआईएमआईएम के नगर सेवक

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami