रणबीर कपूर के किरायेदार ने उन पर दर्ज कराया मुक़दमा, कहा एक्टर ने उनसे धोखा किया

फिल्म संजू के रिलीज़ के बाद आज सबसे ज़्यादा चर्चा संजू यानी संजय दत्त का किरदार निभाने वाले एक्टर रणबीर कपूर की हो रही है. लोग उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे हैं की बेहद सच्चाई के साथ रणबीर ने इस किरदार को निभाया है. लेकिन उनके करीबी एक शख्स ने रणबीर पर बेहद गंभीर आरोप लगाते हुए उनपर 50 लाख का मुकदमा दर्ज करा दिया है. आरोप लगाया है की रणबीर फ्रॉड और धोकेबाज़ हैं जिन्होंने उनके साथ दगा किया है इसलिए उन्होंने एक्टर रणबीर कपूर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है.

ये पूरा मामला रणबीर कपूर के पुणे में स्तिथ ट्रम्प टावर के फ़्लैट से जुड़ा है. पुणे के कल्याणी नगर के ट्रम्प टॉवर में रणबीर के दो फ़्लैट. जिनमे से एक फ़्लैट रणबीर साल 2016 अक्टूबर में किराए पर दिया था. कोरेगांव के इस पॉश फ़्लैट में शीतल सूर्यवंशी अपने पूरे परिवार के साथ रहती हैं. शीतल के मुताबिक जब उन्होंने रणबीर कपूर के 6,094 square-feet के फ़्लैट को किराया पर लिया था तब ये तय हुआ था की वो लीव लाइसेंस के मुताबिक पहले 12 महीने तक 4 लाख रूपये हर महीने देंगी. फिर अगले 12 महीने बाद किराया बढ़कर 4 लाख 20 हज़ार हो जाएगा. इसके इलावा शीतल ने 24 लाख का डिपोसिट भी जमा किया था.

लेकिन शीतल के मुताबिक अगस्त 2017, यानी फ़्लैट में शिफ्ट होने के 11 महीने बाद ही उन्हें घर खाली करने को कहा गया. जबकि एग्रीमेंट के मुताबिक ये डील पूरे 24 महीने के लिए लॉक किया गया था. घर खाली करने से पहले रणबीर की तरफ से उन्हें कोई नोटिस तक नहीं दिया गया . सिर्फ इतना कहा गया की एक्टर अपने घर में शिफ्ट होने वाले हैं

वहीँ रणबीर ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से इंकार करते हुए अदालत में अपनी प्रतिक्रिया दायर की है, जिसमें कहा गया है कि सूर्यवंशी को फ्लैट खाली करने के लिए नहीं कहा गया था. समझौते के एक हिस्‍से में बताता है कि लॉक-इन अवधि 12 महीने तक होगी और लाइसेंसधारक (सूर्यवंशी) उस अवधि से पहले इसे समाप्त नहीं कर सकता है.


Close Bitnami banner
Bitnami