उल्हासनगर में फिर सामने आया चैन स्नैचिंग का मामला , वारदात CCTV में कैद

उल्हासनगर में शाम होते ही महिलाएं अपने अपने घरो में छिप जाती है। शाम के समय वो अपने घरों से निकलने में दस बार सोचती है। आखिर क्या है? इन महिलाओं के अंदर इस खौफ की वजह। अब हम आपको बताएँगे की आखिर किस बात का डर है जो ये महिला शाम के वक़्त अपने घरों में से निकलने के लिए दस बार सोचती है। दरअसल इन दिनों उल्हासनगर से कई आपराधिक मामले सामने आ रहे है। जिसमे चैन स्नेचिंग के कई घटना सामने आ रहे है। चैन स्नेचर बेख़ौफ़ होकर राह चलती महिलाएं और बुजुर्गों के गले पर हाथ साफ़ कर गले में से किमती मंगलसूत्र और सोने की चैन छीनकर रफूचक्कर हो जाते है।

कल उल्हासनगर के जवाहर थिएटर के पास से एक चैन स्नेचिंग का मामला सामने आया है। लेकिन यह पूरी वारदात थिएटर के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। वीडियो में आप साफ़ देख सकते है जवाहर थिएटर से दो महिलाएं निकल कर अपने घर की और जा रही थी। तभी सामने से आ रहे बाइक वाले ने उस महिला के गले में हाथ डालकर मंगलसूत्र और सोने की चैन खींचकर फरार हो गया। आप यही सोच रहे होंगे की वहा पर तो अक्सर राह चलती महिला के साथ चैन स्नेचिंग की वारदात होती है। लेकिन जो इस बार चैन स्नेचिंग हुई है यह कोई आम महिला नहीं है बल्कि एक बड़े राज नेता की फॅमिली मेंबर्स है। कल जिस महिला के गले से चैन स्नेचर सोना छीनकर भागे है वो महिला उल्हासनगर मनपा के पूर्व उपमहापौर और तत्कालीन समय में उल्हासनगर मनपा सदन के नेता जमनु पुरसवानी के परिवार की सदस्य है।

उल्हासनगर पुलिस ने चोरी की शिकायत दर्ज कर जाँच शुरू कर दी हैं। इस घटने के बाद सवाल उठ रहे है की जहाँ अब खुद बीजेपी सरकार के परिवार वाले ही सुरक्षित नहीं वहां आम लोग का क्या कहेंगे?


Close Bitnami banner
Bitnami