CrimeNationalTop Stories

निर्भया केस : वकील इंदिरा जयसिंह के बयान पर भड़कीं निर्भया की मां, कहा- उनकी हिम्मत कैसे हुई

0

वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह (Indira Jaising) ने निर्भया (Nirbhaya Case) की मां आशा देवी (Asha Devi) से दोषियों को माफ करने की बात कही है. जयसिंह ने एक ट्वीट करते हुए लिखा कि वह उनसे (निर्भया की मां) सोनिया गांधी का उदाहरण लेने का अनुरोध करती हैं. सोनिया ने नलिनी (राजीव गांधी की हत्या की दोषी) को माफ कर कहा था कि वह उसके लिए फांसी की सजा नहीं चाहती हैं. जयसिंह ने उनसे कहा कि वह उनके साथ हैं लेकिन फांसी की सजा के खिलाफ हैं. जिसके बाद आशा देवी ने इस बारे में कहा, ‘इंदिरा जयसिंह कौन होती हैं उन्हें यह सुझाव देने वालीं. पूरा देश चाहता है कि दोषियों को फांसी की सजा मिले. उनके जैसे लोगों की वजह से रेप पीड़िताओं को न्याय नहीं मिल पाता है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि इंदिरा जयसिंह ने ऐसा कहने की हिम्मत कैसे की. मैं उनसे सुप्रीम कोर्ट में कई बार मिली हूं. उन्होंने एक बार भी मुझसे मेरा हालचाल नहीं पूछा और आज वो दोषियों के पक्ष में बोल रही हैं. इस तरह के लोग रेपिस्ट को सपोर्ट करके अपना गुजारा करते हैं. यही वजह है कि रेप के मामले नहीं रुक रहे हैं.’

बताते चलें कि निर्भया के चारों दोषियों मुकेश सिंह, विनय कुमार शर्मा, अक्षय और पवन को पहले 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी की सजा होनी थी. दोषियों द्वारा कानूनी दांवपेंच आजमाने की वजह से अब उनकी फांसी की तारीख को आगे बढ़ा दिया गया है. दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया है. अब चारों को 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी.

निर्भया की मां ने आरोप लगाया है कि राजनीतिक फायदे के लिए दोषियों की फांसी को टाला जा रहा है. इससे पहले अदालत द्वारा डेथ वारंट जारी किए जाने के दौरान दोषी मुकेश सिंह की मां ने आशा देवी से उनके बेटे को बख्श देने की गुहार लगाई थी. निर्भया की मां ने उनसे कहा था कि वह अपनी बेटी के क्षत-विक्षत शरीर को भूल नहीं पा रही हैं. वह पिछले 7 साल से खून के आंसू रो रही हैं.

Nishat Shamsi

शर्मनाक! जमानत पर छूटे छेड़छाड़ के आरोपियों ने पीड़िता की मां को पीट-पीटकर मार डाला

Previous article

VIDEO: दीपिका पर कंगना का सीधा हमला कहा: मैं JNU के टुकड़े-टुकड़े गैंग का समर्थन नहीं करुँगी

Next article

Comments

Comments are closed.

Login/Sign up
Bitnami