अंजलि दमानिया को दाऊद इब्राहिम की धमकी

आम आदमी पार्टी की पूर्व नेता और समाजसेवी अंजलि दमानिया के पास पाकिस्तान से एक धमकी भरी कॉल आई है। फोन करने वाले ने दमानिया से पूर्व मंत्री और बीजेपी नेता एकनाथ खड़से के खिलाफ दर्ज केस वापस लेने के बात कही है। फोन करने वाले ने धमकाते हुए कहा है कि, अगर वे केस वापस नहीं लेती हैं तो उनका वह उनका जीना हराम कर देगा। अंजलि ने जब उस नंबर को ट्रू कॉलर में चेक किया तो उसमें ‘दाऊद-2’ लिखा हुआ आया। क्या कहा फोन करने वाले ने ….
– अंजलि के पास पाकिस्तान के नंबर +922135871719 से शनिवार आधी रात 12.41 बजे एक फोन आया है। फोन करने वाले ने धमकाते हुए कहा:-
दाऊद-2: अंजलि बोल रही है।
अंजलि: हां ।
दाऊद-2: अंजलि, तूने जो केस किया है खडसे पर वो वापस ले।
अंजलि: कौन बोल रहा है भईया?
दाऊद-2: मैं कुछ भी बोल रहा हूं। तूने जो केस किया है खडसे पे वे सारे केस वापस ले। नहीं तो मैं तेरा जीना हराम कर दूंगा।
अंजलि:कौन बोल रहा है?
दाऊद-2: मैं कोई भी बोल रहा हूं यह जानना तेरे लिए जरुरी नहीं है। तूने सबका जीना हराम कर दिया है।
सीएम और पुलिस को दी शिकायत
– अंजलि ने इस फोन का स्क्रीन शॉट अपने ट्विटर पेज पर शेयर करते हुए सीएम देवेंद्र फड़णवीस को भी उसमें टैग किया है।
– दमानिया की ओर से जॉइंट कमिश्नर(क्राइम) को इस मामले की जानकारी दे दी गई है। वे पूरे मामले की जांच कर रहे हैं।
– इससे पहले दमानिया ने सितंबर के शुरू में पूर्व मंत्री एकनाथ खड़से पर अपने खिलाफ अश्लील टिप्पणियां करने का आरोप लगाया था। उस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री से उन्हें गिरफ्तार कराने में हस्तक्षेप की मांग भी की थी।
– उन्होंने राज्य महिला आयोग को भी पत्र लिखकर खड़से के खिलाफ कार्रवाई की और आईपीसी की धारा 354 के तहत उन्हें अरेस्ट करने की मांग की थी।
क्यों विवादों में हैं एकनाथ खडसे?
– अंजलि ने खडसे पर अपने जमाई की लिमोजिन कार का अवैध तरीके से रजिस्ट्रेशन करने का आरोप लगा था।
– खडसे के कथित पी.ए गजानन पाटिल कल्याण में सरकारी भूखंड संस्था को मंजूर करने के लिए 30 करोड़ की घुस मांगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।
– हैकर मनीष भंगाले के मुताबिक खडसे और अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के बीच फोन पर बात हुई थी। टेप के साथ छेड़छाड़ के आरोप में भंगाले हाईकोर्ट पहुंचा था।
– खडसे की पत्नी और जमाई के नाम भोसरी एसआईडीसी में 3 एकड़ जमीन सस्ते में हड़पने का आरोप लगाते हुए बिल्डर हेमंत गावंड़े ने बंड गार्डन पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी। इसकी कीमत 80 करोड़ बताई जा रही है। उन पर आरोप है कि उन्होंने पद का दुरुपयोग कर यह डील की है।
– उधर, महाराष्ट्र इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कारपोरेशन (एमआईडीसी) ने भी इस जमीन सौदे पर आपत्ति जताई थी। एमआईडीसी का कहना है कि यह जमीन 1971 में अधिग्रहत कर ली गई थी। यह जमीन किसी और को नहीं दी जा सकती।

Close Bitnami banner
Bitnami