अपराध की गॉडमदर, जिसके एक इशारे पर होती बड़ी बड़ी लूट

इन दिनों देश के कई बड़े शहरों की पुलिस इस गॉडमदर की तलाश में है। जिसका नेटवर्क दिल्ली से लेकर बैंगलोर और गुजरात से लेकर तमिलनाडु तक फैला है। जिसके गिरोह में एक नहीं दो नहीं बल्कि दो सौ से भी अधिक चैन स्नैचर यानी झपटमार शामिल हैं। और इस गॉड मदर के ही इशारे पर उसके लोग किसी भी सड़क पर झपटमारी यानी चैन स्नैचिंग की वारदात को अंजाम देते हैं। स्नैचिंग से उसने आज अपना अपराध का एक बड़ा सम्राज्य खड़ा कर लिया है। उसके गिरोह के लोग उसे मम्मा कहकर बुलाते हैं। लेकिन किसी भी राज्य की पुलिस ने इस मम्मा को देखा नहीं है। यही वजह की उसकी तलाश में कई राज्यों की पुलिस शहर शहर ख़ाक छान रही है। 

top chain snatcher is a mama`s boy

इस मम्मा की तलाश की बड़ी वजह है देश के सबसे बड़े चैन स्नैचर नासिर खान उर्फ समीर अली की गिरफ्तारी। नासिर खान उर्फ समीर अली की तलाश पुलिस को तकरीबन 80 से अधिक मामले में थी। गिरफ़्तारी के बाद जब उससे पूछताछ हुई तो उसने कई खुलासे किये हैं। जिसमे सबसे अहम् था मम्मा का नाम। नासिर ने पूछताछ में बताया कि, इस पूरे गिरोक कि संचालक कोई और नहीं बल्कि उसकी सास ही है जिसे पूरा गिरोह मम्मा के नाम से बुलाते है। मम्मा ने ही चैन स्नैचरों का एक पूरा गिरोह खड़ा कर रखा है और वो  पूरे देश में चेन स्नैचिंग का नेटवर्क चलाती है। उसके नेटवर्क में करीब दो सौ लोग हैं जो देश के अलग अलग हिस्सों में  चैन स्नैचिंग का काम करते हैं।

मम्मा ने नासिर का आपराधिक इतिहास देखकर ही उसकी शादी अपनी बेटी से कराई है। मम्मा को ऐसा लगता है कि उसके बाड़े इस नेटवर्क कोई संभाल सकता है तो वो नासिर ही है। लेकिन उसे लगता है कि अब जब नासिर गिरफ्तार हो गया है तो जल्द ही अपनी बेटी कि गिरोह के किसी और शख्स से शादी कर देगी। नासिर भी उसकी बेटी का तीसरा पति है और उसके पूर्व पति भी उसकी तरह ही चैन स्नैचर ही थे। 

थाने एंटी स्नैचिंग सेल के अधिकारी के मुताबिक़, मम्मा और उसके दामाद नासिर ने मिलकर इसी धंदे के ज़रिये करोड़ों कि संपत्ति खड़ी कर ली है। इनका दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में एक बंगला है, थाने से सटे टिटवाला में एक पॉश इमारत में दो फ्लैट और 6 एकड़ जमीन है और वहीँ ऐंबी वैली के पास भी इनकी करोड़ों कि प्रॉपर्टी है। 

पकडे गए इस कुख्यात चैन स्नैचर नासिर के पास से पुलिस ने कई महंगी गाड़ियां और 7 आईफोन बरामद कि हैं। आज तक उनके घर में खाना नहीं बना हमेशा महंगे होटलों से ही आता है। नासिर ने बताया है कि अब तक उनके द्वारा अर्जित कि गयी सभी प्रॉपर्टी उसकी सास यानी मम्मा के नाम पर है। उसे ड्रग्स लेने कि लत है इसके लिए उसकी सास उसे खर्च के लिए हर रोज़ 2000 रुपये देती है। अपने मोबाईल से मम्मा देश के अलग अलग शहरों का फ्लाइट टिकट बुक करती जहाँ से नासिर या तो माल लेकर आता है या जाने वाला होता है। स्नैचिंग का पूरा माल दिल्ली के बाज़ार में बेचा जाता है और पूरे पैसे मम्मा के पास ही होते हैं। 

कुख्यात स्नैचर नासिर को पहली बार 2014 में गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद ज़मानत पर वो बहार आया और दिल्ली से अपना काम करने लगा। उसके गिरोह के सदस्य ज़्यादातर ईरानी नागरिक ही हैं। नासिर का नेटवर्क बेंगलुरु, कोलकाता, दिल्ली, हैदराबाद और चेन्नै में तक है। इसके अलावा महाराष्ट्र में मुंबई के अलावा, ठाणे, कल्याण और नवी मुंबई में उसकी अच्छी पकड़ है। अब तक उसके खिलाफ सिर्फ थाने और कल्याण के इलावा मुंबई में 40  से अधिक मामले दर्ज हो चुके हैं। 


Close Bitnami banner
Bitnami