‘बाप नंबरी तो बेटा दस नंबरी’ सूट बूट वाले नटवरलाल मुंबई पुलिस कि गिरफ्त में, मुंबई के पॉश होटलों को चूना लगाते थे बाप-बेटा

Father & son, who would wine & dine in 5-star hotels for free

मुंबई पुलिस ने खुद ने खुद को शहर का रईस बताकर पांच सितारा होटलों को चुना लगाने वाले बाप बेटे को गिरफ्तार कर लिया है. दोनों कि कहानी दिवंगत बॉलीवुड एक्टर कादर खान की फिल्म ‘बाप नंबरी तो बेटा दस नंबरी’ से कम नहीं है. जैसे फिल्म में पिता का किरदार निभाने वाले कादर खान और बेटा शक्ति कपूर लोगों को ठग कर फरार हो जाते थे. ठीक उसी तर्ज पर मुंबई पुलिस कि गिरफ्त में आए ये बाप बेटे कि जोड़ी शहर के नामी होटलों में खुद को VVIP अतिथि बताकर और वहां खाना खाने के बाद बिल का भुगतान किये बिना फरार हो जाते थे.

मुंबई पुलिस ने दोनों को दक्षिण मुंबई के कफ परेड में एक पांच सितारा होटल के कर्मचारियों से सूचना मिलने के बाद पुलिस ने दोनों को धर-दबोचा है. गिरफ्तार आरोपियों की पहचान 57 वर्षीय सुहास नेरलेकर और पुत्र स्वप्निर्ल 32 के रुप में हुई है. ये बाप बेटे कांदिवली के रहने वाले हैं. ये दोनों किसी भी बड़े होटल में खुद को बड़ा बिज़नेसमैन बताकर रुकते थे और वहां जमकर मौज करते थे. लेकिन जैसे ही बिल देने की बारी आती दोनों फरार हो जाते थे.

इनका मोडस था की होटल में चेक इन करने के बाद दोनों अपने कमरों की चाभी लेने से पहले ही वे होटल में महंगे से महंगा खाना खाते फिर बिना बिल का भुगतान किये निकल लेते थे. लेकिन एक पांच सितारा होटल के एक कर्मचारी ने उन्हें बाहर जाते समय रोका और उनसे बिल का भुगतान करने को कहा. मगर दोनों पहले तो उन्हें धमकाने लगे. जब बात नहीं बनी तो घबराने लगे, तब तक होटल ने पुलिस को खबर दे दी बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया.

ताज होटल्स की ओर से दो शिकायत मिलने के बाद कफ परेड पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर गिया. दूसरी शिकायत ताज महल पैलेस होटल की ओर से की गई है. आरोपियों के खिलाफ विवांता प्रेसिडेंट होटल में शनिवार को दोनों आरोपियों ने 8,831 रुपये का खाना खाया था. पुलिस ने धोखाधड़ी और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. पुलिस ने बताया कि बाप-बेटे ने ताज महल पैलेस होटल, कोलाबा को 32 हजार रुपये का चपत लगाया था.

कैसे देते थे घटना को अंजाम- वे 5 स्टार होटल में बुकिंग करते थे और फिर फोन करके होटल वाले से कैब भेजने को कहते थे. इसके बाद वे होटल में आते ही चेकइन करने से पहले खाना खाने के लिए रेस्त्रां में पहुंचते. छककर हजारों रुपये का खाना खाने के बाद वे चुपके से होटल से निकल जाते थे.


Close Bitnami banner
Bitnami