बलात्कार और हत्या के जुर्म में दोषियों को फांसी की सजा

महाराष्ट्र के हिंगोली जिले में चार साल की बच्ची के साथ बलात्कार के बाद हत्या करने के जुर्म में हिंगोली सत्र न्ययालय ने दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। पिछले साल चार साल की बच्ची से बलात्कार के बाद उसकी हत्या करने के जुर्म में अदालत ने आरोपी राहुल क्षीरसागर और भागवत क्षीरसागर को फांसी की सजा सुनाई है , और वही अन्य पांच आरोपियों के खिलाफ ठोस सबुत ना होने के आधार पर बरी कर दिया है।

पिछले साल 7 जनवरी 2016 को हिंगोली में कलमनूरी तालुका के मसाई में चार साल की बच्ची के पड़ोस में रहने वाले राहुल क्षीरसागर और भागवत क्षीरसागर ने अपने घरमें चॉकलेट देने के बहाने बुलाकर बलात्कार किया उसके बाद बालिका के मुँह में कपडा ठुस कर उसकी हत्या कर दी थी।बाद मे सबुत को मिटाने के लिए बच्ची की लाश को बोरी में भरकर घर मे छिपा दिया था। वही मामला सामने आने पर बच्ची के पिता ने कलमनूरी पुलिस थाने में इसकी शिकायत की पुलिस ने पिता की शिकायत के आधार पर IPC की धारा 302, 376(2), 377, 363, 366, 34 और बाल लैंगिक अत्याचार संरक्षण अधिनियम 2012 के तहत मामला दर्ज किया था।

महाराष्ट्र: हिंगोली में 4 साल की बच्ची के रेप और मर्डर के दोषियों को फांसी की सजा

हिंगोली के सत्र न्ययालय में पहली बार किसी आरोपी को फांसी की सजा सुनाई गई है। वही इस मामले में कुल 25 गवाह पेश हुए थे। इतना ही नही पीड़ित लड़की को जल्द से जल्द न्याय मिले इसके लिए जिला अधिकारी के कार्यालय पर मोर्चा भी निकाला गया था।कोर्ट ने 15 महीने के अंदर ही अंदर इस मामले की सुनवाई कर आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है।


Close Bitnami banner
Bitnami