Crime

पुलिस के कस्टडी में आरोपी की संदेहास्पद मौत

0

पालघर जिले के अर्नाळा पुलिस थाने में फर्जीवाड़ा के आरोप में गिरफतार के आरोपी की संदेहास्पद मौत का मामला सामने आया है। धोखाधड़ी के आरोप में पुलिस ने महेश मनोहर मुलमुले नामक आरोपी गिरफ्तार किया था। और रात में उसे पास के ही नालासोपारा पुलिस थाने के लॉक अप में रखा गया था। रात में आरोपी महेश को अचानक उलटी होने लगी और उसकी हालत नाज़ुक हो गई जिसके बाद उसने दम तोड दिया। अब आरोपी के परिवार नेड पुलिस पर कस्टोडियल डेथ का आरोप लगाया है।  उनका आरोप है की की महेश की मौत पुलिस की पिटाई की वजह से हुई और अब पुलिस खुद को बचाने के लिए नया रंग दे रही है। हालकि परिवार के इस आरोप पर फिलहाल पुलिस पूरी तरह सर खामोश हो गयी है।

पीड़ित आरोपी 46 वर्षीय महेश पेशे से एक अच्छे शिक्षक थे मगर पैसे उड़ाने का उनका अलग फंडा था जो आज तक किसी के समझ में नहीं आया। मुंबई के विलेपार्ले में आलीशान फ्लैट में रहनेवाले महेश की मुलाकात 2012 में फिर्यादी राजेश शांतिलाल पारेख से हुई। राजेश स्कूल में बच्चे छोड़ने का काम करता था जिसमे कुछ पैसे बचाकर रखा करता था। इसी बीच महेश ने राजेश काम समय में ज़यादा मुनाफा का झांसा देकर एक स्कीम में इन्वेस्ट कराया। भरोसा होते ही महेश ने राजेश के और दोस्तों के पैसे इन्वेस्ट कराने पर जोर डाला। राजेश ने कुल 55 लाख महेश को दिए मगर बाद में महेश उसे टालने लगा।
जिसके बाद राजेश के सभी दोस्त रिस्तेदार पैसे का तकाजा करने लगे तो उसे अपना घर बेचकर सबको पैसे लौटा दिए। मगर महेश पैसे देने में आना की करने लगा।

राजेश ने अर्नाळा पुलिस थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर दिया। इस दौरान महेश को पुलिस ने गिरफ्तार करके वसई के कोर्ट में पेस किया जहा पर कोर्ट ने 11 जुलाई तक पुलिस हिरासत दिया और पुलिस हिरासत उस आरोपी की मौत हो गयी।

  • Custodial Death

ठेकेदार की गुंडागर्दी, कॉलेज में घुसकर प्रिंसिपल की पिटाई

Previous article

मुंबई धमाके का आरोपी बिजनौर से गिरफ़्तार

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami