माँगा था पल्सर के लिए पैसा नहीं मिला तो उड़ा दिया लाखों का हिरा

मुंबई के मलाड इलाके में एक हिरा व्यापारी को उसके ही वफादार कारीगर ने लाखों रूपए का चुना लगा कर फरार हो गया। हिरे की दूकान में पिछले कई महीनों से ईमानदारी और निष्ठा से काम करने वाले कारीगर ने एक पल्सर बाइक के अपने मालिक का भरोषा तोड़ दूकान में से लाखों रूपए का हिरा चुरा लिया। चोरी की पूरी वारदात दूकान में लगे सीसीटीवी कमीरे में कैद हो गयी। बता दे कि इस मामले में पुलिस ने मालिक के शिकायत पर हितेश बाबूभाई नाइ और उसका साथी भार्गव लाला उर्फ रामजी राजपूत को गुजरात से चोरी किये हुए हिरे के साथ गिरफ्तार कर लिया।

 

मालिक के मुताबिक मालाड पूर्व के चिंचोली फाटक के पास स्थित साई लेज़र सेविंग नाम के हीरा कारखाने में हितेश बाबूभाई नाइ(23) नाम का आरोपी पिछले साल 8 महीना काम कर अचानक छुट्टी लेकर गांव चला गया। और पल्सर गाड़ी खरीदने के लिए 20 हजार रुपये मालिक को फ़ोन कर पैसे मांगा। जिसके बाद 10 हजार रुपया मालिक ने उसको दिया। पैसे लेने के 3 महीना बाद अचानक वापस वह मुंबई आकर अपने मालिक को फ़ोन कर एक रात के लिए हीरा के कारखाने में ठहरने की रिकवेस्ट करने लगा। मालिक ने उसे उसके वफादारी पर एक रात के लिए ठहरने की इजाजत दे दी. लेकिन जब रात में अन्य कारीगर सो गए तो उसे एक बैग में 12 लाख रूपए का हिरा बैग में भरकर वहां से फरार हो गया। कारखाने से हीरों की चोरी की खबर सुनते ही सुबह के 9 :30 बजे जब मालिक ने सीसीटीवी खंगाला तो अपने वफादार कारीगर की काली करतूतों को देख कर दंग रह गया। जिसके बाद उसे इसकी शिकायत पुलिस ठाणे में दर्ज करवाई।

पुलिस ने बताया कि 30 जानवरी को मामला दर्ज कर जब मालाड पुलिस की टीम जांच करना सुरु किया तो पता चला कि आरोपी हितेश बाबूभाई नाइ और उसका साथी भार्गव लाला उर्फ रामजी राजपूत दोनों गुजरात मे छिपे हुए हैं। पीएसआई हसन मुलनि की एक टीम बनाकर गुजरात रवाना कर चोरों को कुछ हीरों के साथ गिरफ्तार कर मुंबई लाया गया।


Close Bitnami banner
Bitnami