Bollywood/FashionCrimeTop Stories

EXCLUSIVE: इंडिया के ओसामा बिन लादेन को तलाशने निकलेंगे अर्जुन कपूर

0

इंडिया के मोस्ट वांटेड आतंकी यासीन भटकल पर फिल्म बनने जा रही है. इस फिल्म में अर्जुन कपूर एक खास रोल में नज़र आने वाले हैं. सूत्रों के मुताबिक इस फिल्म में अर्जुन कपूर उस आई बी अफसर का किरदार निभाने जा रहे हैं जो तीन सालों तक लगातार यासीन भटकल का पीछा करते रहे और आखिरकार बिहार नेपाल बॉर्डर पर उसे उसके साथी के साथ पकड़ा था. आई बी के ये अफसर बिहार कैडर का एक एस पी है जिसके बारे में कहा जाता है कि चार सालों तक उसने सिर्फ और सिर्फ यासीन भटकल को ही जिया था. उसने अपनी ज़िंदगी का एक ही लक्ष्य निर्धारित किया था वो था यासीन को ज़िंदा या मुर्दा पकड़ना. इस फिल्म में उस पूरे ऑपरेशन को दुबारा से रीक्रिएट करने की कोशिश कि जा रही है.

इस फिल्म के लिए ख़ास तौर पर राज गुप्ता ने तीन सालों तक रिसर्च किया है. इसके लिए उन्होंने उन इंटेलिजेंस अफसरों के साथ वक़्त बिताया जो उस टीम का हिस्सा थे जिन्होंने यासीन भटकल को पकड़ा था. ये फिल्म पहले सिद्धार्थ मल्होत्रा करने वाले थे. फिल्म कि स्क्रिप्ट राज ने दो साल पहले ही लॉक कर ली थी. खुद सिद्धार्थ को राज ने कई अफसरों से मुलाक़ात भी कराई थी. सिद्धार्थ ने करीब तीन हफ्ते तक अनाधिकारिक तौर पर आई बी कि टीम के साथ काम भी किया था. ताकि वो ये सिख सकें कि देश कि आंतरिक सुरक्षा कि ज़िम्मेदारी सँभालने वाली आई बी कैसे ऑपरेट करती है. कैसे वो इंटेल इकठ्ठा करती और और फिर रॉ और दूसरे एजेंसियों के साथ मिलकर ऑपरेशन करती है.

कैसे हुआ था ऑपरेशन
यासीन को पकड़ने के लिए आई बी ने कई दिनों तक फ़िल्मी सीन कि तरह रिहर्सल किया था. एक ख़ास टीम को लीड कर रहे एस पी कुमार ने बताया कि कैसे कैसे उनकी टीम ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया था. ये सभी लोग टूरिस्ट बनकर नेपाल पहुंचे थे. सभी अफसर हाफ पेंट और बनियान में नेपाल के पोखरा ज़िले में फैल गए थे. फिर ये लोग स्पीड बोट लेकर घूमते रहे जबकि दूसरी टीम टूरिस्ट गाइड बनकर घूमती रही. ये पूरा ऑपरेशन 11 अगस्त 2013 कि शाम शुरू हुआ था.

यासीन भटकल कि गिरफ़्तारी पाकिस्तान के खिलाफ किये गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा ऑपरेशन हैं. जिसमे आई बी और रॉ के इलावा देश के कई एजेंसियों के करीब 669 अफसर अलग अलग काम कर रहे थे. इसे देश का सबसे बड़ा और महंगा ऑपरेशन भी कहा जाता है. क्यूंकि यासीन भटकल कि गिनती दुनिया के 14वें कुख्यात आतंकियों के तौर पर कि जाती थी. भारत के लिए इसका पकड़ा जाना भी उतना ही ज़रूरी था जितना अमेरिका के लिए ओसामा का.

इस फिल्म में अर्जुन आई बी के एस पी कुमार बनेंगे (काल्पनिक नाम), जिन्हें पनिशमेंट पोस्टिंग के तौर पर यासीन भटकल को पकड़ने कि ज़िम्मेदारी सौंपी जाती है. इस फिल्म में देखने को मिलेगा कि कैसे यासीन एक के बाद एक देश के अलग अलग शहरों में बीस से भी अधिक धमाका कराता है और एक गलती कि वजह से वो आई बी के हाँथ से निकल जाता है. और इसके लिए एस पी कुमार यानी अर्जुन कपूर को ज़िम्मेदार ठहराया जाता है. लेकिन उसी एस पी ने आखिर कार देश के सबसे बड़े दुश्मन को ढूंढ निकला.

कौन है यासीन भटकल?
यासीन को मोहम्मद अहमद सिद्धीबप्पा के नाम से भी जाना जाता है. 12 राज्यों की आतंक निरोधी एजेंसियों की चार्जशीट के मुताबिक भटकल देश भर में जर्मन बेकरी सहित कम से कम 20 आतंकी हमलों में शामिल रहा है. वह दिल्ली के बाजारों में हुए सीरियल ब्लास्ट का भी मास्टरमाइंड था. वह मुंबई लोकल, बैंगलोर, जयपुर, वाराणसी, सूरत में हुए बम धमाके का भी आरोपी है. उस पर अपने तीन साथियों तहसीन अख्तर वसीम अख्तर शेख (23 साल), असदुल्ला अख्तर जावेद अख्तर (26 साल) और वकास उर्फ अहमद (26 साल) के साथ मिलकर 13 जुलाई, 2011 को मुंबई के ओपेरा हाउस, जावेरी बजार और दादर पश्चिम में हुए तीन सिलसिलेवार बम धमाकों को अंजाम देने का आरोप है, जिसमें 27 लोगों की मौत हुई और 130 लोग घायल हो गए थे. इंडियन मुजाहिद्दीन से जुड़ा यह आतंकी पुणे की जर्मन बेकरी, अहमदाबाद, सूरत, बेंगलूर, दिल्ली और हैदराबाद में हुए विभिन्न आतंकी हमलों में भी वांछित था. एनआईए ने यासीन पर 10 लाख रुपये का इनाम रखा था. इ

Nishat Shamsi

SHOCKING: ख़ुदकुशी के बारे में सोंच रही थी ये एक्ट्रेस …

Previous article

JUSTICE DELIVERED: एक्ट्रेस मिनाक्षी थापा के कातिलों को उम्र क़ैद

Next article

Comments

Comments are closed.

Close Bitnami banner
Bitnami