Exclusive : बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी,गरबा में छेड़छाड़ से रोका तो मौत के घाट उतारा

मुंबई से चंद किलोमीटर दूर पालघर में बजरंग दाल के कार्यकर्ताओं पर हत्या का गंभीर आरोप लगा हैं। आरोप है कि बजरंग दल के कई कार्यकर्ता शराब के नशे में धुत होकर रोज़ नवरात्र मंडल में घुस आये और वहां गरबा कर रही महिलाओं के साथ छेड़छाड़ करने लगे। जब स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया तो बजरंग दाल के कार्यकर्ताओं ने उनपर हमला कर दिया। जब एक युवक ने बजरंग दल के इन कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिश की तो भीड़ की शक्ल में आये भगवा गुंडों ने युवक को मार मार कर मौत के घाट उतार दिया। इलाके के लोगों का आरोप है की स्थानीय पुलिस को इन लोगों के गुंडागर्दी के पूरी जानकारी थी बावजूद इन्हे रोका नहीं गया। नतीजतन उन गुंडों की हिम्मत बढ़ी और उन लोगों ने भीड़ में घुसकर पहले तो उस लड़के पर धारदार हथियार से जानलेवा हमला कर दिया जिसने उन्हें रोका था। और बाद में जब लोग उसे बचने आये तो वो उनकी भी पिटाई कर दी। जिसमे छेड़छाड़ करने वाले युवकों को रोकने वाले अजय झा की मौत हो गयी। जबकी चार से पांच लोग बुरी तरह जख्मी हो गए।

घटना तीस तारीख की रात बारह बजे की है। मृतक अजय झा वसई के जानकी पाड़ा के एक नवरात्री मंडल से जुड़ा हुआ था। अजय झा का कसूर सिर्फ इतना था कि वो 29 तारीख की रात में गरबा खेलने आये बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को गरबा खेलने से रोका था। क्यूंकि वो लोग गरबा खेल रही महिलाओं से छेड़छाड़ कर रहे थे। जिसके बाद 30 तारीख को झुंड में आये कार्यकर्ताओं ने फावड़े से मार मार कर अजय झा को मौत के घाट उतार दिया। इतना ही नहीं जब अजय को बचाने के लिए स्थानीय लोग दौड़े तो बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने उनपर भी जान लेवा हमला कर दिया। इस हमले में चार से पांच लोग बुरी तरह जखमी हो गए जिनका पास के ही अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस मामले पुलिस ने बजरंग दल के तीन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया है।

इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस पर भी गंभीर आरोप लगाए है। लोगों का कहना है कि इस परिसर में आवारा लड़को की कमी नही वे लोग हर दिन किसी ना किसी प्रकार से लोगो के साथ गुंडागर्दी करते रहते है। जब वो इनकी शिकायत पुलिस में करते है तो पुलिस लोगों से ये कहकर अपना पल्ला झाड  लेती थी कि उनके पास मैन पावर की कमी है आखिर पचास पुलिस वाले क्या क्या करेंगे।

 


Close Bitnami banner
Bitnami