J Dey Murder : बरी होते ही फूट फूटकर रोने लगी पत्रकार जिगना वोरा ….

वरिष्ठ पत्रकार जेडे हत्याकांड में आज अहम् फैसला आ गया है. मुंबई की मकोका कोर्ट ने छोटा राजन को दोषी करार दिया है और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई है. अदालत ने दोषी पाए गए सभी 9 आरोपी को उम्रकैद की सजा सुनाई है. अदालत ने पत्रकार जिग्‍ना वोरा और पॉलसन जोसेफ को बरी कर दिया है. 11 जून 2011 को पत्रकार जेडे की हत्‍या की गई थी.

इस हत्याकांड में कई लोग ऐसे थे जिनपर कई आपराधिक मामले पहले से थे. लेकिन पत्रकार हत्याकांड की जांच कर रही मुंबई क्राइम ब्रांच ने जब इस मामले में एक पत्रकार को गिरफ्तार किया था उसे जानकार सब शौक थे. पुलिस ने दावा किया था की इस पूरे हत्यकांड में पत्रकार जिगना वोरा ने अहम् भूमिका निभाई थी. उसने राजन को पत्रकार जे डे के खिलाफ उकसाया था. लेकिन पुलिस के ये सारे दावे अदालत में हवा हवाई साबित हुए और अदालत ने पत्रकार जिगना वोरा को बरी कर दिया.

खचा खच भरे अदालत में आज सबकी नज़र सिर्फ और सिर्फ जिगना पर थी. अदालत के कोने में खड़ी जिगना को उसके पुराने साथियों कई सालों बाद देखा था. इस बीच जैसे ही अदालत ने फैसला सुनाना शुरू किया सबकी नज़र जिगना पर टिकी रही. अदालत नाम पढ़ती जाती साथी दोषी और बरी सुनाती जा रही थी. इस बीच पूरे समय जिगना अदालत में रोती रही और एक वक़्त ऐसा भी आया जब खुद जिगना का नाम पुकारा गया. इसके साथ अदालत ने ये भी सुनाया की वो बरी है.

इसके साथ अब तक सिसकियाँ ले रही जिगना के आंसू तेज़ हो चुके थे और उनके रोने की तेज़ आवाज़ अदालत में मौजूद हर कोई सुनता था. जब अदालत के फैसले के बाद जिगना से पुछा गया तो बजाय सवाल का जवाब देने के उल्टा उन्होंने ही पत्रकारों से सवाल पूछ लिया जे डे को तो इन्साफ मिल गया मुझे कौन देगा.


Close Bitnami banner
Bitnami