VIDEO: 15 करोड़ रुपए के प्लॉट के लिए पत्नी ने निकाली 30 लाख रुपए सुपारी

क्या एक पत्नी पैसों के लालच में इस क़दर अंधी हो सकती है की वो अपने पति की ही हत्या करा दे. वो भी भाड़े के क़ातिलों को सुपारी देकर. मुंबई से सटे कल्याण में एक पत्नी ने अपने पति की प्रॉपर्टी पर कब्ज़ा करने के लिए अपने पति को ही ठिकाने लगाने का फैसला कर डाला और इतना ही नहीं इसके लिए उसने अपने पति को जान से मारने की सुपारी भी दे डाली.

आरोपी पत्नी किसी भी हालत में पति का 15 करोड़ रुपए का प्लॉट चाहिए था. जिसे वो बेचकर पैसा अपने नाम करना चाहती थी. लेकिन पति इसके लिए राज़ी नहीं हो रहा था. इसके बाद पत्नी ने हमेशा के लिए पति को ही रास्ते से हटाने की साज़िश रच डाली. लेकिन कहते हैं न की अपराधी कितना भी शातिर क्यों न हो गलती ज़रूर करता है. इस मामले में भी आरोपियों ने गलती की और पुलिस की गिरफ्त में आ गए. पुलिस ने महिला को और सुपारी किलर को गिरफ्तार कर लिया है.

30 लाख रुपए में दी पति की सुपारी

पुलिस के मुताबिक, आरोपी पत्नी 40 वर्षीय आशा गायकवाड़ ने अपने पति को मरवाने के लिए उत्तर प्रदेश के एक शूटर हिमांशु दुबे को 4 लाख रुपए की सुपारी दी थी. इसके बाद उन लोगों ने मिलकर पहले पति शंकर गायकवाड़ को नशे की दवा देकर अधमरा कर दिया और उसके बाद उसे शूटर के हवाले कर दिया. इसके बाद हिमांशु दुबे ने शंकर का गला दबाकर हत्या कर डाला. पुलिस इस मामले में आशा और हिमांशु के अलावा 3 और लोगों की तलाश में जुटी है, जिनकी पहचान जगन म्हात्रे, राज सिंह और प्रीतम के रूप में हुई है.

ऐसे हुआ पुलिस को पत्नी पर शक

पुलिस के लिए ये हत्यकांड एक ब्लाइंड मर्डर था तभी शंकर के परिवार ने बताया की उसकी पत्नी आशा अपने पति के 25,000 स्क्वेयर फुट के प्लॉट को बेचना चाहती थी और उसके लिए एक डिवेलपर से 4 लाख रुपये भी ले चुकी थी. लेकिन शंकर इसके लिए तैयार नहीं था. इस बात को लेकर दोनों में झगड़ा भी हुआ था. पहले तो पुलिस को आशा के खिलाफ कोई भी ठोस सुराग नहीं मिला. लेकिन उन्हें एक बात खटकने लगी, पिछले कुछ दिनों में आशा ने कई बार उत्तर प्रदेश का दौरा किया था. मगर इसकी जानकारी किसी को नहीं दी थी.

संत आश्रम से मिला सुराग

पुलिस को ये जानकारी मिली की आशा एक आश्रम में जाती है और इन दिनों वो कुछ ज़्यादा जाने लगी थी. जब पुलिस ने आश्रम की पड़ताल किया तो वहां लगे एक CCTV कैमरे ने क़त्ल की पूरी कहानी खोलकर रख दी. आश्रम में बनारस और उल्हासनगर के एक लूटकांड का आरोपी हिमांशु दुबे छुपकर रह रहा था. पुलिस को आशा का वांटेड आरोपी हिमांशु का मिलना खटक गया और जब तफ्तीश कर रही पुलिस ने आशा से सख्ती की तो सारा मामला खुलकर सामने आ गया.


Close Bitnami banner
Bitnami