कीर्ति के शव के तीन टुकड़े किए फिर अलग अलग …

 

मुंबई क्राइम ब्रांच ने आखिरकार कीर्ति व्यास की रहस्मई गुमशुदगी की सुलझा ली है. क्राइम ब्रांच ने इस मामले में कीर्ति के दो सहयोगी सिद्धेश ताम्हणकर और ख़ुशी को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक 16 मार्च को ही दोनों ने कीर्ति की अपनी कार में हत्या कर दी थी. मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच को इस मामले में अहम सबूत कार से ही मिले थे जिसके बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया है. अदालत ने दोनों आरोपियों को 11 मई तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है.

क्राइम ब्रांच सूत्रों की मानें तो दोनों ने अपना जुर्म क़ुबूल भी कर लिया है. गिरफ्तार आरोपी सिद्धेश ताम्हणकर और ख़ुशी दोनों फरहान अख्तर की पत्नी अधुना अख्तर के यहाँ ही काम करते हैं. पूछताछ में दोनों ने खुलासा किया है कि, सिद्धेश के ख़राब काम की वजह से कीर्ति ने उसे नोटिस दिया था. सिद्धेश का 16 मार्च को आखिरी दिन था. उस दिन दोनों अपनी इको स्पोर्ट्स कार से कीर्ति से मिलने गए. दोनों ने उसे इस बात के लिए मनाया कि वो उससे मिले ताकि उनके बीच किसी तरह कि कोई गलत फहमी न रह सके. उस वक़्त ख़ुशी भी कार में ही मौजूद थी और उसने ही कीर्ति को फोन कर बुलाया था. इसके बाद शक है कि कार में ही कीर्ति कि हत्या कर दी गयी और फिर उसकी लाश को ले जाकर ठिकाने लगा दिया गया. पूछताछ में गिरफ्तार आरोपियों ने बताया है की शव के तीन टुकड़े किये गए और अलग अलग तीन जगहों पर फेका गया है.

इसके बाद दोनों कार लेकर एक गैराज में उसकी पूरी तरह से सफाई कर दी. इसके बाद बेहद शातिर अंदाज़ में कार का पूरा वाश करा दिया गया ताकि कोई सबूत न रहे. लेकिन जब क्राइम ब्रांच ने उनकी कार को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा तो गाडी की डिक्की से खून के निशान मिले. जब उसी खून के नमूने को कीर्ति माँ बाप के नमूने से मिलाया गया तो सैम्पल मैच कर गया.

कीर्ति अधुना के सलोन BBlunt में बतौर फाइनेंस मैनेजर काम करती थी. और 16 मार्च को अचानक लापता हो गयी. जिसके इस पूरे मामले कि जांच मुंबई क्राइम ब्रांच कर रही थी.


Close Bitnami banner
Bitnami