कोपर्डी बलात्कार और हत्या मामले में सभी आरोपी दोषी करार, 22 नवंबर को सुनाई जायेगी सजा

अदालत ने मुख्य आरोपी जितेंद्र शिंदे,संतोष भवाल और नितिन भैमुले इन तीनो पर हत्या,गैंगरेप और कॉनस्परन्सी के लिए दोषी पाया है. अदालत में सरकारी वकील उज्जवल निकम ने इनके अपराध को जघन्य बताते हुए तीनो आरोपियों के लिए फँसी के सजा की मांग की है. इससे पहले अदालत में आज सभी आरोपियों को भारी सुरक्षा के बीच अदालत लाया गया था.

अदालत के फैसले के बाद मीडिया से बात करते हुए सरकारी वकील उज्जवल निकम ने कहा, अदालत ने आरोपियों को 8 अलग अलग धाराओं के तहत सीधे दोषी पाया है. अदालत ने आरोपियों को आईपीसी की जिन धाराओं में दोषी पाया है वो हैं हत्या, बलात्कार के बाद हत्या करने,साक्ष्य मिटाने और षड़यंत्र रचने के, इसके इलावा सभी आरोपियों को बाल यौन उत्पीड़न केतीनों धाराओं के तहत भी  सभी अभियुक्तों को दोषी ठहराया गया है.

उज्ज्वम निकम ने कहा, “अभियोजन पक्ष में कोई प्रत्यक्षदर्शी साक्षी नहीं था। यह मामला केवल परिस्थितिजन्य सबूत पर आधारित था. यह परिस्थितिजन्य सबूत अदालत को साबित करते हैं और दिखाए जाते हैं. एक आदमी झूठ बोल सकता है, लेकिन स्थिति झूठ बोल नहीं सकती है.

आरोपियों को दोषी साबित करने के लिए उनके रक्त के नमूने बेहद अहम् साबित हुए हैं. पीड़िता के खून के निशान उनके शर्त पर मिले थे और उसी को आधार मानकर पुलिस ने अपनी तफ्तीश आगे बढ़ाई थी. जिसके बाद पुलिस के समक्ष सभी आरोपियों ने अपना जुर्म कुबूला था. इस घटना से पहले और बाद में, हमने यह साबित कर दिया है कि आरोपी 2 और 3 ने अपने जुर्म को क़ुबूल था और अदालत ने अभियोजन द्वारा जो भी साक्ष्य पेश किया था अदालत ने उसे स्वीकार कर लिया है.

अहमदनगर जिले के कोपर्डी गांव में 15 वर्षीय लड़की के साथ तीन लोगों द्वारा दुष्कर्म और बर्बर हत्या कर दी थी. कोपार्डी बलात्कार और हत्याकांड ने महाराष्ट्र ही नहीं पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

 


Close Bitnami banner
Bitnami