मच्छर कि अगरबत्ती के लिए सौतन को मौत के घात उतरा

क्या कोई किसी लाश के साथ एक कमरे में रह सकता है ? क्या दो ज़िंदा औरतें एक मुर्दा के साथ एक ही बिस्तर में साथ सो सकते हैं? क्या कोई किसी की हत्या इस बात को लेकर कर सकता है की उसने उनसे बिना पूछे उनकी मच्छर भगाने वाली अगरबत्ती उठा ले। ये सब हुआ है वो भी मुंबई से सटे भयंदर इलाके में,भायंदर स्तिथ मोर्वा गांव में एक महिला ने अपनी सास के साथ मिलकर अपनी सौतन को ही मौत के घाट उतार दिया। इतना ही नहीं दोनों ने दो रातें भी लाश के साथ गुज़ारी। हत्या कि जो वजह सामने आयी वो और भी चौंकाने वाली है। क़त्ल कि वजह थी मच्छर भगाने वाली अगरबत्ती। पुलिस ने इस मामले में दोनों औरतों को गिरफ्तार कर लिया है।

भायंदर थाने के अधिकारी आर कांबले की मानें तो, मोर्वा गांव निवासी संतोष जाधव की ट्रावेल्स एजेंसी है। उसकी दो पत्नियाँ थीं, पहली सविता जाधव और दूसरी गीता जाधव। संतोष दोनों पत्नियों और माँ वत्सला पाटिल के साथ एक ही घर में रहता था। दूसरी पत्नी गीता जाधव और पहली पत्नी व संतोष की माँ के बीच झगड़ा होते रहता था। 8 मई को गाड़ी लेकर संतोष घर से बाहर गया हुआ था। अगले दिन यानी 9 मई को दोपहर को उसकी पहली पत्नी,माँ और दूसरी पत्नी गीता के बीच मच्छर मारने की दवा मॉर्टिन को लेकर  झगड़ा हो गया। कुछ ही देर में कहासुनी खूनी खेल में तब्दील हो गया पहली पत्नी और सास ने  मिलकर गीता को बुरी तरह पीटना शरू कर दिया। इस मारपीट में दोनों ने कई बार गीता के सर को ज़मीन में पटक डाला, जिससे उसके सिर में गहरी चोट लग गई। और कुछ ही देर में उसकी मौत हो गई।

गीता कि इस तरह मौत के बाद दोनों काफी घबरा गईं। हत्या कि ये बात किसी को पता न चले आरोपी सास-बहू ने शव को घर में ही रखा। दोनों शव के साथ एक ही बिस्तर पर सोते तक थे। लेकिन दो दिन बाद जब संतोष वापस आया तो उसने पुलिस को इसकी खबर कर दी। पुलिस ने एडीआर दाखिल कर जाँच शरू कर दी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पिटाई से मौत होने की बात बताई गई।जिसके बाद आरोपी सास-बहू को गिरफ्तार कर लिया गया।


Close Bitnami banner
Bitnami