मदरसे के अंदर मौलवी ने किया 35 बच्चों का यौन शोषण, पुलिस ने सामजिक कार्यकर्ता की मदद से रेस्क्यू किया

पुणे से हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जहाँ पुणे पुलिस ने एक सामाजिक कार्यकर्ता की शिकायत पर एक मदरसे में रेड कर 35 बच्चों को रेस्क्यू कराया है. पुलिस ने मदरसे के मौलवी को भी गिरफ्तार किया है. मौलवी पर आरोप है की मदरसे में उर्दू की तालीम लेने आने वाले बच्चों का मौलवी यौन शोषण करता था. जिसके बाद दो बच्चे डर से मदरसे से भाग गए थे. इस बीच बच्चे एक सामजिक कार्यकर्ता के हाँथ लगे तब जाकर ये मामला सामने आया. पुलिस ने सामाजिक कार्यकर्ता की शिकायत पर ये पूरी कार्यवाही की है.

मामला पुणे के कात्रज इलाके के एक मदरसे का है. पुलिस ने मदरसे से बच्चों को छुड़ाने के बाद मदरसे को सील कर दिया है. छुड़ाए गए बच्चों की उम्र 5 से 15 साल के बीच है. जो देश के अलग अलग शहरों से इस मदरसे में उर्दू की तालीम लेने के लिए आये थे. जिन बच्चों की शिकायत पर ये पूरी कार्यवाही हुई है दोनों बिहार के भागलपुर के रहने वाले हैं.

कात्रज थाने के प्रभारी इंस्पेक्टर मिलिंद गायकवाड़ के मुताबिक, पुलिस ने बच्चों के साथ यौन शोषण के आरोप में मौलाना रहीम (21) को गिरफ्तार किया है. आरोप है की मदरसे में पढ़ाने वाले बच्चों के साथ मौलाना रहीम गलत हरकतें करता था. वो बच्चों को धमकाकर रखता था इस वजह से कोई उसकी शिकायत नहीं कर रहा था.लेकिन दो बच्चे इससे परेशान होकर भाग गए तब ये मामला सामने आया है. दोनों बच्चे 23 जुलाई को मदरसा छोड़ कर भाग गये थे, और रेलवे स्टेशन पर घूमते हुए बाल अधिकार कार्यकर्ता डॉ यामिनी आदबे को मिले थे.

जिन बच्चों को छुड़ाया गया है उनमे से ज्यादातर बच्चे बिहार के रहने वाले. आरोपी मौलाना भी बिहार का ही रहने वाला है. सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. यामिनी अदबे ने बताया, “सभी बच्चों को अनाथाश्रम से निकालकर दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया है. जल्द ही, उनके बयान बाल कल्याण समिति के कार्यालय में दर्ज कराए जाएंगे।


Close Bitnami banner
Bitnami