Crime

मुंबई पुलिस के वर्दी वाले निकले हीरों के लूटेरे, दो गिरफ्तार

0

अगर अचानक आपके दफ्तार और दूकान पर वर्दी वाले आ धमके तो आप क्या करेंगे ज़ाहिर है। सिवाय उनकी बात मानने के आपके पास दूसरा विकलप नहीं बचता। लेकिन जब यही पुलिस वाले अपनी वर्दी की आड़ में लूट पात करें तो ? ऐसे ही एक मामला मुंबई में सामने आया है जहाँ दो पुलिस वालों ने मिलकर एक हिरा व्यापारी का लाखों का हीरा लूट लिया। शायद दोनों वर्दी धारी पकडे नहीं जाते अगर उनके दफ्तार में लगा सीसीटीवी कैमरा काम नहीं कर रहा होता। फिलहाल मुंबई पुलिस ने अपने ही दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया लिया है। चंद्रकांत गवरे (47) और संतोष गवस (44) है। पुलिस ने इनके पास से 12 लाख रुपए के हीरे जब्त किये है।

दरअसल ये मामला मुंबई के बोरीवली इलाके का है। जहाँ शहर के नामी हिरा व्यापारी का दफ्तर है। रोज़ की तरह बुधवार को भी उनके दफ्तर में कई कस्टमर मुजूद थे।तभी उनके दफ्तर में दो पुलिस वाले ये कहते हुए आ धमके की उन्हें एक आरोपी मनीष शाह की तलाश है। उस वक़्त मनीष शाह जौहरी जयेश ज़वेरी के दूकान पर ही हिरा खरीदने के नाम पर पहुंचा था। वहां आने वाले दो पुलिस वालों में से एक पुलिस वर्दी में था जबकि दूसरा सिविल में था। दफ्तर में पहुँचते ही दोनों ने जयेश को अपना पहचान पत्र दिखाया और वहीं मौजूद मनीष की पिटाई शुरू कर दी। जब उन्होंने उसकी पिटाई की वजह पूछी तो पुलिसकर्मियों ने बताया की मुंबई पुलिस को मनीष की पिछले कई महीनो से तलाश थी। उसके खिलाफ क्राफर्ड मार्केट पुलिस स्टेशन में केस दर्ज है।

पुलिसवालों ने जयेश से ये पुछा की आखिर ये जालसाज़ उनके यहाँ क्यों आया है ? तब जयेश शाह ने उन्हें बताया की वो एक हिरे के खरीदारी के सिलसिले में वहां आया था। जिसके बाद पुलिसवालों ने उनके दफ्तर से उस हिरे को भी ये कहते हुए ज़ब्त कर लिया की हिरा जयेश को पंचनामा के बाद ही मिलेगा। क्यूंकि जिस हीरे की डील मनीष शाह कर रहा था वो चोरी का है। फिर दोनों मनीष और हिरा लेकर निकलने लगे।

जब जौहरी जयेश ने पुलिस वालों को ये बताया की जो हिरा वो अपने साथ लेकर जा रहे हैं वो मनीष बेचने नहीं बतौर कस्टमर खरीदने आया था। लेकिन उन्होंने एक बात भी नहीं सुनी। जिसके बाद खुद जयेश ने हिरा से जुड़े सारे कागज़ात लेकर पुलिसवालों के साथ चलने की बात कही।पहले तो पुलिसवाले नहीं मानें लेकिन कुछ देर बाद उन्हें भी सात लेकर चलने की हामी भर दी।चारों एक कार से क्रोफैड मार्केट थाने के लिए निकले ही थे की रास्ते में ही ये कहते हुए उतार दिया की उन्हें एक दूसरे अपराधी को पकड़ने के लिए मलाड जाना है।

पुलिसवालों की ये बात जयेश को खटकी और वो सीधे अपने दफ्तर पहुंचे। और इस बात की पड़ताल में जुट गए की आखिर क्रोफैड मार्केट थाने में तैनात ये पुलिसवाले कौन हैं। तब जाकर उन्हें ये जानकारी मिली की मुंबई में ऐसा कोई पुलिस स्टेशन है ही नहीं और न ही कहीं हीरा चोरी का कोई केस ही दर्ज नहीं हुआ है।

जयेश ने तत्काल इस पूरे मामले की जानकारी बोरीवली पुलिस स्टेशन को दी। पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से पहले पुलिसवालों की पहचान की फिर दोनों गिरफ्तार कर लिया गया।

जोन 11 के डीसीपी विक्रम देशमाने ने बताया कि, गिरफ्तार आरोपियों के पास से 12 लाख रुपए का सामान रिकवर कर लिया गया है। और इस मामले में पुलिस ने चंद्रकांत गवारे और संतोष गवस के साथ साथ मनीष शाह के साथ एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। जांच में सामने आया है कि इस पूरे लूट का षड़यंत्र मनीष ने पुलिसवालों के साथ मिलकर बनाया था ,जबकि दो आरोपी अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। पुलिस ने इन सभी को कोर्ट में हाजिर किया। कोर्ट ने सभी आरोपियों को 5 तारीख तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश सुनाया।

 

Tahir Beig

जुड़वा बेटियों को जन्म देने के बाद ससुराल वालों से परेशान बहु ने दी जान

Previous article

सूफी गायक यश वडाली गिरफ्तार, अभिनेत्री ने लगाया था छेड़छाड़ का आरोप

Next article

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.

Close Bitnami banner
Bitnami