नौकरी दिलानें के आड़ में जिस्मफरोशी के धंदे में धकेलने वाले गैंग का भंडाफोड़

मुंबई के मानखुर्द पुलिस स्टेशन ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है जो महिलाओं को काम दिलाने का झांसा देकर उन्हें जिस्मफरोशी के धंदे में धकेल देता था।पुलिस इस गैंग के 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है जिसमे एक महिला भी शामिल है। इनकी गिरफ्तारी गुजरात से हुई है। पुलिस के हत्थे चढ़े ये आरोपी पहले महिलाओं को मुंबई से गुजरात कैटरिंग में काम दिलाने के नाम पर ले जाते थे और वहां जाकर महिलाओं को जिस्मफरोशी के नरक में धकेल देते थे।

इस गैंग का भंडाफोड़ तब हुआ जब 16 सितम्बर के दिन मानखुर्द के साठे नगर की रहने वाली महिला ने पुलिस में इस गिरोह के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी। जब पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू की तो इस गिरोह के बारे में एक एक कड़ियाँ खुलते गई। पुलिस की माने तो, इस गिरोह में कई महिलायें भी काम करती है। जो उन महिलाओं को झांसा देती थी जिसे काम की सख्त जरूरत होती है। वो पहले उनसे मिल जुलकर उनके मजबूरियों के बारे में पता लगाती और बाद में उन्हें काम दिलाने के बहाने गुजरात ले जाती और जिस्मफरोशी के नरक में धकेल देते थे। शिकायतकर्ता महिला ने बताया कि साठे नगर इलाके में रहने वाले मोतीलाल पखारे (60) ने 11 तारीख को कैटरिंग में काम दिलाने के नाम पर उसे गुजरात ले गया और वहाँ लेजाकर सेक्स के धंदे धकेल दिया। महिला कैसे भी करके वहां से बच निकली और मुंबई पहुंची और पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज करवाई।

पुलिस इन्स्पेक्टर सुहास हेमाडे इस मामले कि तहकीकात कि और गैंग का भंडाफोड़ कर आरोपियों को सलाखों के पीछे ड़ाल दिया।