नयना हत्याकांड में फैसला, तीन दोषी करार एक बना सरकारी गवाह

देश के चर्चित नयना पुजारी हत्याकांड में पूरे आठ साल बाद आज आज पुणे सेशन कोर्ट ने मुख्य आरोपी योगेश राउत सहित ने तीन आरोपियों को दोषी करार दिया है। जबकि चौथा आरोपी सरकारी गवाह बन गया है। अदालत कल यानी मंगलवार को सजा का एलान करेगी। न्यायधीश आई. आई येनकर की कोर्ट ने योगेश राउत, महेश ठाकुर, विश्वास हिंदुराव कदम को दोषी माना है। उनका चौथा साथी रमेश पांडुरंग चौधरी गवाह बन गया।

8 अगस्त 2009 कि रात जब सिनिक्रॉन सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करने वाली नयना पुजारी कैब से घर लौट रहीं थी तभी कैब ड्राइवर योगेश राऊत ने अपने  महेश ठाकुर, विश्वास हिंदुराव कदम और रमेश पांडुरंग चौधरी के साथ मिलकर पहले बलात्कार किया था फिर उसकी हत्या कर दी थी। अदालत में इस मामले की सुनवाई के दौरान  37 गवाह कोर्ट में पेश किए गए थे।

क्या था मामला ?

वारदात वाली रात नयना अपने दफ्तर से घर के लिए निकली तो थी लेकिन पहुंची नहीं थी। जिसके बाद उनके पति ने पुणे विमान नगर थाने में नयना की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी।अगले दिन नयन के एटीएम से पैसे निकलने शुरू हुए तब पुलिस हरकत में आयी थी। तब जाकर जंगल से नयना की लाश मिली थी, चेहरा पूरी तरह से क्षत-विक्षत था लेकिन कपड़ों से पहचान हो गयी थी।

Related image

जब शहर में बवाल मचा तो पुणे पुलिस ने नैना पुजारी की हत्या और बलात्कार के आरोप में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था। जिनकी पहचान योगेश राउत, महेश ठाकुर, विशाल कदम और राजेश चौधरी के तौर पर हुई थी। ।


Close Bitnami banner
Bitnami