पॉटहोल ने सुलझाई क़त्ल की गुत्थी

विरार में एक महिला की हत्या की गुत्थी सड़क के गड्ढ़े की वजह से सुलझी है। महिला के पति ने सुपारी देकर उसकी हत्या करा दी थी, लेकिन आरोपी जब रात के अंधेरे में उसकी लाश ठिकाने गलाने जे जा रहे थे तभी उनकी बाइक का संतुलन सड़क के गड्ढ़े की वजह से बिगड़ा और गिर पड़े। जब लोगों ने उन्हें घेरा तो लाश को वहीं छोड़ भाग निकले। इस मामले में 7 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें एक महिला भी शामिल है। इस कारण दिया हत्या को अंजाम…….
-जानकारी के मुताबिक, रमाबाई नामदेव पाटिल का (54) का अपने पति से पिछले 21 साल से विवाद चल रहा था। दोनों अलग अलग रहते थे।
– नामदेव रेलवे में गैंगमैन की नौकरी करता है। कोर्ट ने उसे पत्नी को गुजाराभत्ता देने का आदेश दिया था। इसी बात से वह काफी परेशान रहता था।
-उसने अपनी पत्नी की हत्या करने की साजिश रची और करझोन गांव की वंदना लक्ष्मण पवार की मदद से लक्ष्मण गोविंद कोबाड को उसकी हत्या के लिए ढाई लाख की सुपारी देने की योजना बनाई।
एेसे दिया हत्या को अंजाम
-रविवार की दोपहर वंदना ने रमा बाई को करझोन गांव के एक फार्म हाउस में रुपये देने के बहाने बुलाया।
-रमा वहां पहुंची, तो उस जगह पहले से पांडुरंग जीवन कदम, चंद्रकांत गणपत पडवले, लक्ष्मण गोविंद कोबाड, लक्ष्मण जीवन पवार व उसका बेटा राकेश लक्ष्मण पवार मौजूद थे।
-प्लान के मुताबिक उन्होंने पहले रमा को दोपहर का खाना खिलाया और बाद में उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी।
गड्ढे की वजह से फंसे हत्यारें
– आरोपियों ने लाश को अंधेरे में ही ठिकाने लगाने की सोची और रात 12 बजे के आसपास लाश को बाइक पर रखकर सुनसान जगह फेंकने निकले।
-जैसे ही घटनास्थल से थोड़ी दूर बुंधरपाडा स्थित आंगनवाडी के पास पहुंचे, बाइक का संतुलन बिगड़ने से लाश जमीन पर गिर पड़ी। लाश को देख गांव के कुत्ते भौंकने लगे।
-उसी वक्त गांव के लोग बाहर निकलकर आए, उन्हें देखते ही दोनों आरोपी लाश छोड़कर फरार हो गए। लेकिन गांव वालों ने आरोपियों को पहचान लिया और इसकी पुलिस को जानकारी दी।
-जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने महज 4 घंटे में सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

Close Bitnami banner
Bitnami