रेलवे पुलिस की अनोखी पहल दिव्यांग डब्बे में सफर करनेवालों का वीलचेयर पर बिठाकर स्वागत

मुंबई की लाइफ लाइन माने जाने वाली लोकल ट्रेन में दिव्यांगों के लिये रेलवे ने अलग डब्बा बनाया है. लेकिन कुछ लोग भीड़ से बचने के लिए दिव्यांगों के डब्बे में सफर करते है ऐसे में कुर्ला आरपीएफ ने दिव्यांग डब्बे में सफर कर रहे अच्छे खासे यात्रियों को सबक सिखाने की एक नई पहल शुरू की है.

पकडे जाने पर ऐसे लोगों के खिलाफ कोई कार्येवाही​करने के बजाय रेलवे प्रोटेक्शन फाॅर्स के अधिकारी उनका स्वागत कर रहे हैं. वो भी बिलकुल अलग तरीके से, जो कोई भी दिव्यांगों के डब्बे में पकड़ा जाता है वो उसे व्हील चेयर पर बिठाकर थाने के अंदर लाती है. ताकि उन्हें व्हील चेयर पर बैठा कर यह एहसास दिलाया जा सके की दिव्यांगों को रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी में कितने मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. 

अगर तस्वीरों कोदेखें तो व्हील चेयर पर दिव्यांगों की तरह बैठे ये सभी यात्री दरअसल अपंग नही बल्कि अच्छे भले है. लेकिन ये लोग लोकल ट्रेन में भीड़ से बचने के लिए दिव्यांग के डब्बे में सफर करते थे. जिसके बाद कुर्ला आरपीएफ ने 20 से अधिक लोगों पर कार्रवाई करते हुए सभी को व्हील चेयर पर इस तरह बिठाया मानो ये सभी दिव्यांग है. हालांकि आरपीएफ का कहना है कि इस तरह की करएवाही सिर्फ इसलिए कि गई है. सफर कर रहे इनलोगों को एहसास हो कि अगर रेलवे ने दिव्यांग के लिए अलग से डब्बा बनाया है तो उन्हें ही सफर करने दे.

आरपीएफ के मुताबिक दिव्यांग डब्बे में सफर करने वाले अच्छे यात्रिओ पर हमेशा कार्रवाई की जाती है. लेकिन इस तरह की कार्रवाई का मकसद उन यात्रियों  को सिर्फ एहसास दिलाना था कि जिनके लिए ये डब्बा बनाया गया है उन्हें ही सफर करने दे. शरीर से हष्ट पुष्ट यात्री इसमें सफर कर के उनको तकलीफ न दे.


Close Bitnami banner
Bitnami