पकड़ा गया ड्रग्स वाला खानदान ! सास से बहु तक थे शामिल

मुंबई पुलिस ने एक ऐसे ड्रग्स रैकेट का भड़ाफोड़ किया है जिसे चलाने में पूरा परिवार शामिल था। घर के बेटे ड्रग्स इकठ्ठा करते थे तो बहुओं ड्रग्स डिलीवर करने और नए कस्टमर लाने का काम करती थी तो सास की ज़िम्मेदारी थी पुलिस को चकमा देना। यानी पूरा परिवार सनअतिथ तरीके से मिलकर इस गिरोह को चला रहा था। इनकी ड्रग्स की सप्लाई बॉलीवुड से लेकर कॉल सेंटर तक थी और इस धंदे को गोरेगांव स्थित फिल्म सिटी के पास से चलाया जा रहा था। मुंबई पुलिस ने इस मामले में परिवार के चार सदस्यों को ड्रग्स सप्लाई के आरोप में गिरफ्तार किया है. नशे के सौदागर, इस परिवार के लोगों ने गोरेगांव स्थित फिल्म सिटी के पास अपना अड्डा बनाया था।  जहां से यह लोग कॉल सेंटर के युवाओं से लेकर फिल्मसिटी में काम करने वाले मॉडल और एक्टर्स को ड्रग मुहैया करवाते थे।

मुंबई पुलिस के हत्थे चार लोगों का ऐसा परिवार चढ़ा है। पकडे गए लोगों में माँ , बेटा, बहु सभी शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक़ ये पूरा परिवार पिछले  कई साल से ये धंदा चला रहा था। दिंडोशी पुलिस ने विजय श्याम परमार, उसकी माँ गीता श्याम परमार, पत्नी शालू रमेश परमार और उसकी भाभी, मरता राजू परमार को रंगे हाथों पकड़ा है।

अब तक की जांच में सामने आया है की , ड्रग्स की ये पूरी खेप गुजरात से लायी जाती थी। और बहुएँ अपनी खूबसूरती को हथियार बनाकर नए नए ग्राहक तलाशती थी। और डिलवर करने की ज़िम्मेदारी भी उनके ही कन्धों पर थी। ये पूरा धंदा चलाने वालों में घर की महिलाएं आगे थीं।

पुलिस छापे के दौरान पुलिस को भारी मात्रा में मादक पदार्थ मिले हैं। पूछताछ में इन्होने बताया है की, फिल्म सिटी के पास एक आईटी पार्क है, जहां कई सारे कॉल सेंटर्स है। वहां काम करने वाले युवा अक्सर इन ड्रग्स की खेप लिया करते हैं। उनके इलावा फिल्म सिटी में काम करने वाले मॉडल्स और कलाकार इनके क्लाइंट्स होते थे। ज़्यादातर वो लड़के लड़कियां जो फिल्मों में करियर बनाने और काम पाने के लिए स्ट्रगल करते है। ये लोग शुरू में तनाव दूर करने के नाम पर पहले इन्हें फ्री में ड्रग्स दिया करते थे और आदत लग जाने पर उनसे पैसे वसूले जाते थे।

पुलिस ने विजय श्याम परमार, उसकी माँ गीता श्याम परमार, पत्नी शालू रमेश परमार और उसकी भाभी, मरता राजू परमार को रंगे हाथों पकड़ा है।

 


Close Bitnami banner
Bitnami