पकडे गए चलती ट्रेन से करोड़ों का माल उड़ाने वाले

रेलवे पुलिस ने चोरी कि एक ऐसी पहेली को सुलझाया है। जिसमें ना पुलिस के पास ना ही कोई ठोस सबूत था, ना ही आरोपी का कोई सुराग। पुलिस के पास था तो सिर्फ फिर्यादी उदय सिंह का बयान। जिसमे उसने कहा था कि उसका ट्रेन में से किसी ने हिरे से भरे बैग चोरी कर ली।
फिर्यादी उदय सिंह लोकल कि ट्रेन से रोजाना सफर करता था। 21 तारीख को नालासोपारा से भीड़ भाड़ वाली लोकल ट्रेन से उसका बैग चोरी हो गया जिसमे 14  लाख रूपए के किमती हिरे और सोना था। बैग न मिलने के बाद उदय सिंह ने ट्रेन में अन्य यात्रियों से पूछ ताछ कि लेकिन किसी को भी उनके बैग के बारे में  कुछ भी पता नहीं था। जिसके बाद उदय सिंह पुलिस थाने में जाकर किमती हिरे से भरी बैग चोरी होने कि शिकायत की।
लेकिन पुलिस भी उदय सिंह के बयान सुनकर हैरान हो गयी।और सोच में पड़ गयी की इतनी भीड़ भाड़ वाली ट्रेन में चोर बैग लेकर गायब कैसे हो सकता है। जिसके बाद पुलिस कई यात्रियों से पूछ ताछ भी की लेकिन उसके हाथ चोर का कोई सुराग नहीं लग पाया। फिर पुलिस ने उदय ने जिस स्टेशन  से गाडी पकड़ी और जिस स्टेशन पर उतरा, वहाँ तक के सभी स्टेशन के सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू कर दिया। इसी बीच पुलिस को एक शख्स ट्रेन में से ठीक उसी तरह का बैग ले जाते हुए दिखा जिस तरह का बैग उदय ने पुलिस को बताया था। उसके बाद वसई रेलवे पुलिस ने उस आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

Close Bitnami banner
Bitnami