जनशताब्दी एक्सप्रेस को थी पटरी से उतारने की साज़िश,पांच लोग गिरफ्तार

ढाई महीने बाद मुंब्रा पुलिस ने एक सनसनी ख़ेज़ खुलासा किया है। अगर मुंब्रा पुलिस की मानें तो 25 जनवरी को मुंबई से सटे दिवा रेलवे स्टेशन के कोंकण रेलवे लाइन की पटरी पर सात मीटर (15 फ़ीट) लंबा लोहे का रॉड मिला था वो एक साज़िश का बड़ा हिस्सा था। इस मामले में मुंब्रा पुलिस ने गुरुवार को 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। जिन्होंने पूछताछ में बताया है की, इनका मकसद ” मडगांव दादर जन शताब्दी एक्सप्रेस ” को बेपटरी करने का था। पुलिस की माने तो गिरफ्तार 5 लोग डोम्बिवली के रहने वाले और ड्रग्स एडिक्ट है।

इस मामले में ढाई महीने बाद जब जीआरपी की टीम को इस मामले को सुलझाने में कोई भी कामयाबी नही मिली तब मामले को मुंब्रा पुलिस के हाथ दे दिया गया था। कार्यवाही करते हुए मुंब्रा पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है,और मामले की जांच और मजबूती से कर रही है ताकि और कई खुलासे हो सके। पुलिस पूछताछ में किसी ने भी आतंकी संघटना से जुड़े होने की बात नही कबुली है।

क्या है ये मामला?

25 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस के एक दिन पहले मुंबई से सटे दिवा रेलवे स्टेशन के पास कोंकण रेलवे लाइन पर 380 किलों का 7 मीटर लंबा लोहे का रॉड रखा गया था। उस समय मडगांव दादर जनशताब्दी एक्सप्रेस दुर्घटना ग्रस्त होते होते बच गई थी। ट्रेन के ड्राइवर हरीश चिंचवाले की सूझबूझ और पैनी नज़र से ट्रेन में सवार 700 यात्रियों की जान बच गई थी। 25 जनवरी की रात 10:30 बजे मडगांव दादर जन शताब्दी एक्सप्रेस के ड्राइवर ने दिवा स्टेशन के पास कोंकण रेलवे लाइन पर रखी हुई रॉड को कुछ ही दूर पहले ही देख लिया था।तभी ड्राइवर ने सूझ बूझ से गाड़ी को रोक दिया और स्थानिक लोगों की मदत से रॉड को हटाया गया।बाद में ट्रेन को आगे जाने दिया गया।

पिछले चार से पांच महीने में देश मे तीन से चार बड़े रेल हादसे हुए है। ओडिशा,कानपुर , रकसोल दरभंगा और इंदौर पटना एक्सप्रेस रेलवे दुर्घटना ग्रस्त में करीब 300 लोगों ने अपनी जान गवाई है और 500 से अधिक लोग घायल हो गए थे।


Close Bitnami banner
Bitnami