Jharkhand : लातेहार में दर्दनाक हादसा, ‘करमा विसर्जन’ करने गई सात लड़कियों की डूबने से मौत, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया शोक

झारखंड के लातेहार जिले में आदिवासी पर्व करमा पूजन के बाद ‘डाली’ का विसर्जन करने गई 10 लड़कियों की टोली में से सात लड़कियों की शनिवार को तलाब में डूबने से मौत हो गई. इनमें से छह बच्चियां एक ही परिवार की थीं. यह जानकारी लातेहार के उपायुक्त अबू इमरान ने दी. वहीं, इस घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शोक व्यक्त किया है. 

राष्ट्रपति ने ट्वीट करते हुए कहा, “लातेहार, झारखंड में करम डाली विसर्जन के दौरान हुए दर्दनाक हादसे में कई बच्चियों की मृत्यु का समाचार सुनकर बेहद व्यथित हूँ. दुःख की इस घड़ी में, शोकाकुल परिवारजनों के प्रति मैं गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.” 

वहीं पीएमओ ने ट्वीट किया, “झारखंड के लातेहार जिले में डूबने से हुई मौत से सदमे में हूं. दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना.”

लातेहार के उपायुक्त अबू इमरान ने बताया कि घटना शनिवार दोपहर लगभग 12 बजे के करीब ज़िले के बालूमाथ प्रखंड में शेरागड़ा पंचायत के बुकरू गांव के मननडीह में घटी. उन्होंने बताया कि सभी मृत लड़कियों के शव तालाब से निकाल लिये गये हैं और उन्हें पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल भेज दिया गया है. मृत सभी लड़कियों की उम्र 12 से 20 साल के बीच है.

उपायुक्त ने बताया कि मौके पर राहत एवं बचाव कार्य के बाद मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिये गये हैं और पूरी घटना की जांच उप उपायुक्त सुरेन्द्र वर्मा करेंगे. उन्होंने बताया कि गांव की 10 बच्चियों की टोली करम डाली को लेकर गांव में ही रेलवे लाइन के समीप बने तालाब में विसर्जन करने गई थी. वृक्षों के पत्तों एवं डालियों से बनी पूजा की डाली का विसर्जन हो ही रहा था कि अचानक दो बच्चियां गहरे पानी में चली गईं और डूबने लगी, उन्हें बचाने के लिए बाकी की पांच लड़कियां भी गईं और सातों लड़किया डूब गईं.

इमरान ने बताया कि किनारे खड़ी तीन लड़कियों के शोर मचाने पर मौके पर पहुंचे ग्रामीण तालाब में उतरे और लड़कियों को निकाला लेकिन तब तक चार लड़कियों की मौत हो चुकी थी. उन्होंने बताया कि तीन लड़कियों की मौत बालूमाथ स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) ले जाने के दौरान हुई. उन्होंने बताया कि मृत लड़कियों की पहचान, रेखा कुमारी (18), रीना कुमारी (16), लक्ष्मी कुमारी (12 वर्ष) तीनों सगी बहने हैं, सुषमा कुमारी (12), पिंकी कुमारी (18), सुनीता कुमारी (20) और बसन्ती कुमारी (12) के तौर पर की गई है.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने घटना दुःख व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर परमात्मा से दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान कर शोक संतप्त परिवारों को दुःख की घड़ी को सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की है. बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास एवं प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने घटना पर शोक प्रकट करते हुए मृत लड़कियों के परिजनों को दस-दस लाख रुपये की सहायता राशि देने की मांग की है.


Close Bitnami banner
Bitnami