SHOCKING: तो क्या अथर्वा का यौन शोषण कर उसकी हत्या की गई ?

अथर्वा शिंदे हत्याकांड में अब एक नया मोड़ आ गया है. अगर सूत्रों की मानें, तो ड्रग्स वाली पार्टी में अथर्वा के साथ यौन शोषण हुआ था. इसी दरम्यान उसके साथ मारपीट भी की गयी थी. जिसकी पुष्टि उसके पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट में भी हो चूका है. लेकिन हैरान करने वाली बात ये है की इस मामले की तफ्तीश कर रही पुलिस पूरी तरह खामोश रही. अब अथर्वा के पिता इंस्पेक्टर नरेंद्र शिंदे ने अपने ही विभाग यानी मुंबई पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उनका कहना है की स्थानीय पुलिस मामले की तफ्तीश नहीं करना चाहती. कोई तो है जिसे बचने की कोशिश हो रही है. उन्होंने आरे पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए सूबे के डीजी को एक चिट्ठी लिखी है और अथर्व की हत्या की जांच मुंबई क्राइम ब्रांच के हवाले करने की मांग की है.

इसके साथ ही उन्होंने एक पत्र मुंबई पुलिस आयुक्त को भी लिखा है. उनका आरोप है कि अथर्व की मौत स्वभाविक नहीं है, बल्कि उसकी किसी ने हत्या कर लाश को तालाब किनारे फेंक दिया है. नरेंद्र शिंदे का आरोप है की मामले की जांच कर रही पुलिस ने आखिर इस बात को क्यों छुपाया की उनके बेटे अथर्वा के साथ यौन शोषण किया गया था.

अब इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है. नरेंद्र शिंदे ने सीधे तौर पर आरोप लगाया है कि, पोस्टमॉर्टेम में इस बात की पुष्टि हुई थी की अथर्वा शिंदे के प्राइवेट्स पार्ट्स पर गंभीर चोटें थी तो पुलिस ने इस मामले की तरफ ध्यान क्यों नहीं दिया. CCTV फुटेज में अथर्वा बंगले से निकलकर भागता हुआ दिखाई दे रहा है तो इस बात की पूरी सम्भावना थी की अंडर उसके साथ कुछ गलत हुआ और वो खुद को बचने के लिए वहां से भागा था.

ज़ाहिर तौर पर इस पार्टी को ऑर्गनिज़ करने वाले लोग पहुँच वाले हैं इसी लिए पुलिस की तफ्तीश सही ढंग से नहीं हो रही है. आरे पुलिस इस बात का इंतज़ार कर रही है की बांग्ला नंबर 212 से सारे सबूत मिट जाए और दोषी हैं वो आसानी से बच जाएँ.

वहीँ दूसरी तरफ अब इस मामले कि जांच में जुटी क्राइम ब्रांच ने उस पार्टी में शामिल होने वाले सभी लोगों एक बार फिर से पूछताछ के लिए बुलाया है. इसके साथ ही उस मराठी प्रोड्यूसर से भी पूछताछ की जा रही है जिसकी बेटी ने इस पार्टी को ऑर्गनिज़ की थी.


Close Bitnami banner
Bitnami