SHOCKING: वर्दी पहनकर भीखा माँगना चाहता है मुंबई पुलिस कांस्‍टेबल

या तो पत्नी का इलाज करने के लिए सैलरी दो या फिर इस बात की इजाज़त की मैं वर्दी पहनकर भीख मांग सकूँ। मुंबई पुलिस के एक कांस्टेबल ने यही पत्र मुंबई पुलिस कमिश्नर, मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखकर इजाज़त मांगी है।कांस्टेबल ने अर्ज़ी लिखकर आला अधिकारियों से गुहार लगाई है कि उन्हें वर्दी में भीख मांगने की इजाजत दी जाए। कांस्टेबल ने अपनी अर्ज़ी में आरोप लगाया है की जिस विभाग में उसकी पोस्टिंग है संबंधित विभाग ने उसे दो महीने से सैलरी तक नहीं दी है। उनका सिर्फ इतनी गलती है की उन्होंने बीमार पत्नी के इलाज के लिए छुट्टी ली थी।

ये पत्र पुलिस कांस्टबेल दिनेश्वर अहीर राव ने अपने आला अफसर यानी डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस के साथ राज्य के मुख्यंत्री देवेंद्र फणनवीस, राज्यपाल विद्यासागर राव और मुंबई पुलिस कमिश्नर दत्ता पी. को पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा है की आज उनकी हालात बद से बदतर हो गयी है। पत्नी बीमार है और उसका इलाज कराने के लिए भी पैसे नहीं है इन सबके बीच उसके ऊपर क़र्ज़ बढ़ता जा रहा है। इस लिए उन्हें इस बात की इजाज़त मिले की वो अपना घर का खर्च चलाने के लिए पुलिस की वर्दी में भीख मांग सकें।

कांस्टेबल ने अपनी अर्ज़ी में लिखा है कि ‘मैंने इस साल मार्च में छुट्टी ली। क्यूंकि मेरी पत्नी का पैर टूट गया था और वो बिस्तर पर थी। उसे देखने वाला मेरे इलावा कोई नहीं था। उसकी देखरेख के लिए मैंने छुट्टी ली और मैं ड्यूटी पर नहीं आ सका।’ ऐसा नहीं है की मैंने बिना इजाज़त छुट्टी ली थी इसके लिए मैंने ड्यूटी इंचार्ज को फोन के जरिए आपात सूचना भी दी थी और पांच दिन की छुट्टी ली। बाद में जब पत्नी ठीक हुई तो मैंने 28 मार्च से ड्यूटी ज्वाइन कर ली। बस उसी छुट्टी के एवज में मेरी दो महीने कि सैलरी रोक दी गई है।

कॉन्स्टेबल ने पत्र में आगे लिखा गया है कि मुझे पर कई ज़िम्मेदारी है मेरी पत्नी बीमार है और घर में बूढ़े मां-बाप के अलावा एक बच्ची भी है जो पढ़ रही है, उसका भी ख्याल रखना है। मैंने लोन भी ले रखा है जिसकी किश्त मुझे भरनी पड़ती है। सैलरी रुक जाने से पूरे परिवार पर आफत आ गया हैघर का खर्च नहीं चल पा रहा। अपनी परेशानी से हारकर मैं आपसे वर्दी में भीख मांगने की अनुमति चाहता हूं, ताकि घर का खर्च चला सकूं।


Close Bitnami banner
Bitnami