SUPER COP: कई HIGH PROFILE केस सुलझाए थे इस सुपर कॉप ने

मुंबई पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट IPS अफसर हिमांशु रॉय ने खुदकुशी कर ली है. जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को उन्होंने अपनी सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली. अपने सरकारी आवास पर आज दोपहर करीब 1.40 बजे उन्होंने खुद को गोली मार ली.

लेकिन बहुत काम ही लोग जानते हैं की कैंसर से हार कर अपनी ज़िंदगी खत्म करने वाले इस अफसर को सिर्फ एक ही शौक़ था अच्छा खाना और अपना शरीर बनाना. हिमांशु रॉय को जिम से बेहद लगाव था. वो कितना भी बिज़ी क्यों न रहे जिम जाना नहीं छोडते थे. उनके साथियों के मुताबिक, हिमांशु रॉय की पहचान डिपार्टमेंट में बेहद सख्त अफसर के तौर पर की जाती है. लेकिन रॉय लंबे समय से ब्लड कैंसर से पीड़ित थे. वो काम करने वाले अफसर थे लेकिन कई महीनों से घर पर रहने की वजह से परेशान रहने लगे थे. अक्सर वो अपनी पत्नी से भी झगड़ा करने लगते थे.

आज काफी वक़्त तक वो अपने ही कमरे में बंद थे तभी घरवालों को उनके कमरे से गोली की आवाज़ आई. जाकर देखा गया तो वो बीएड के पास ही गिरे थे और काफी खून बह रहा था. उनके घरवाले गोली लगने के बाद उन्हें बॉम्बे हॉस्पिटल लेकर पहुंचे थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे. हिमांशु रॉय ने अपने मुँह के अंदर पिस्टल रखकर गोली मारी थी. जिसके चलते उन्हें बचाना बेहद मुश्किल हो गया था.

Super कॉप थे हिमांशु

मुंबई पुलिस और मीडिया में हिमांशु रॉय की पहचान सुपर कॉप की थी. कोई भी अपराध हो वो बेहद गंभीरता से लेते थे. जब साल 2013 में आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग का मामला सामने आया उन्होंने किसी भी है प्रोफ़ाइल शख्स को नहीं बक्शा. इस मामले में कई बड़ी गिरफ्तारियां हुई थी. इतना ही नहीं दाऊद गैंग के खात्मे और दाऊद की संपत्ति को जब्त करने में भी उनकी अहम् भूमिका थी. इसके अलावा अंडरवर्ल्ड की कवरेज करने वाले चर्चित पत्रकार जेडे की हत्या की गुत्थी को भी उन्होंने सुलझाने में अहम भूमिका निभाई थी. 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हिमांशु रॉय बीमारी के चलते 2016 से ऑफिस नहीं जा रहे थे।


Close Bitnami banner
Bitnami