टुकड़ो में मिली थी दुल्हन कि लाश, टैटू ने सुलझाई क़त्ल कि गुत्थी

पुलिस ने आख़िरकार चार दिन पहले अलग अलग टुकड़ों में मिली लाश की गुत्थी सुलझा ली है। लाश कि शिनाख्त 24 साल के प्रियंका गुरव के तौर पर हुई है जिसकी शादी हाल में ही सिद्देश गुरव से हुई थी। लाश अलग टुकड़ों में मिली थी जिससे पूरे शहर में सनसनी मची हुई थी। क़त्ल कि ये पहेली नहीं सुलझती कि अगर लाश पर एक टैटू न होता। पुलिस ने इस मामले में लड़की के पति, सास-ससुर समेत 5 लोगों को हत्या के आरोप में अरेस्ट कर लिया गया है। हत्या के आरोप में सिद्धेश और उसके माता-पिता समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

Priyanka went missing on May 5

Victim Priyanka Gurav 

मामले कि जांच कर रहे अधिकारी के मुताबिक़, मृतका प्रियंका गुरव 5 मई से गायब थी। उसके लापता होने से महज़ हफ्ते भर पहले ही प्रियंका की सिद्धेश के साथ शादी हुई थी। सिद्धेश अपने पूरे परिवार के साथ मुंबई के वर्ली इलाके में रहता है।अब तक कि जांच में जो बात सामने आई है उसके मुताबिक सिद्देश ने प्रियंका से दबाव में आकर शादी कि थी। और इसी बात को लेकर दोनों में अक्सर झाड़ा भी होता था। लेकिन 4 मई को जब प्रियंका सो रही थी तभी उसकी गाला दबाकर हत्या कि गयी फिर लाश को टुकड़ों में करके अलग अलग इलाके में फेक दिए गया। सिद्देश ने लाश के कई टुकड़े अपने वर्ली के घर में किये और शव के कई हिस्सों को प्लास्टिक बैग और चादर में लपेट कर शहर से दूर फेंका गया।  

 

Husband Siddhesh

कोई लाश कि शिनाख्त न कर सके इसके लिए उसका सिर काटकर अलग जगह फेंका गया था जबकि शरीर के दूसरे हिस्सों को अलग इलाके में। लेकिन कहते हैं क़ातिल कितना भी शातिर क्यों न हो कोई न कोई गलती ज़रूर करता है। प्रियंका के शरीर पर बने भगवान गणेश और ओम के टैटू से शव की शिनाख्त की गई और फिर एक एक कड़ियाँ जोड़ते जोड़ते पुलिस क़ातिल तक पांच गई।  

The tattoo on Priyanka

अब तक इस मामले में पुलिस ने आरोपी पति सिद्देश के इलावा उसके माँ बाप के अलावा जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया है। ये वो लोग हैं जिन्होंने लाश को ठिकाने लगाने में सिद्देश कि मदद कि थी। पकड़े उन्हीं लोगों की निशानदेही पर पुलिस ने प्रियंका के शव के दूसरे हिस्सों को बरामद किया। फिलहाल गिरफ्त में आए आरोपियों से पूछताछ जारी है। जांच टीम के मुताबिक शुरूआती तफ्तीश में लाश कि शिनाख्त उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती थी। मुंबई, नवी मुंबई और थाने के हर इलाके में टैटू वाली तस्वीर भेजी गई थी। तभी मृतक कि बहन ने उसकी पहचान कि और यही पुलिस के लिए सबसे बड़ी लीड थी। इस वक़्त पुलिस उस गाडी को ढूंढ रही है जिसमे रख कर लाश के इन टुकड़ों को ठिकाने लगाया गया था। ​