पुणे में रेप पीड़ित ने आरोपी के जेल से छूटते ही सड़क पर उतारा मौत के घाट

बदले की ये कहानी किसी फ़िल्मी कहानी से कम नहीं है। जहाँ एक पीड़ित ने इंसाफ पाने के लिए कानून की चौखट खटखटाई, और जब इंसाफ में देरी हुई तो उसने खुद कानून को अपने हाँथ में ले लिया। सब कुछ ऐसा ही हुआ पुणे के नीरा नरसिंहपुर गांव में जहाँ बलात्कार की एक पीड़िता ने अपने आरोपी को बीच चौराहे पर ही मौत के घाट उतार दिया। और इस बदले में खुद उसके पिता ने ही उसका साथ दिया। इतना ही नहीं लड़की ने खुद इसकी जानकारी फ़ोन कर पुलिस को दी।

वारदात गुरुवार की है, पुणे के नीरा नरसिंहपुर गांव में रहने वाली एक बलात्कार पीड़ित को, जब ये जानकारी मिली की उसके रेप के आरोप में गिरफ्तार आरोपी जेल से ज़मानत पर रिहा हुआ है तो वो बेचैन हो उठी। उसे ये लगने लगा की उसे इन्साफ नहीं मिलेगा। फिर वो उस आरोपी के बारे में पता करने जुट गई। पता लगा की जिस लड़के ने अपने चचेरे भाई के साथ मिलकर उसका रेप किया है वो जेल से छूट गया है और गांव से दूर इंदापुर शहर में एक हाॅस्टेल में वहां रहकर वह पढ़ाई कर रहा है।

इसी बीच उसे पता चला की अपनी परीक्षा ख़त्म कर वो वापस अपने घर वालों से मिलने आ रहा है। वो पूरे दिन उसका इंतज़ार करती रही। आरोपी युवक एग्जाम खत्म होने के बाद गुरूवार दोपहर को जैसे ही अपने माता पिता से मिलने आया। तभी लड़की और उसके पिता ने हाथ में धारदार हथियार लेकर उसके पीछे दौड़ गए। किसी तरह लड़का अपनी  जान बचाने के लिए यहाँ वहां भागता रहा लेकिन तब तक लड़की ने उसकी छाती पर वार कर दिया । लहूलुहान लड़का वही गिर पड़ा। लड़की ने उस पर कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई  और ये सब कुछ हुआ भीड़ भाड़ वाले एक चौराहे पर , मगर लड़के को बचाने कोई नहीं आया।

जब लड़के की साँसे थम गयी तब तक खुद लड़की ने पुलिस को फोन कर इस पूरे घटना की जानकारी दी। जब तक मौके पर पुलिस नहीं पहुंची वो वही बैठकर उसका इंतज़ार करती रही। पुलिस ने लड़की और उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया है।


Close Bitnami banner
Bitnami