VIDEO: पानी से सुलग उठा औरंगाबाद, 2 की मौत कई घायल

महाराष्ट्र का औरंगाबाद शहर कल रात अचानक जल उठा. शहर में बीती रात दो समुदायों के बीच हिंसा भड़क उठी. हालत इतने बिगड़ गए की भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी. अब तक दो की मौत की पुष्टि हो चुकी है. वहीँ औरंगाबाद के पुराने इलाके में अभी भी तनाव की स्थिति बनी हुई है. दंगाइयों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 15 पुलिसकर्मियों सहित 25 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

गृह राज्यमंत्री दीपक केसरकर ने भी अब तक दो की मौत की पुष्टि कर दी है. उन्होंने बताया की फिलहाल शांति कायम करने की कोशिश की जा रही है. इस पूरे बवाल ki शुरुआत अवैध नलों के कनेक्शन काटने को लेकर हुआ था. इस बवाल में कुल 30 लोग घायल होने की खबर है. पथराव में ज़िले के उपायुक्त गोवर्धन कोलेकर समेत 10 पुलिस कर्मी भी शामिलहै.

औरंगाबाद के स्पेशल IG मिलिंद भारांबे ने जानकारी दी है कि, शान्ति कायम करने के लिए और दंगाइयों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने कुछ राउंड्स फाइरिंग कि है. शुक्रवार को एक झगड़े ने दोनों समुदायों के बीच हिंसक झड़प का रूप ले लिया, जिसके बाद दंगा शहर के गांधीनगर, राजाबाजार और शाहगंज इलाकों में भी फैल गया.

हालंकि शुक्रवार की रात से ही रह-रहकर ये हिंसक झड़पें जारी हैं और प्रभावित इलाकों में दोनों समुदायों के लोगों ने एक दूसरे पर जमकर पत्थरबाजी की और दुकानों को आग के हवाले कर दिया. इसकी सबस पहले शुरुआत पुराने इलाके से हुई थी, फिलहाल औरंगाबाद के पुराने हिस्से में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दी गई है और धारा 144 लागू कर दी गई है.

वहीँ पुलिस का कहना है कि कारण अभी भी स्पष्ट नहीं है. हिंसा किस बात को लेकर भड़की. कहा जा रहा है कि अवैध रूप से लगाई गई पानी की पाइप लाइन काटने में भेदभाव के चलते यह झगड़ा शुरू हुआ. वहीं व्यावसायिक वर्चस्व की बात भी सामने आ रही है. फिलहाल शहर में बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात है और तनाव जैसी स्थिति बनी हुई है.


Close Bitnami banner
Bitnami