सुलझ गई दोहरे हत्याकांड की गुत्थी, एस्टेट ऐजेंट निकला क़ातिल

पालघर के विरार में हुए बाप और बेटे के दोहरे हत्याकांड की गुत्थी को पुलिस ने महज 48 घंटों के भीतर ही सुलझा लिया है।इस मामले में बाप बेटे का हत्यारा एक इस्टेट एजेंट निकला है। जिसे पुलिस ने गिराफ्तार कर लिया। आरोपी इस्टेट एजेंट विष्णु बलीराम पाटील ने चंद्रकांत करगल और उसके बेटे हर्ष की हत्या फ्लैट की मांग को लेकर की थी। पुलिस ने इस्टेट एजेंट विष्णु बलीराम पाटील और उसके दो साथी को गिराफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें :

विरार में दोहरे हत्याकांड से सनसनी,कुछ ही घंटों के फासले पर मिली बाप और बेटे की लाश

चंद्रकांत करगल अपनी पत्नी और बेटे हर्ष के साथ विरार पूर्व सहकार नगर स्थित ओम अपार्टमेंट में रहता था। वहाँ पर उसकी पहचान आरोपी विष्णु से हुई थी। विष्णु ने चंद्रकांत को पास में ही फ्लैट दिलाने की बात कही और चंद्रकांत को एक महिला का फ्लैट भी दिखाया। 12 लाख रुपये में बात पक्की हो गई। और चंद्रकांत ने विष्णु को 12 लाख रुपये दे दिया। लेकिन आरोपी विष्णु ने फ्लैट मालकिन को सिर्फ सात लाख रुपये ही दिए और बाकी के पांच लाख रुपये को खुद गबन कर लिया। जब चंद्रकांत विष्णु से फ्लैट की मांग करता तो उसे टाल देता। काफी दिन बीत जाने के बाद चंद्रकांत विष्णु से रुपये की मांग करने लगा जिसके बाद आरोपी ने चंद्रकांत को रास्ते से हटाने की साजिश रची।

सोमवार की दोपहर जब करगल अपने बेटे हर्ष को स्कूल से घर ला रहा था तभी पाटील अपने दोस्त मोनू हरी साहनी के साथ स्विप्ट कार से आया और दोनों को बहला फुसलाकर  विरार पश्चिम के बोलींज स्थित एक फ़्लैट में ले गया जहाँ दोनों की हत्या कर दी और दोनों के शव को अलग अलग जगहों पर फेंक दिया।

 


Close Bitnami banner
Bitnami